Indian Hot Aunty Chudai Kahani – आंटी की वासना मेरे लंड से शांत हुई

हमारे पड़ोस में किराए की मौसी के साथ सेक्स की भारतीय हॉट आंटी की चुदाई कहानी। यह मेरा पहला सेक्स था। मैं आंटी को कामातुर निगाहों से देखता था। वह समझ गयी।

दोस्तों, मेरा नाम दीपक है, मेरी उम्र 19 साल है। मैं दिल्ली में एक फ्लैट में रहता हूँ।
मेरे परिवार में मेरे माता-पिता और बहन विनीता हैं।

मैंने यह इंडियन हॉट आंटी की चुदाई कहानी पहली बार लिखी है। इसलिए दोष मत ढूंढो, बस मजे लो।

हमारे फ्लैट के सामने एक फैमिली शिफ्ट हुई जहां चाचा सुनील यादव 50 साल के, उनकी पत्नी आरती 44 साल की और उनकी बड़ी बेटी सीमा 21 साल की और छोटी बेटी पूनम 20 साल की।

चाचा एक कंपनी में काम करते हैं और उन्हें अक्सर शहर से बाहर जाना पड़ता था।

आरती आंटी का स्वभाव बहुत ही मजाकिया था।
आंटी की हाइट 5 फीट 5 इंच है और फिगर 32-26-34 है। उनका रंग गेहुंआ और सेक्सी बदन है, आंटी हूबहू चित्रांगदा सिंह जैसी दिखती हैं.

मैं उनकी बेटियों को दीदी कहता था।

एक-दो हफ्ते में हम सब उसके परिवार से घुलमिल गए।

मुझे आंटी बहुत सेक्सी लगती थीं और मैं उन्हें हर वक्त हवस की निगाह से देखता था.
शायद आंटी को यह बात समझ आ गई होगी।

मेरी उम्र ऐसी थी कि मुझमें वासना भरने लगी।

मेरे मोबाइल में ब्लू फिल्म का स्टॉक रहता था। मैंने उन्हें मिटाया भी नहीं।
चूंकि मेरा मोबाइल किसी और ने नहीं लिया, इसलिए मुझे डर नहीं लगा।

एक दिन आरती आंटी हमारे घर आईं और बोलीं- दीपक, तेरे मामा को बुलाना है। मेरा फोन चार्ज से बाहर है। बस मुझे अपना फोन दे दो।
मैंने उसे फोन दिया।

उसने फोन किया और बात करने लगी।
मैं टीवी देखने में व्यस्त था।

कुछ देर बाद उसने मुझे मोबाइल लौटाया और सेक्सी स्माइल के साथ अपने अपार्टमेंट में चली गई।
मुझे अचानक कुछ नजर आया तो मैंने चेक किया।
मेरी गैलरी खुली हुई थी।

अब तो मेरी गांड ही फट गई, मौसी ने मम्मी या पापा को बता दिया तो क्या होगा।
लेकिन आंटी ने किसी को नहीं बताया।

अगले दिन आंटी मेरे घर आईं और उन्होंने मेरी मां से कहा कि उन्हें कुछ भारी सामान सेट करने के लिए मेरी मदद की जरूरत है।
मेरी मां ने मुझसे कहा- दीपक, जाओ आंटी की मदद करो।

मैं आंटी को लेकर उनके घर आ गया।
उसने अंदर आकर दरवाजा बंद कर लिया और मुझे सोफे पर बैठने को कहा।
मैं सोफे पर बैठ गया।

उनकी बेटियां कॉलेज गई थीं।
आंटी ने नीले रंग की मैक्सी पहन रखी थी।

वो मेरे पास आकर बैठ गई।
मैंने पूछा- आंटी बताइए क्या करूं?
आंटी बोलीं- हाय, मैं बताना चाहती हूं, पहले ये बताओ, तुम अपने फोन में क्या देखते रहते हो?

मेरा गला सूख गया।
मैं आंटी से मिन्नतें करने लगा- सॉरी आंटी, मुझे अभी नहीं करना है, प्लीज मम्मी को मत कहना!
आंटी ने सेक्सी स्माइल देते हुए कहा- मैं बताना नहीं चाहती, लेकिन ये बताओ, ये सब देखकर तुम क्या करती हो?

मैं उससे आंखें नहीं मिला सका। मैं कुछ नहीं कह सका।
आंटी बोलीं- हाय बताओ या मुझे अभी जाकर तुम्हारी मां से कहना पड़ेगा?

मैं मिन्नतें करने लगा- आंटी ऐसा मत कीजिए. मैं वही करूँगा जो तुम कहोगे।
उन्होंने कहा- हां, मैं ऐसा नहीं कहूंगा। लेकिन जैसा मैं कहूँगा वह वैसा ही करेगा, है ना?
मैंने हां में सिर हिलाया।

आंटी फिसल कर मेरे पास आईं और धीरे से मेरी जांघ पर हाथ रखते हुए बोलीं-डरो मत दोस्त, मैं किसी से नहीं कहूंगी.

फिर उसने मुझे उठाया और मेरा हाथ पकड़ा और मेरे होठों पर किस करने लगी।
उसने मेरे होठों को अपने होठों से खींच कर चूसा।

इससे मैं समझ गया कि आंटी को मुझे चोदना ही है.
मैंने इंटरवासन और फ्री सेक्स स्टोरी पर कई सेक्स कहानियां पढ़ी थीं जहां बगल वाली आंटी की चुदाई का सवाल था।

मैं भी आंटी को किस करने लगा.
आंटी ने मेरी जीभ अपने मुँह में खींच ली और वो मेरी जीभ को चूस कर मुझे सुख देने लगीं.

उसका एक हाथ मेरे लंड को टटोलने लगा.
मेरा लंड भी काम करने लगा.

कुछ ही समय में मैं अपने पूरे मूड में आ गया और मौसी की माँ पर हाथ फेरने लगा।

किस करते हुए उसने मेरा एक हाथ पकड़ा और अपनी गांड पर रख दिया.
मैंने अपने दोनों हाथ उसकी गांड पर रखे और अब मजे से आंटी की गांड को सहलाया और निचोड़ा.

करीब 5 मिनट तक होंठ चाटने के बाद उसने मुझे पकड़ लिया और मुझे सोफे पर बिठा दिया और मेरे शॉर्ट्स उतार दिए।

मेरा लंड भी खड़ा हो गया था.
मेरा 6 इंच मोटा लंड देखकर आंटी बोलीं- अरे वाह… तुम्हारा लंड बहुत मोटा है. आपकी प्रेमिका खुश रही होगी!
मैंने कहा- कोई बॉयफ्रेंड नहीं है आंटी।

वह चौंक कर बोली- तो ब्लू फिल्म देखकर क्या मुर्गा हिलता है?
मैं हंसा और बोला- हां आंटी, मुक्का मारने के अलावा और कोई रास्ता नहीं है.

वो खुशी से चहक उठी और बोली- यानी ये तुम्हारा फर्स्ट टाइम है… वाह यार मजा आ गया। आज कुंवारा लंड मेरी चूत में जाना चाहता है.
मैं उन्हें बताना चाहता था कि आंटी अपनी कुंवारी बेटियों की चुदाई करवाकर मेरा कुंवारा लंड खोलने वाली हैं, लेकिन तब तक मेरी गांड फट चुकी थी इसलिए मैं ऐसा नहीं कह सका.

उसने मुझे सोफे पर बैठने को कहा और मेरे सामने घुटने टेक दिए। मेरे दोनों पैरों को फैला दिया, मेरे लंड को उसके हाथ में पकड़ लिया और उसकी चमड़ी को पीछे खींच लिया, सेक्सी तरीके से उसकी जीभ को लंड के ऊपर घुमा दिया.
मेरी आह निकल गई।

उसकी जीभ मेरे लंड के गुलाबी सिरे पर चलने लगी. मेरी नसें फूलने लगीं और लंड एकदम सख्त हो गया.

आंटी ने मेरे सुपारी के मुंह को अपने होठों से रगड़ कर सुंघा.
मेरे लंड से आ रही नशीली महक ने उसका नशा और बढ़ा दिया था. वह अभी भी अपने नाइटगाउन में मेरे सामने थी और उसके दूध ने मुझे खुश कर दिया।

तभी आंटी मुझे देखते हुए मेरे लंड को चूसने लगीं.
लंड चूसने से मेरा लंड सख्त हो गया.

लंड चूसते-चूसते आंटी ने मेरे दोनों गोले मुँह में ठूंस दिए और खींच-तान कर चूसने लगी.
मैंने उनकी एक्टिंग को खूब एंजॉय किया।

इसके बाद वो अपना मुंह खींचकर मुझे किस करने लगीं.
किस करते-करते वह खड़ी हो गई और दोनों हाथों से अपनी चड्डी उतार फेंकी।

फिर मैंने जल्दी से अपना सिर पकड़ा, अपना चेहरा झुकाया और उसकी चूत पर दबा दिया।
मैं सोफे पर गिर पड़ा और अपनी जीभ उसकी काली और गीली चूत में चलाने लगा.

उसने खड़े होकर मेरी चूत को चाटा और कहा- भाड़ में जाओ, अपनी जीभ को अंदर ही अंदर जाने दो… मुझे मजा आता है।
कुछ देर बाद उसने अपना एक पैर मेरे कंधे पर रखा और अपनी चूत चाटने लगी और नशीली आवाजें निकालने लगी- उम्म उम्म आह… चाट मदरछोड… आह साले बड़ी आग लगी है मेरी चोट में।

मैंने उसकी चिकनी चूत से रिसते पानी को कुत्ते की तरह चाट लिया।
कुछ ही देर में उसने अपनी मैक्सी उतार कर फेंक दी और मुझे उठाकर मेरे होठों को चूमते हुए मेरी जीभ चूसने लगी।

आंटी ने मेरी टी-शर्ट भी उतार दी। वो पागलों की तरह कभी मेरे सीने, कभी मेरी गर्दन, कभी मेरे होठों और कभी मेरे गालों को चूमती है।
मुझे खींचते हुए आंटी जमीन पर लेट गईं और अपने पैर फैला दिए.

वो अपनी चूत पर हाथ फेरते हुए बोली – चल मेरे छोदू लाल… अब मुझसे और नहीं सहा जाता।
मैंने लंड को उसकी चूत पर रख कर इतनी जोर से मारा कि उसकी फटी हुई चूत फट गई और ‘आह मर गई…’ की आवाज निकली.

मैंने कहा- क्यों आह आह आंटी आप फटी भोसड़ी वाली हैं… आपने तो हजारों बार अपनी चूत में लंड लिया होगा.
आंटी बोलीं- सुहानी पीली शिट… तेरा लंड गधे जैसा है. तुम्हारे चाचा का लंड अब किसी काम का नहीं… चार साल में एक लंड नहीं लिया… अरे धिक्कार है।

मैं हँसते हुए उन्हें चूमने लगा और धीरे-धीरे उन्हें धक्के देने लगा। मस्त चुदाई आगे बढ़ने लगी।
आंटी बोलीं- मेरे भी निप्पल चूसो बेटा.

मैं एक हाथ से उसकी सफ़ेद ब्रा पर उसके निप्पलों को दबाने लगा.
मैंने कहा- आंटी मस्त मल हो आप। आज मैं तुम्हें अच्छे से चोदना चाहता हूँ।

आंटी ने मुस्कराते हुए कहा- अबे प्लीज जल्दी से चोदो नहीं तो तुम्हारी मां तुम्हें बुलाने आएंगी। एक बार फिर अपनी मामी को चोदो।

माँ के बारे में सोच कर मैं जोर से धक्का मारने लगा और बोला- आंटी अब तो कभी भी बुला लेना, मैं आपकी सेवा करने आऊंगा.
आंटी ने कामुक सिसकियाँ लेते हुए कहा – हाँ… आह उम्म्म… नहीं… यह पहली और आखिरी बार है… अब के बाद नहीं।

मैंने कहा- आंटी आप ऐसा मत कहिए, आप जो कहेंगी वो मैं करूंगी.

आंटी हंस पड़ीं और बोलीं- उम्म्म आह आह… हाय मेरे कमबख्त पहलवान मैं तुम्हें ऐसे कैसे जाने दे सकती हूं मैं तो बस मजाक कर रही थी बस मुझे अकेले में आंटी मत बुलाओ नाम से बुलाओ या जो चाहो गाली दो लेकिन जब मैं बुलाऊं , आओ अपनी वेश्या भाड़ में जाओ।
मैंने कहा- आई लव यू आंटी… सॉरी आरती मेरी जान।

मैंने उसे किस किया, उसके होठों को चूसा और जोर जोर से चोदने लगा।
मेरा लंड उसकी भीगी हुई चूत में तेजी से घूम रहा था और वो सिर्फ अपनी ब्रा में फर्श पर लेटी हुई थी.

आंटी ने मेरी गांड पकड़ कर मेरी चुदाई की.
लगभग दस मिनट की तेज चुदाई के बाद मेरा स्खलन होने ही वाला था।

साँस फूलते हुए मैंने आंटी से कहा, आंटी, मैं जाने वाला हूँ।
आंटी बोलीं- फिर से हेलो आंटी… मेरी चूत में बाहर आ जाओ लाल मेरी चूत में जूस निकाल लो मेरी जान.

मैंने अपना मोटा वीर्य अपनी चाची की चूत में भर दिया क्योंकि मैंने जोर से दबाया और उनसे थक गया।
आंटी ने मेरी पीठ पर हाथ फेरते हुए कहा- आह, ये तो फनी था. मैं भी दो बार गिरा… मजा आया ना?

मैं- मैंने आरती का बहुत आनंद लिया मेरे प्रिय, अब मैं सिर्फ तुम्हें चोदना चाहता हूं।
आंटी बोलीं- हममम… अब कपड़े पहन लो, किसी को आने नहीं दिया जा रहा है।

मैं उठा और कपड़े पहनने लगा।
आंटी ने अपना पेंटीहोज उठाया और पेंटीहोज से अपनी चूत से लीक हो रहे मेरे वीर्य को पोंछा और पेंटीहोज पहनी और फिर मैक्सी पहन ली।

मैं चलने लगा
तो आंटी ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे रोका और कहा- बैठ जाओ, फिसलन वाले मूर्ख। अब नर्क खत्म हो गया है, अब किसी चीज का डर नहीं है।
मैं भी बैठ गया और आंटी को मुस्कुराते हुए देखने लगा।

आंटी ने फ्रिज से जूस निकाला और हम दोनों बैठ कर जूस पीने लगे.
मैंने सोफे पर बैठे-बैठे आंटी को काफी देर तक किस किया।

मेरा मूड अच्छा होने लगा, लंड फिर से कसने लगा.
मैंने आंटी का हाथ लंड पर रख दिया.

फिर आंटी मुस्कुराईं और बोलीं- अभी नहीं, अभी के लिए तुम्हें घर जाना चाहिए। बाद में आना जब मौका मिले।

मैं अपने घर वापस आ गया।
मुझे हमेशा याद रहेगा कि मेरा पहला सेक्स, यानी। यह भारतीय गर्म चाची भाड़ में जाओ।

उसके बाद आंटी ने मुझे सेक्स का स्वाद चखाया, जब भी मौका मिलता है वो मुझे चोदती रहती है.
आपको मेरी देसी आंटी की चुदाई की कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बताएं।

मैं आप सभी के साथ अगली सेक्स कहानी साझा करना चाहता हूं जहां मुझे आंटी के अलावा अन्य छेदों को चोदना है।

आपको यह इंडियन हॉट आंटी चुदाई की कहानी कैसी लगी? मुझे मेल और टिप्पणियों में बताएं।
[email protected]

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment