चाची की दो भानजियों की चुदाई

मैंने उसकी रंडी अम्मी के सामने हॉट गर्ल पोर्न चूत का मजा लिया. दरअसल उसकी माँ ने ही उसे मेरा लंड लेने के लिए तैयार किया था. चाची की दो भानजियों की चुदाई

जीशान आपका स्वागत करता है.
सेक्स कहानी का अंतिम भाग
मौसी की बहन को उसकी बेटी के सामने चोदा
अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अंजुमन और उसकी मां परवीन के साथ मिलकर मौज-मस्ती करने लगा था.

अब हॉट गर्ल पोर्न चूत का मज़ा जारी रखें:

हमारी बातें चलती रहीं और मैं परवीन आंटी को चोदने लगा था.
मैंने अपना लंड चाची की चूत पर रखा और जोर से धक्का मारा.

दोनों तरफ से सिसकियाँ आने लगीं, आंटी की तरफ से भी और अंजुमन की तरफ से भी।

मैं- मैं यहां चोद रहा हूं और वहां आग लग रही है?
अंजुमन- आप पहले ख़त्म करें, मैं इंतज़ार कर रही हूं.

अंजुमन उसकी चूत में उंगली करने लगी.

परवीन- अरे लड़की तुम यहाँ आओ.

अंजुमन परवीन आंटी के पास आई और आंटी के इशारे से अपनी चूत उनके मुँह पर रख कर बैठने लगी.

मैं आंटी को मिशनरी पोजीशन में चोदने लगा और आंटी अंजुमन की चूत मारने लगीं.

इसी बीच मैं उसे चूमने लगा और उसके मम्मे दबाने लगा, दूध चूसने लगा.
उसके मीठे दूध मुझे मस्त करने लगे.

कुछ देर बाद कुछ होने लगा तो मैं धक्का देता तो वह आगे बढ़ता और अंजुमन को चूमता और वापस आ जाता।
ऐसे ही 20 मिनट तक खूब चुदाई हुई.

कुछ देर बाद परवीन आंटी ने अंजुमन को अपने मुँह के ऊपर से हटाया और जोर-जोर से चिल्लाने लगीं- आआह उम्म… क्या मजा दिया जीशान.

मैं जोर जोर से धक्के लगाने लगा.
मैंने सुना कि मौसी आने वाली हैं.
मैं तेज़ हो रहा था.
इसी बीच मौसी की चूत से ढेर सारा पानी निकला और इतनी तेजी से निकला कि मेरा लंड बाहर आ गया.

मैं- वो क्या चाची … वो तो कभी हुआ ही नहीं.
परवीन- इसे कहते हैं पूर्ण संतुष्टि.

मैं- ये क्या है?
परवीन- मुझे बहुत दिनों से प्यार करने का मजा नहीं मिला है, इसलिए माल बहुत जल्दी आ गया.

मैं- जब मैंने पहली बार किया था, तब भी नहीं हुआ था.
परवीन- आज तुमने कुछ खास किया.

मैं- अंजुमन दूध का जादू … मानो शरीर में करंट दौड़ गया हो. लेकिन मेरा अभी भी ख़त्म नहीं हुआ है.
परवीन- तो आप अपने पसंदीदा गधे को लात मारते हैं।

अंजुमन- गांड भी?
मैं- चाहूं तो कुछ भी!

अंजुमन- इस माँ ने क्या जादू किया जो तूने उससे अपनी गांड भी मरवा ली?
परवीन- अरे लड़की, जब कोई मर्द किसी औरत को संतुष्ट कर देता है तो औरत उसके लिए कुछ भी कर सकती है. तेरे पापा ने मुझे इतनी ख़ुशी नहीं दी जितनी गांड दे देती. अब जब इस जीशान ने इतना कुछ किया है तो मैं इसके लिए कुछ भी करूंगा. इस कारण से, आपको इसके लिए परिभाषित किया गया है। मुझे गलत मत समझो मेरी लड़की, तुम्हें भी जीवन में एक बार ऐसा आनंद अवश्य लेना चाहिए। desi sex kahani

मैं- मैं तुम्हारी गांड भी मारने वाला हूं.
अंजुमन- यह इतना आसान नहीं है, तुम मेरी इजाजत के बिना कुछ नहीं करोगे.

मैं- आप मुझे खुद ही सब कुछ करने दोगी.
अंजुमन- मैं देखती हूं.

इतने में परवीन आंटी मेरे सामने किसी कुतिया की तरह अपनी गांड से लंड छूने लगीं- जल्दी करो … और कितना बोलेगी.

अब मैं अंजुमन की हेकड़ी का गुस्सा परवीन आंटी पर दिखाने लगा.
मैं उनके चूतड़ों पर जोर जोर से थप्पड़ मारने लगा और उनके बाल पकड़ कर खींचने लगा.

परवीन- तुम पर कौन सी बुराई आ गई, अब तक क्या अच्छा हुआ?

इसी बीच मैंने गांड पर थूक लगाया और तुरंत अपनी दो उंगलियां आंटी की गांड में डाल दीं.

परवीन- अरे ये क्या कर रहा है… अंजुमन ये सब तेरी वजह से है, तूने उससे ठीक से बात नहीं की इसलिए वो मुझसे बदला ले रहा है कमीने.

मैंने ये सब न सुनते हुए जोर से लंड को आंटी की गांड में पेल दिया.
एक ही बार में पूरा लंड अन्दर घुस गया.

मामी मुझसे अलग होने लगीं.
लेकिन मैंने एक हाथ से उसके बाल पकड़ लिए और एक हाथ से उसके मम्मे दबाने लगा. साथ ही लंड की स्पीड बढ़ने लगी.

परवीन- आह आज तो तू पूरा जानवर बन गया है … मुझ पर क्यों अपना गुस्सा दिखा रहा है हरामी?
मैं- उसे अंदाज़ा हो जाएगा.

परवीन- आआह … मार डाला कमीने. मेरी गांड फट गई…जल्दी से इसे ख़त्म करो.

मैंने इसे और जोर से करना शुरू कर दिया.
मेरा भी निकलने वाला था तो मैंने जोर लगाकर लंड बाहर निकाला और परवीन आंटी को लिटा दिया और उनके मुँह में लंड डाल दिया.
मुँह के अन्दर 2-3 धक्के मारते ही सारा माल मुँह में निकल गया।

मेरी चाची बाथरूम की तरफ भागने लगीं.
मैं बिस्तर पर लेट गया.

मैं पूरी तरह नंगी थी… मेरी साँसें तेज़ होने लगीं।
मैं थक गया था।

अंजुमन बिस्तर पर आने लगी और मेरे ऊपर आ गयी.
वो अपनी लटकती हुई चुचियों को मेरे मुँह के पास लाने लगी.
मैं एक को चूसने लगा.

उसके स्तन बहुत मुलायम और दूध की तरह सफेद थे, मीठा दूध चूसने से मुझे ताकत मिल रही थी।

एक बेटी की माँ बनने के बाद भी वो एक कुंवारी लड़की की तरह मेरे ऊपर चढ़ी हुई थी.

अंजुमन- देखता हूँ भाई…कितना दम है तेरे लौड़े में?
मैं- मैं थक गया हूं, मुझे समय चाहिए.

अंजुमन- भोसड़ी के तुझे मेहनत करने को कौन कहता है … तू तो बस मजे कर रहा है.

ये कह कर उसने मेरा हाथ बिस्तर से बांध दिया.
मैं उसकी मदद करने लगा लेकिन पूछा- अरे, क्या कर रहे हो?
अंजुमन – मैं देता हूं और आनंद लेता हूं।

मैं- क्या ये मजेदार है?
अंजुमन- तुम चुप रहो… मैं जो कहूंगा वही करूंगा. तभी आपको वह सब कुछ मिलेगा जो आप चाहते हैं।

इतने में परवीन आंटी वॉशरूम से बाहर आईं और मुझे अंजुमन बांधते हुए देखकर पूछने लगीं- अरे अंजुमन, ये क्या कर रही है?
अंजुमन- क्या महिलाओं पर केवल पुरुष ही नियंत्रण रखते हैं? अब मैं इसे अपना गुलाम बनाऊंगा.

मैं- बहुत इच्छाएं हैं क्या?
अंजुमन- आगे देखती रहो, मेरी सारी ख्वाहिशें पूरी हो जायेंगी.

अंजुमन मुझे बांध कर मेरे ऊपर चढ़ गयी.
उसने अपनी चूत मेरे मुँह पर रख दी और मुझे उसे चूसने को कहा.

मैंने अपनी जीभ उसकी पोर्न चूत में डाल दी और उसे हिलाने लगा.
वह मजे ले रही थी.

चाची की दो भानजियों की चुदाई

अंजुमन- तूने अपनी बहन का लंड चूसा.. अपनी मौसी को चोदा. मैंने अपनी माँ को चोदा और अब वह एक लड़की को चोद रहा है जैसा कि उसकी बहन भी मुझे बताना चाहती है। बहनचोद चोदो
परवीन- अरे बेटी, ये क्या बात है, इतनी गालियाँ देने लगी हो?

अंजुमन ये सब बातें न सुनकर गंदी-गंदी बातें करने लगी और ज़ोर-ज़ोर से मेरी चूत चूसने लगी।
करीब 15 मिनट तक चूत चूसने के बाद वो मेरे मुँह में झड़ने लगी.
मैं अपना चेहरा इधर उधर घुमाने लगा. चाची की दो भानजियों की चुदाई

अंजुमन- अपना माल अम्मी के मुँह में निकालो, मेरा नहीं निकालोगे… पूरा अन्दर घुसेड़ दो साले!

उसने अपनी चूत मेरे सिर पर रख कर सारा पानी अन्दर डाल दिया.
मैंने बिना मतलब उसका सारा पानी अन्दर ले लिया.

मैं अपने समय का इंतज़ार कर रहा था।
इस बीच अंजुमन दूसरे दौर की तैयारी कर रही थी.

वो मुझे पागलों की तरह चूम रही थी. वो अंदर से अपने गुलाबी होंठों को चूमने लगी और एक हाथ से मेरे लंड को मसलने लगी.

उसके हाथ में मेरा लंड एकदम लाल और सख्त हो गया था.

अंजुमन- अरे वाह…मुर्गा तैयार है.
मैं- ये तो बस तुम्हारे साथ ही हुआ.. दीदी ये सब फिर से शुरू करो?
अंजुमन- मेरे शरीर में तुमसे ज्यादा बिजली है.

परवीन- ये किसकी लड़की है?
अंजुमन- तुम चुप रहो माँ. हम ही हैं जो उसे इतना सुख देते हैं… और तुम उसके गुलाम बनकर रहते हो। साला फ्री में सब कुछ करता रहता है. आज मैं इसे गुलाम बनाऊंगा.
परवीन- सावधान रहना बेटी, ये इतना आसान नहीं है.

मैं- मैं तुम्हें फ्री में मजा देता हूं.
अंजुमन- सब मजे कर रहे हैं.

मैं- तो तुम अपने आदमी के पास क्यों नहीं जाती?
अंजुमन खामोश रही.

मैं- क्योंकि उसे मजा नहीं आ रहा है. वह दिखने में सुन्दर नहीं है. यहां हम एक-दूसरे के साथ मस्ती करते हैं.. और हमारे बीच प्यार भी है। हम एक परिवार हैं, बातचीत कहीं नहीं जाएगी.
अंजुमन- जितनी अच्छी तुम्हारी जीभ है, काश लंड भी उतना ही अच्छा होता.

मैं- एक बार लंड की सवारी करके देखो.

इतने में अंजुमन अपने हाथ से मेरा लंड अपनी चूत पर लगाने लगी. लंड का टोपा चूत से थोड़ा ऊपर महसूस होने लगा और मैंने ऊपर-नीचे करते हुए लंड का टोपा अंदर धकेल दिया।

अंजुमन- ओह आआह… इतनी जल्दी क्या है, मैं कर लूंगी.

धीरे धीरे लंड चूत में घुसने लगा और अंजुमन की चूत फटने लगी.
उसके चेहरे के भाव ने उसे सब कुछ बता दिया। कामुक सिसकारियाँ अन्दर ही अन्दर दफन होने लगीं.

वह ऐसा नहीं कर सका.

अंजुमन- अरे इतना तगड़ा लंड … आह मेरे शौहर से तो बहुत बड़ा है … अम्मी ने अच्छा लंड चुना.
परवीन- और क्या देखा, एक बार उसका हाथ खोलो तो पता चल जाएगा.

अंजुमन- आअहह सही कहा अम्मी, ये इतनी आसानी से कंट्रोल नहीं होता. तुम खोलो माँ.

जैसे ही परवीन आंटी ने मेरे बंधे हाथ खोले, मैंने उन्हें अपने दोनों हाथों से कस कर जकड़ लिया और नीचे से उनकी पोर्न चूत में धक्के लगाने लगा. वह इतनी जोर से धक्के मारने लगा कि उसके मुंह से जोर की चीख निकलने लगी.

अंजुमन- ओह आआह… ये क्या कर रहा है… आआह… उफ़… धीरे करो मेरी जान प्लीज़!

मैंने गति बढ़ानी शुरू कर दी. इतनी जोर से मारने लगा कि कभी कभी तो लंड बाहर आ जाता था.

मैंने उसे वैसे ही बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया.

अंजुमन- अरे धीरे करो. अम्मी कहो प्लीज़!
मैं- अभी तक तो भाषा इतनी अच्छी चल रही थी, अब क्या हुआ रंडी?

अंजुमन – मुझे माफ़ कर दे कमीने.
मैं- अब ले मेरा लंड रंडी. मैंने कहा- नहीं, तुम मुझे खुद ही सब कुछ दोगे.

अंजुमन- हां दूंगी… सब कुछ दूंगी. जितना चाहो, लेकिन वो भरना थोड़ा कम कर दो। मुझे प्यार से चोदो
मैं- प्यार-व्यार फिर कभी नहीं, अभी तो तुम्हें मेरी ताकत दिखानी है. Antarvasna

मैं वैसे ही जोर जोर से धक्के लगाने लगा.
उसकी सिसकारियाँ तेज़ होने लगीं।

कभी-कभी मैं उसके स्तनों को काटने लगता, उसके स्तनों पर लाल दांतों के निशान दिखने लगते।

अंजुमन- अम्मी, उसके दांतों के निशान हैं, मैं अपने शौहर से क्या कहूंगी?
परवीन- ये लाल निशान गायब हो जाएंगे बेटी … चिंता मत करो. जीशान बेटा थोड़ा धीरे करो.

मैं अंजुमन को जोर जोर से धक्के देकर चोद रहा था उसे भी अच्छा मजा आने लगा था।
उसे बस दर्द हो रहा था क्योंकि उसकी चूत अभी भी टाइट थी।

फिर झड़ने का समय आ गया, वो काँपने लगी।
तभी मैं और जोर से धक्के लगाने लगा.

अंजुमन- आह मेरा तो निकल गया… क्या बकवास थी यार… ऐसी चुदाई मेरी जिंदगी में कभी नहीं हुई… हे भगवान, अब अपना लंड लिविंग रूम से बाहर निकालो… आह, मैं और कुछ नहीं कर पाऊंगी. .
मैं- मैंने अभी तक नहीं किया है.. कौन करेगा?

अंजुमन- मैं नहीं करूंगी.
परवीन- मैंने कपड़े पहन लिए हैं.. मैं वो भी नहीं कर पाऊंगी.

मैं- अंजुमन, प्लीज़ मुझे अपनी छोटी सी गांड मत मारने दो।
अंजुमन- मैं नहीं करूंगी.

मैं- अरे दस मिनट में हो जायेगा प्लीज.!
अंजुमन- नहीं नहीं प्लीज.
परवीन- मुझे मेरी बेटी दे दो.

अंजुमन ना कहते हुए शौचालय जाने लगी.
मैं भी उसका पीछा करने लगा.

अंजुमन- पीछे से कहां आ रहा है?
मैं- अभी मेरा काम पूरा नहीं हुआ है.

अंजुमन- जाओ और अपनी मौसी से जुगाड़ करो … मुझे छोड़ो.
मैं- ऐसे कैसे छोड़ सकता हूँ… मुझे तुम्हारी मुलायम, मीठी गांड चाहिए.

अंजुमन- अरे जाने दो… तुमने अब तक जो किया है उससे मेरा पूरा शरीर दर्द कर रहा है. मुझे अच्छे से नहाना है. अगर तुम चाहो तो मैं इसे हाथ से कर दूंगा.
मैं- मैं भी तुम्हें साबुन लगाने में मदद कर दूंगा.

हम दोनों बाथरूम में चले गये, दोनों शॉवर में भीगने लगे।

मैंने उसे चूमने की कोशिश की.
वो मना करने लगी.

मैंने उसे साबुन लगाया और वो मेरे लंड की मालिश करने लगी.

मुझे हाथ का झटका बिल्कुल अच्छा नहीं लगा, मैंने उसे पीछे घुमाया और उसके नर्म मुलायम पेट और गांड पर साबुन लगाया, साथ ही लंड को उसकी गांड से सटाया।

अंजुमन- नहीं जीशान, आज नहीं, फिर कभी नहीं.
यह मेरे लिए फिर कभी काम नहीं करेगा.

ये कहते हुए मैं भी अपने लंड पर साबुन लगाने लगा और गांड के अंदर लंड डालने की कोशिश कर रहा था.
अंजुमन ने गांड का छेद पूरा बंद कर दिया था.

मैं उसकी गांड पर जोर जोर से थप्पड़ मारने लगा तो उसकी गांड का छेद खुल गया.

अंजुमन- अरे नहीं जीशान, आज नहीं, फिर कभी नहीं!
मैं- आज ही मजा ले लो.

मैंने जोर लगाकर लंड गांड में डाल दिया. साबुन की चिकनाई के कारण मुर्गा तुरंत अन्दर चला गया.

अंजुमन- अरे भूल जाओ मादरचोद… मर गई वो! मैं तुम्हारी रंडी नहीं हूँ…आह मर गयी.
मैं- एक बार उसने मेरे लंड को छू लिया था, तभी तो मेरी साली रंडी बन गयी.

मैंने एक और झटके में पूरा लंड अन्दर डाल दिया.
उसकी गांड से थोड़ा खून भी निकलने लगा और आंखों से आंसू भी निकलने लगे.

एक ही दिन में इतना कुछ करना मुझे उचित नहीं लगा. बस 5-10 धक्कों के बाद मैंने लंड बाहर निकाल दिया.

अंजुमन- धन्यवाद… लेकिन अभी तक आपका काम पूरा नहीं हुआ है क्या?
मैं- आप कुछ कर रहे हैं.

और मैं टॉयलेट सीट पर बैठ गया.
वो लंड को मुँह से चूसने लगी और मुझे पसंद करने लगी.
कुछ मिनट चूसने के बाद मैं उसके मुँह में ही झड़ गया।

हम दोनों साथ में नहाने लगे.
फिर हम दोनों कपड़े पहनने लगे और फार्म प्लान के बारे में बात करने लगे।

फार्म का यौन इतिहास बहुत लंबा है। इसमें अंजुमन, आलिया, आंटी सलमा, आंटी परवीन, आंटी मैं और जीलन सभी शामिल थीं.
हम कारावास के दौरान वहीं फंस गए और दो सप्ताह तक वहीं रहे।

इस पर एक और सीरीज लिखूंगा.

हॉट गर्ल की पोर्न चुत की कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव ईमेल और इंस्टाग्राम के माध्यम से साझा करें।

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment