Another Man Sex Kahani – सहेली के पति ने सेक्स की प्यास बुझाई

दूसरे मर्द की सेक्स कहानी में पढ़ें कि जब लड़की को अपने पति से सेक्स का सुख नहीं मिला तो वह अपनी सहेली के पति की ओर आकर्षित हो गयी. उन्होंने कैसे सेक्स किया?

कहानी का पहला भाग
कामुक लड़की
आपने पढ़ा कि राजेश अपनी पत्नी की सहेली सविता के घर खाना खाने गया।
वहां सविता ने उसे अपने घर में रहने के लिए मना लिया.

अब दूसरे आदमी की सेक्स कहानी पर:

अगले दिन सुबह सविता ने सुगंधा से कहा- मैंने जीजाजी को यहीं रुकने के लिए मना लिया है, तुम भी बताओ. कहा बाहर खाना खाना है, रात के समय बाहर खाना भी ठीक नहीं है।
सुगंधा बोली- तुम्हें दिक्कत होगी, दो-चार दिन की बात नहीं है.. पता नहीं कितने महीने लग जायेंगे।
सविता बोली- जब तक वह यहां रहेगा, मेरी जिंदगी मुस्कुराती रहेगी. अन्यथा, आप पहले से ही जानते हैं.

तभी सविता ने राजेश को फोन किया- मैं आपका लंच लेकर होटल आ जाऊंगी. यदि आप सामान ले जाएं तो मैं इसे अपने साथ ले जाऊंगा। तुम रात को सीधे घर आ जाना.
राजेश हंसते हुए बोला- आधी घरवाली की तरह आदेश देती हो या पूरी घरवाली की तरह? तो मैं इससे कैसे बच सकता हूँ?

सविता राजेश का सामान ले आई और कोठी के बाहरी हिस्से में गेस्ट रूम का नवीनीकरण करवाया।

जब सविता ने यह सब बात कपिल को बताई तो वह बहुत खुश हुआ।

सविता ने कहा- जब जीजाजी यहाँ होंगे तो तुम्हें उनके साथ खाना खाना चाहिए और जब तक वो यहाँ हैं, तुम्हें चिल्लाना नहीं चाहिए।
कपिल मुस्कुराए और बोले- मैं कल नाश्ता करूंगा, डिनर का तो मुझे पता ही नहीं. हाँ, अब कोई झगड़ा नहीं होगा, तुम भी मुझे नहीं टोकोगे।

रात को राजेश जल्दी आ गया.
कपिल नहीं आये.

सविता ने सुगंधा से राजेश की पसंदीदा डिश बनाने को कहा.
राजेश ने बार-बार खाने की तारीफ की.

खाना खाने के बाद राजेश अपने कमरे में चला गया, उसे ऑफिस का कुछ काम करना था।

रात को जब कपिल आया तो सविता ने अपनी आदत के अनुसार उससे खाने की जिद की तो कपिल ने केवल एक रोटी खाई और उठ गया।

सविता अच्छी तरह से तैयार थी इसलिए वह चाहती थी कि कपिल उसके साथ बिस्तर पर सेक्स करे!
लेकिन कपिल नशे में थे.

लेकिन फिर भी उन दोनों ने कोशिश की.
सविता ने पहल करते हुए अपने और कपिल के कपड़े उतार दिए और उसे उत्तेजित करने के लिए उसका लंड मुँह में लेकर चूसने लगी।
लेकिन कपिल के उत्साह में कोई खास फर्क नहीं पड़ा.

कपिल उसके बड़े स्तनों की बहुत तारीफ करता था इसलिए सविता ने अपने स्तन उसके मुँह में भर दिये और कपिल के ऊपर लेट गयी!

अब कपिल का लंड थोड़ा टाइट हो गया था, सविता ने इसे अपनी किस्मत समझकर अपने हाथ से उसके लंड को अपनी चूत में डालने की कोशिश की.
लंड बार बार फिसल कर बाहर निकल जाता.

कपिल भी बेबस हो रहे थे.
आख़िर उसने सविता को लिटाया और सविता की मदद से अपना लंड उसकी फांकों के बीच घुसा दिया और धक्के लगाने की कोशिश करने लगा!
लेकिन पेलम इससे ज्यादा बर्दाश्त नहीं कर पाया, वो झट से सविता के बगल में गिर गया और सो गया.

हमेशा की तरह सविता कसमसाती रही और आख़िरकार अपने वाइब्रेटर की मदद से खुद को शांत किया।
लेकिन आज जब वो वाइब्रेटर कर रही थी तो उसके दिमाग में राजेश का मुस्कुराता हुआ चेहरा था.

एक दो दिन तो ऐसे ही निकल गये.
राजेश भी बहुत खुश था.

सविता सुगंधा को फोन करके राजेश की पसंद-नापसंद के बारे में पूछती थी, फिर वह उसकी पसंद के हिसाब से खाना बनाती थी.

अब सविता को खाना बनाना और अच्छे कपड़े पहनना अच्छा लगने लगा।
कोई तो होता जो अब उसकी तारीफ करता.

एक रात अचानक मौसम खराब हो गया. बादल जोर से गरजे।

कपिल तो नहीं आये लेकिन उनके एक दोस्त का फ़ोन आया कि अगर मौसम अच्छा नहीं हुआ तो वो कपिल को अपने यहाँ सुला लेंगे.
तो सविता ने भी इस बात पर सहमति जताई कि वहीं सोना बेहतर है क्योंकि बारिश में यहां गाड़ी चलाना खतरनाक है.

गरज के कारण सविता घबरा रही थी इसलिए वह अतिथि कक्ष की ओर चल दी।
राजेश जाग रहा था.

सविता ने छोटी नाइटवियर पहनी हुई थी.
अब वह राजेश से काफी घुलमिल गई थी इसलिए कोई पर्दा नहीं था.

राजेश भी बरमूडा और टी-शर्ट में था.
राजेश इस समय सविता को यहाँ देखकर चौंक गया।

तो सविता ने सब कुछ बताया और कहा कि उसे अकेले रहने में डर लगता है इसलिए वह उसे बुलाने आई थी कि चलो वहाँ आओ और कॉफी पीते हैं।
राजेश ने उससे कहा कि अब तो वह आधी से कुछ ज्यादा गृहिणी बन गई है तो ‘आप’ के साथ यह औपचारिकता क्यों। हम दोस्त बनकर आपके पास क्यों नहीं आते?

सविता ने मुस्कुराते हुए कहा- तो दोस्तों के तौर पर गले भी लगाया जा सकता है.
राजेश ने अपनी बाहें फैला दीं और सविता उसकी बांहों में झूल गई.

तभी राजेश को उसकी नुकीली चुचियों और शरीर की गर्मी महसूस हुई और उसके शरीर में करंट दौड़ गया.
उसने आगे बढ़ कर सविता को चूम लिया और पूछा- तुम्हें बुरा तो नहीं लगेगा?
सविता ने पलट कर उसके होठों को चूम लिया और बोली- तुम्हारे आने से मुझे मुस्कुराने का मौका मिला है.. इसलिए मैं तुम्हारी बात का बुरा नहीं मानूंगी।

राजेश का तंबू तना हुआ था.

खैर, वह सविता के साथ आया और उसका हाथ पकड़ लिया।
सविता कॉफ़ी बनाने गई थी, बस गर्म दूध डालना था।

उसने तुरंत कॉफ़ी परोसी।
दोनों बिस्तर पर बैठ कर कॉफ़ी पीने लगे.

आज राजेश ने सविता को अकेले देखा.
सविता और उसके पैर एक दूसरे से छू गए। सविता के सफ़ेद मखमली पैरों पर लाल रंग का नेल पेंट बहुत फब रहा था.

तभी सविता ने राजेश की नजरों को टटोलते हुए धीरे से पूछा- जीजाजी, क्या सोच रहे हैं?
राजेश ने सविता का हाथ धीरे से सहलाते हुए कहा- कुछ नहीं.

सविता सरक कर राजेश के करीब आई और उसकी आंखों में देखकर बोली- सच बताओ, क्या तुम भी वही सोच रहे हो जो मैं सोच रही हूं?
एक बार फिर बादल जोर से गरजा, लाइटें बुझ गईं और कमरे में अंधेरा हो गया।

राजेश ने सविता को अपनी ओर खींच लिया और उससे चिपक गया.

तो जब उनके शरीर एक-दूसरे से लिपटे हुए थे, उनके होंठ मिले थे, सारे बंधन टूट गए थे और दो जलते हुए शरीर एक होने को आतुर थे।
सविता बेल की तरह राजेश से लिपटी हुई थी और बिस्तर पर बैठे राजेश ने अपने पैर फैलाकर सविता को अपनी बांहों में पकड़ लिया.

सविता ने अपने दोनों हाथों से राजेश का चेहरा पकड़ लिया और उनके होंठ टकरा गए और जवान एक दूसरे के मुँह में घुसने के लिए ज़ोर लगाने लगे।
राजेश का हाथ सविता की माँ की ओर बढ़ा।

उसे अब एहसास हुआ कि उसके नुकीले स्तन बिना ब्रा के थे, इसलिए वे उसकी छाती पर दब रहे थे।

उसके स्तनों को पकड़ कर मसलते हुए राजेश ने अब सविता को पीछे धकेल कर लिटा दिया.
सविता के लेटते ही राजेश ने उसका टॉप ऊपर उठाया और अपना मुँह उसके गोल मांसल स्तनों पर रख दिया।

सविता बहुत दिनों से अपने मम्मों को ऐसे चुसवाने की प्यासी थी… उसने अपना टॉप उतार फेंका और राजेश की टी-शर्ट उतार कर उससे चिपक गई!

राजेश उसके खूबसूरत मखमली शरीर से चिपक गया, उसका लंड बाहर आने को बेताब था।

अचानक सविता का हिलता हुआ लंड उसके हाथ में आ गया.
सविता ने उसे पकड़ लिया और बैठते ही राजेश का गला दबा दिया और लंड बाहर निकाल कर अपने मुँह में पकड़ लिया!

राजेश का लंड पूरा खड़ा होकर सविता के मुँह में घूम रहा था.
उसने उसके स्तनों को मसला.

अब राजेश ने अपना बरमूडा उतार दिया और सविता का दुपट्टा भी उतार दिया.

सविता ने पैंटी पहन रखी थी जो अब आगे से गीली हो चुकी थी।
जैसे ही राजेश ने अपनी उंगलियों से पैंटी की इलास्टिक को छेड़ा, सविता ने कांपते हुए अपनी पैंटी उतार दी.

अब दोनों बिल्कुल नंगे थे और एक दूसरे से चिपके हुए थे.

राजेश सविता की चूत चूसना चाहता था इसलिए उसने सविता के कान में फुसफुसाकर पूछा- क्या तुम्हें चुसवाना पसंद है?
सविता ने तुरंत अपनी टांगें चौड़ी कीं और राजेश के बाल पकड़ कर उसका सिर नीचे कर दिया.

राजेश नीचे सरका और उसने अपना चेहरा सविता की दरार के बीच रख दिया।
आज सविता पूरी तरह से तैयार होकर बिस्तर पर आई थी, उसकी चूत रेशम जैसी चिकनी थी। शायद उसने आज अपने प्रेमी के लिए खुद ही सफाई की थी.

जैसे ही राजेश ने उसके पैरों को जितना संभव हो उतना फैलाया, सविता ने भी अपने प्रेमी की जीभ को अंदर तक जाने के लिए अपने हाथों से अपनी फांकों को खोल दिया।

सविता की कामुक आह निकल गयी.
पूरा कमरा रोशन हो गया था.

अब सविता भी लंड का स्वाद चखना चाहती थी इसलिए दोनों 69 में हो गईं और एक दूसरे को अनोखा मजा देने लगीं.

सुगंधा चाहे कितनी भी सेक्सी क्यों न हो लेकिन आज जो मजा सविता को आया था और सविता के शरीर से जो आग निकल रही थी, वह राजेश के लिए स्वाभाविक आनंद जैसा था।

सविता के अनुभव का भी यही हाल था।
कपिल के साथ प्यासी जिंदगी जी रही सविता के लिए मानो आज रात उसकी जिंदगी में सावन की बारिश हो गई हो.

अब दोनों एक दूसरे में समा जाने को आतुर थे.
जब सविता नीचे हुई तो राजेश ने उसकी टांगें फैला दीं और एक ही झटके में अपना लंड अन्दर डाल दिया!

इससे सविता की चीख निकल गई लेकिन उसने राजेश को कस कर गले लगा लिया.
उसके लम्बे नाखूनों से राजेश की पीठ पर लम्बे खरोंच के निशान बन गये।

अब राजेश ने अपनी चाल तेज कर दी.

सविता ने उसका पूरा साथ दिया; उसने शाप दिया और छल किया।
ऐसा लग ही नहीं रहा था कि वो देवरानी-जेठानी हैं. ऐसा लग रहा था जैसे वर्षों से बिछड़े प्रेमी-प्रेमिका या पति-पत्नी अपना हनीमून मना रहे हों!

राजेश के हाथ सविता के स्तनों पर थे और वह जोर-जोर से सविता को पीट रहा था।
सविता भी जी भर कर चोदने में मस्त थी.
वह राजेश से छुटकारा पाना चाहती थी.

उसने राजेश को हटाने की कोशिश की तो राजेश गिड़गिड़ाते हुए बोला- नहीं यार, इस वक्त इसे मत हटाओ, बहुत मजा आ रहा है. मेरा होने वाला है, बताओ मैं कहाँ से लाऊँ?
सविता बोली- अन्दर ही निकालो.

लेकिन जब राजेश के दिमाग में सुगंधा के गर्भवती होने का दृश्य आया तो वह धड़ाम से बाहर आया और अपना सारा माल सविता के पेट पर गिरा दिया.

सविता ने शिकायत की- मैंने तुम्हें बाहर आने को कहा था, तुम बाहर क्यों आये?
राजेश बोला- नहीं, कहीं कुछ ग़लत हो गया तो?

सविता ने हँसकर कहा-आजकल मुझे यकीन है।

राजेश उसके बगल में लेट गया.

सविता दूसरे मर्द के साथ सेक्स करके बहुत खुश थी!
आज इतने दिनों में पहली बार उसे सेक्स का मजा आया.

तभी उसका सेल फ़ोन बजा.

कपिल बाहर गेट पर आ गया था.

राजेश झटके से उठा और अपने कमरे में चला गया.
सविता ने खुद को साफ किया, नाइटगाउन के ऊपर एक ड्रेस पहनी और कमरे को साफ करने के बाद कपिल को गेट तक लाने के लिए बाहर गई।

कपिल ड्राइवर के साथ आये थे.
ड्राइवर अपनी कार लेकर चला गया।

कपिल ने सविता से कहा- बाहर बहुत तेज बारिश हो रही थी इसलिए देर हो गयी.
सविता मुस्कुरा दी और उससे कुछ नहीं कहा।

आपको अब तक की यह गैर मर्द सेक्स कहानी कैसी लगी, कमेंट में लिखें.
[email protected]

दूसरे आदमी की सेक्स कहानी का अगला भाग:

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment