Hot Bhabhi Xxx Fuck Story – मासूम खूबसूरत भाभी को मनाली में चोदा

हॉट भाभी Xxx Faq स्टोरी में पढ़ें कि मैंने एक मासूम सी दिखने वाली भाभी को सेट किया और उसे मनाली की वादियों में प्यार से चोदा। गरम माल से खुश होकर उसने चुदाई की.

दोस्तो, मैं विंश शांडिल्य अपनी सेक्स कहानी का अगला भाग लेकर हाजिर हूँ।
पीछे का भाग
खूबसूरत भाभी ने मेरा प्रस्ताव ठुकरा दिया
अब तक आपने पढ़ा था कि एक खूबसूरत भाभी कृतिका मेरे प्यार के जादू में फंस गई और मेरे साथ मनाली के एक रिसॉर्ट में चली आई।

अब आगे हॉट भाभी Xxx Faq स्टोरी:

विमान से उतरने के बाद हम कुछ देर हवाई अड्डे पर रुके और कुछ खरीदारी की।
उसने कुछ किराने का सामान लिया।
उसी समय मैंने उसी वाइन शॉप से ​​2 बोतल रेड वाइन और एक बोतल व्हाइट वाइन खरीदी।

फिर हवाई अड्डे से बाहर निकलकर अपनी दुनिया में आ जाएँ।
कुछ देर घूमने के बाद हम उस रिसॉर्ट पर पहुँचे जो उसने बुक किया था।
सचमुच यह स्वर्ग से कम नहीं था और उससे भी अधिक सुंदर हमारे लिए बुक किया गया कमरा था।

चेक-इन के वक्त रिसेप्शनिस्ट ने उनके हनीमून को क्यूट बताया.
खैर.. हम दोनों कमरे में पहुँचे और वेटर ने हमारा सामान रख दिया।

उसके जाते ही मैंने झट से दरवाज़ा बंद कर लिया और अपनी जान को अपनी बांहों में खींच लिया.

शायद वो इसके लिए तैयार नहीं थी, इसलिए उसने खुद को संभालते हुए कहा- अरे…इतनी बेसब्र!

मैंने कहा- क्यों नहीं.. जब तुम मेरे पास होती हो, बिल्कुल अकेली और फिर इतनी शिद्दत से मिलती हो।
वो बोली- हाँ, मैं किसलिए भाग रही हूँ? पूरे पांच दिन तक मैं सिर्फ तुम्हारी हूं, जो चाहो करो।
मैंने कहा- जो मजा इसमें है, वो आरामदायक बनाने में कहां?

उसने तो बस आना-कानी कर दी.
फिर अचानक मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसके गुलाबी होंठों को पीने लगा.

मुझे न रुकता देख उसने भी मेरा साथ देना शुरू कर दिया और हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे को चूमने लगे.

मैं उसे चूमते-चूमते कभी पीछे से चूमने लगा, कभी उसके गालों पर, कभी उसकी गर्दन पर, कभी उसकी पीठ के ऊपरी हिस्से पर।

इसके साथ ही वो अपने लंड को कपड़े के ऊपर से ही उसकी गांड पर धकेलने लगा.
हर धक्के के साथ वो और भी मदहोश होने लगी.

मैं एक हाथ से उसकी चुचियाँ दबाता रहा और दूसरा हाथ उसकी चूत पर ले जाकर उसकी चूत के दाने को सहलाने और रगड़ने लगा।

अब स्थिति यह थी कि जैसे ही मेरा लंड उसकी गांड से टकराया, तो वह पागलों की तरह चिल्लाने लगी- आह फ़क मी बेबी… फ़क मी बेबी… फ़क मी!
और फिर मैं उतनी ही ताकत से अपना लंड उसकी गांड पर पटक देता.

किस करते करते हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतार फेंके.
अब मेरे शरीर पर केवल एक अंडरवियर और ऊपर पैंटी और ब्रा बची थी।

हम दोनों अलग हुए और मैं वहीं सोफे पर बैठ गया और उसे अपने ऊपर बैठा लिया.

हम फिर से एक दूसरे को चूमने लगे.
कभी वो मुझे चूमती चाटती तो कभी मैं!

फिर मैंने उसकी ब्रा और पैंटी को उसके बदन से आज़ाद कर दिया.

वाह क्या नज़ारा था… उसका दूधिया बदन सोने जैसा चमक रहा था।
मैं तो उसकी खूबसूरती को देखता ही रह गया.

क्या खूबसूरत शरीर था उसका… और उसके कसे हुए, संतरे के आकार के और बहुत चमकीले स्तन, मैं बस उन्हें चबाना चाहता था!
लेकिन ये भी कम नहीं था.

उसने एक झटके में मेरे अंडरवियर को भी मेरे शरीर से अलग कर दिया और हम फिर से एक-दूसरे से लिपट गए।
एक दूसरे को चूमने लगे.

ऐसा लग रहा था कि वो कोई कुंवारी लड़की है, उसके दो बच्चे हैं, ऐसा नहीं लग रहा था.
उसके निपल्स बिल्कुल अनछुए और सख्त लग रहे थे.

अब मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था तो मैंने उसे लेटा दिया और अपने होंठों से उसे चूमना शुरू कर दिया.
पहले होंठ, फिर गर्दन और फिर दो आज़ाद कबूतर।

मैंने उसके एक चूचे को मुँह में भर लिया और एक को हाथ से सहलाने लगा।
मुझे इतना मजा आ रहा था जितना पहले कभी किसी की चूची पीने या मसलने से नहीं मिला था.

मैं उसकी चुचियों को काट काट कर पीता जा रहा था. कभी उसके निपल्स को दबाता, कभी काटता.
और वो मादक आवाज में सिसकारियां भी ले रही थी, जैसे वो सालों से प्यासी हो.

उसकी दोनों चुचियों को बारी-बारी से पीने के बाद मैंने उसे लिटा दिया और उसके पेट को चाटने के बाद उसकी नाभि में अपनी जीभ डाल दी.
मैं उसकी नाभि के छेद को कुरेदने लगा.
मुझे ऐसा लगा जैसे उसमें से शहद निकल रहा हो.

फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी जाँघों को चाटना शुरू किया और जानबूझ कर चूत वाले हिस्से को छोड़कर नीचे उसके घुटनों तक आ गया।
फिर वो उसके पैर चाटने लगा.

सच कहूँ तो चोदते समय अपनी उँगलियाँ पीने का अपना ही मजा है।
वह हर कदम पर ऐसे तरसती थी मानो वह अपने जीवन में पहली बार सेक्स कर रही हो।

उसकी ऐसी चाहत देखकर मुझे और भी जोश आ गया.
यह सच है कि अगर आपका पार्टनर आपका साथ देता है तो आपके अंदर आग अपने आप लग जाती है।

अब मैं बिना देर किये सीधा उसकी चूत पर आ गया जो पहले से ही साफ़ थी और भट्टी की तरह जल रही थी।

बस फिर क्या था.. जैसे ही मैंने उसकी चूत पर अपने होंठ रखे तो वो उत्तेजित हो गई और अपने दोनों पैरों से मेरी गर्दन को अपनी चूत में भींच लिया।

मैं उसकी बेफिक्र चूत का मजा लेने लगा और उसकी चूत के छेद को चाटने और चूसने लगा.

उसने अपने हाथों से मेरे बाल पकड़ कर मुझे अपनी चूत पर दबा लिया जैसे कि वो मुझे अपनी चूत में घुसाना चाहती हो।

सच कहूँ दोस्तो, चूत को चाटना और चूसना बहुत ही मादक अहसास होता है।
चूत की खुशबू, चूत का पानी, चूत की चमक, चूत में उठती चीख, चूत से निकलता हुआ लावा, चूत की उफनती जवानी… आह.

मुझे लगता है कि मेरी चूत को चाटना और चूसना सेक्स करने का सबसे अच्छा तरीका है, और इसलिए ज़ोर से चोदना आग में घी डालने का काम करता है।
मैं कई बार चुदाई के बीच में भी चूत चाटता हूँ, जिससे आपकी पार्टनर और भी उत्तेजित हो जाती है।

मैंने उसकी चूत को पागलों की तरह चाटा और वह चिल्लाने लगी- अब चोदो, अब चोदो।
लेकिन मैं तो उसे और पागल बनाने में लगा हुआ था.

चिल्लाते हुए उसने अपना सारा पानी मेरे मुँह में छोड़ दिया.
उसका रस इतना तेज़ था कि वो सारा पानी अपने आप मेरे मुँह में चला गया और मैं उसे पीता रहा।

मैंने फिर से उसकी चूत को चाटना शुरू किया और अब हम 69 पोजीशन में थे.

वो मेरे लंड पर ऐसे झपटी जैसे कोई भूखी शेरनी अपने शिकार पर झपटती हो.
हम दोनों एक दूसरे से चिपक गये.

दस मिनट तक एक दूसरे को चूसने चाटने के बाद उसने मुझे अलग किया.

वो चिल्लाई- अब नहीं रहा जाएगा, अब मुझे अपना लंड दो.. और चोदो मुझे, फाड़ दो मेरी चूत को और भोसड़ा बना दो।
मैंने उसे लिटाया और खुद उसके ऊपर चढ़ गया और अपना लंड उसकी फ़ड़फ़ड़ाती हुई चूत पर रगड़ने लगा।

उसने उसकी योनि पर लंड रखा और एक जोरदार धक्का मारा।
इस अचानक हमले से वो छटपटाने लगी, लेकिन मेरा आधा लंड उसकी गुलाबी चूत को फाड़ता हुआ अन्दर घुस गया.

मैंने उसके रसीले होंठों को चूसना शुरू कर दिया और फिर से एक जोरदार धक्का लगा दिया।
इस बार मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया और उसे चोदने लगा.
मेरे दौरे के कारण वह बेहोश हो गई थी और उसकी आवाज निकलना बंद हो गई थी।

कुछ देर बाद वो शांत हो गई और अब वो भी मेरा साथ देने लगी जैसे सालों से भूखी हो.

कुछ ही देर में मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और उसे जोर जोर से चोदने लगा.
मेरे धक्के जितने तेज थे, उतनी ही तेज उसकी आवाज निकलने लगी- आआह मजा आ गया आह्ह और जोर से चोदो … और जोर से पेलो जान और जोर से … आआह और जोर से आआआईईई फाड़ दो मेरी चूत को … और तेज चोदो!

मैं भी उसे पागलों की तरह चोदना चाहता था और उसके निपल्स को काटना चाहता था.

उसके बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चूत में अपना लंड पेल दिया.
मैं उसके चूतड़ों पर हाथ मारते हुए उसे ऐसे चोदना चाहता था जैसे मेरे नीचे कोई कमतर रंडी हो।

पूरे कमरे में तूफ़ान सा आ गया होगा, जितनी तेज़ी से मैं उसकी चूत चोद रहा था, वो भी उतने ही जोश से अपनी गांड हिला रही थी मानो मैं पूरी तरह से घुट जाना चाहता हूँ।
कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद मैंने उसे दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और पीछे से उसकी चूत मारने लगा.

वो आह आह कर रही थी और मैंने उसे जानवरों की तरह चोदा.
कुछ देर बाद वो चिल्लाने लगी- मेरा पानी निकल रहा है, फिर आ जाओ, फिर आ जाओ।

मैंने उसे सोफे पर लिटा दिया और उसके ऊपर जाकर उसकी चूत चोदने लगा.
कुछ देर बाद उसका पानी उसके पेशाब के साथ मिल कर बहने लगा और दो मिनट बाद मेरा भी पानी निकल गया और मैंने उसकी चूत को लबालब भर दिया और उसके ऊपर गिर गया।

हमारी साँसें इतनी तेज़ चल रही थीं मानो हम कई किलोमीटर दौड़ चुके हों।
थोड़ी देर बाद जब हम दोनों की सांसें खुली तो हम अलग हो गए और बिना कपड़ों के पास-पास बैठ गए।

मैंने देखा कि उसकी चूत पूरी लाल हो गयी थी और उसके निपल्स पर भी कई जगह दांत पड़ गये थे.

उसने कहा- तुम बहुत अच्छा सेक्स कर रहे हो, मजा आ गया. इतना मजा तो मेरे पति ने भी मुझे कभी नहीं दिया.
मैंने कहा- देखो, मेरा एक उसूल है, मैं रानी की तरह प्यार करती हूँ और असली रंडी की तरह प्यार करती हूँ।
उन्होंने कहा-वाह, बहुत अच्छी थ्योरी. वैसे आपने इसमें कोई कसर नहीं छोड़ी है. मैं खड़ा भी नहीं हो पा रहा हूं और अब आप मुझे बाथरूम में ले जाना चाहते हैं.

मैंने कहा- जैसे भी हो मेरी रानी!
मैंने उसे गोद में उठाया और बाथरूम में ले गया.

मैंने उसे हटाया तो बोली- ड्रेसर पर बैठो, मैं कुछ करती हूँ।

मैं वहीं बैठ गया और वो मेरे सामने आकर खड़ी हो गयी.
वो मेरे लंड पर पेशाब करने लगी और उसकी गर्म पेशाब की धार मेरे लंड पर गिरने लगी.
इससे मेरा लंड फिर से तैयार हो गया.

फिर उसने मुझे उठाया और खुद वहीं बैठ गई और बोली- अब तुम मेरी चूत पर पेशाब करो.

मैंने वैसा ही किया और हम दोनों खुश थे.

फिर मैंने उसे शॉवर के नीचे बिठाया और पानी चालू कर दिया और उससे चिपक गया।
मैंने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और उसे चोदने लगा.

उसने भी पूरे जोश से मेरे लंड को खाया और मेरी छाती को नोंचा, मेरे निपल्स को एक-एक करके चूसा और मुझे एक हब्शी की तरह चूमा।
मैं उसे उतनी ही तेजी से चोदना चाहता था.

काफ़ी देर Xxx fq के बाद हम दोनों का पानी निकल गया और हम नहा कर बाहर आ गये।
हम बिस्तर पर नंगे ही लेट गये और कब नींद आ गयी, पता ही नहीं चला।

फिर हम दोनों सीधे रात को 9 बजे उठे.
हम दोनों मुस्कुराए और एक-दूसरे की ओर देखा।

मैंने उससे कहा- बड़ी आग है तुम्हारे अन्दर?
उसने कहा- तुम भी कम नहीं हो.

हमने खाना ऑर्डर किया और कपड़े पहने।
कुछ देर बाद खाना आ गया और हमने खाना खाया.

हम बातें कर ही रहे थे कि अचानक मुझे शराब की याद आ गई।
मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हें वाइन पीनी है?
उसने कहा- कभी टेस्ट नहीं किया, लेकिन चलो आज पीते हैं, अगर तुम्हें पसंद नहीं आया तो तुम पक्के हो।

मैं उठा और शराब की एक बोतल अपने साथ ले आया.
दोस्तो, मैं हॉट भाभी Xxx Fak स्टोरी का अगला भाग और भी ज्यादा गर्म आग के साथ लिखूंगा.
आप मुझे ईमेल द्वारा अपना प्यार देते रहें.

[email protected]

हॉट भाभी Xxx Faq स्टोरी का अगला भाग:

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment