मेरी कुवारी गांंड

हैलो मेरा नाम रमेश है.. मेरी उमर 24 साल है, मैं गुजरात का रहने वाला हूं। मुझे लड़कियों के कपड़े पहनने बहुत पसंद है। मैं अपने दीदी की ब्रा और पेंटी पहनने कर अपने आपको मिरर मैं देख कर शर्मा जाता हूं। मेरी गंद किसी लड़की जैसी बड़ी और गोल-गोल है।

मैं आज आपको अपनी सच्ची कहानी बताने जा रहा हूं।

बात उन दिनों की है.. जब मेरी कोलकाता मैं नई-नई जॉब लगी थी। कंपनी ने मुझे रहने के लिए एक फ्लैट दिया था… जहां मैं अकेला रहता हूं। अभी मेरा कोई दोस्त नहीं बना था इसलिय जॉब से आने के बाद मैं इंटरनेट पर लड़कों के साथ चैटिंग करता था।

सभी लड़के मेरी नंगी गंद देखना चाहते थे और मैं भी उन्हे अपनी गंद दिखाकर भूल गया था।

ऐसे ही एक दिन मुझे एक लड़का मिला… जिस्का नाम तुषार था। वो भी कोलकाता का रहने वाला था…उसने नेट पर अपना बड़ा लुंड दिखया। उसका लुंड देखते ही ना जाने क्यों मेरी गांड माई खुजली शुरू हो गई। माई उपयोग मटका-मटका कर अपनी गंद दीखा रहा था और वो ज़ोर-ज़ोर से मुथ मार रहा था।

फिर उसे मुझसे कहा वो मेरी गंदमर्न चाहता है।

माई घबड़ा गया… क्योंकि इस से पहले मैंने किसी से अपनी गंद नहीं मारवायी थी।

मैंने इस्तेमाल किया ये बात बता तो उसे कहा- उस्माई डरने वाली कोई बात नहीं है…. मैं ये पहले भी कर चुका हूं। माई तुझे गंद मरवाना सिख दूंगा।

मैंने कहा- ठीक है।

फिर मैंने अपना पता दिया…उसने कहा- मैं 30 मिनट मैं पाहुच रहा हूं।

उसकी बात सुनकर मेरी दिल माई ना जाने क्यों अजीद से सांसी शुरू हो गई।

मैं बाथरूम मैं गया… और शेविंग क्रीम ले। फिर उसे अपने पूरे बदन पर लगा और अपनी गंद पर लगा। फिर उस्तरा से गरीब हिस्से के बाल निकल दिए। अपने चिकने बदन को देख कर मैं खुद ही शर्मा गया। फिर शावर के आला खड़ा होना नहीं लगा। मैं नहीं कर बहार आया… तबी दूर की बेल बाजी… मेरा दिल ढकने लगा। Antarvasna Story

माई तौलिया लापेट कर दरवाजा खोलने के लिए गया।

जैसे वह दरवाजा खोला तो मेरे सामने 25 साल का गोरा-चिट्टा लड़का खड़ा था… वो मुझे देख कर मुस्कान। शायद वो मुझे पहचान गया था। वो तूरंत लपका और मेरे होठो पर चुम्बन करने लगा। मैं कुछ समझ… उसके पहले वह उसे दूर बंद कर दिया और फिर से मेरे होठो को चुनने लगा।

मैं बता नहीं सकता.. मुझे कितना मजा आ रहा था. फिर उसे मुझे अपना गौड़ मैं उठा और कामरे मैं ले गया…मुजे बस्टर पर पटक दिया और मेरे ऊपर छड गया।

उसे मेरा तौलिया खिनच लिया… मुझे नंगा देख वो पागल हो गया और मेरे खराब बदन को चुनने लगा। वो उसके साथ एक बैग लाया था… उसे मुझे वो बैग थामाया और बोला- जा बैग मैं से कपड़े निकल ले और उन पेहन कर आ…

उस बैग माई एक लाल ब्रा और एक काली पेंटी और लाल रंग की रात थी।

मैं झट से बाथरूम मैं गया और कपड़े पहनने-ने लगा। जब मैं उपयोग कर बाहर आया तो वो मुझे देखता ही रह गया। उस वक्त मैं कोई लड़की से ज्यादा सुंदर लग रहा था। नाइटी के आला से मेर गोरी चिकनी जांघे दिख रही थी जो कोई लड़की जैसे वह। Gay Sex Story

वो मेरे पास आया और अपनी बहो मैं भर लिया और चुना लगा। माई तो जैसे स्वर्ग पाहुच गया था। वो मेरे गरीब बदन पर अपना हाथ फिर रहा था, फिर धीरे से अपना एक हाथ पिच ले गया और मेरी पेंटी माई दाल दिया और मेरी चिकनी गंद को सहलाने लगा। मुझे बहुत ही मजा आ रहा था।

वो बोला- आज मैं तुझे अपनी रंडी बना कर तेरी गंद मारुंगा।

हम दो बिस्टर पर आ गए, अपने कपड़ों निकले दिए…

उसका लुंबा काला लुंड देख कर तो मेरे होश उड़ गए… उतना बड़ा लुंड मेरी गंद माई कैसे जाएगा… मैं अभी यही सोच रहा था कि तबी उसे अपना लुंड मेरे मुह मैं थूस दिया उर बोला- चल भोस दी

माई उसके पास घुटनो के बाल बैठा और उसका लुंड अपने मुह मैं लेकर चुनोने लगा।

उसके लुंड का नमकीन स्वाद मुझे बहुत पसंद आया और मैं बड़े भूल से इस्तेमाल चूस रहा था। वो मेरा सर पक्का कर धीरे-धीरे धक्का दे रहा था। मुझे बड़ा मजा आ रहा था.. करीब 15 निन्टे तक लौड़ा चुस्वाने के बाद उसे कहा- चल आब खड़ा हो जा… अब मैं तुझे छोडूंगा।

मैं खड़ा हो गया…उसने अपने बैग मैं से एक रीम की शीशी निकली और बोला- चल आब कुटिया बन जा…

मैं उसके सामने अपनी गंद खोल कर अपने हाथ और पार के सेहरे कुटिया जैसे हो गया।उसने पिच से मेरी गंद को सहलया और फिर चुना लगा… मुझे बड़ा माजा आया।

फिर उसे क्रीम की शीशी खोल कर उस्माई से धर सारी क्रीम कर मेरी गंद के छेद पर लगा दे। फिर उसे अपना एक उंगली मेरी गंद के छेद पर रख कर धीरे से इस्तेमाल करें और दाल दे… मुझे थोड़ा सा दर्द हुआ… पर साथ में मैंने मजा भी आया।

वो अपनी उंगली और बहार करने लगा.. मुझे उसकी उंगली से बहुत मजा आ रहा था।

मैने बोला- तपदा मत… चल आब छोड़ दे…

वो बोला- ठीक है.. ले आब…

फिर वो खड़ा हुआ और फिर से सारी सारी क्रीम मेरी गंद पर लगा दे।

फिर उसे अपना लुंड मेरी गंद के छेद पर रखा… मैं उसके गरम सुपारे को गंद पर महसोस कर रहा था।

उसे अपने दो हाथ मेरी कमर रखे और फिर एक जोरदार धक्का मारा।

‘आइइइइ III…’ मेरे मुह से चिख निकल गई… मैंने देखा तो उसका आधा से ज्यादा लुंड मेरी गंद के अंदर था…। मुझे बहुत दर्द हुआ।

मैं बोला- निकल ले साले… मेरी गंद फत गई…आईई III…।

उस दिन मुझे ये समझ आया की गंद फतना किसे कहते हैं। मैं दर्द से करता रहा लेकिन उसने अपना लुंड नहीं निकला और ज़ोर से दूसरा धक्का मारा। मेरी तो जैसे जान ही निकल गई… मेरी आंख माई से पानी निकलने लगा…उसका पूरा लुंड मेरी गंद माई फैन्स चूका था। इधर माई रो रहा था और वो धीरे-धीरे मेरी गंद को सेहला रहा था.. मैं उसके लुंड को अपने और पूरा महसूस कर सकता था।

लगभाग ५-६ मिनट तक हम वैसई ही मिले रहे… फिर उसे धीरे-धीरे अपना लुंड बहार निकला और फिर से जोर से धक्का मारा… मुझे फिर दर्द हुआ…

आब वो धीरे-धीरे अपना लुंड और बहार कर रहा था… कुछ डर बाद दर्द पूरा गया हो गया और मुझे मजा आने लगा।

माई बोल उठा- छोडोमुजे… और ज़ोर से छोड…

ये सुनाते उन्होंने उसे अपनी गति बढ़ा दी और ज़िर-ज़ोर से ढकके मारने लगा

मैं तो जैसे स्वराग मैं हेपहुच गया था.. मेरे मुह से आवाज निकले लगी थी। ‘Aahh है … aahhh … aaahhhh … aur जोर से aahh … चोद मुझ्े aahh … मुझ्े apni रैंडी bana de aahh … faad डे मेरी gand चोद … aaahhh …’ माई jaise पागल हो गया था … मुझे नही पाटा था की माई क्या बोल राहा हू।

उसे अपना एक हाथ आला से मेरी ब्रा माई दाल दिया और मेरी चूचियो को दबने लगा और दूसरे हाथ से उसने मेरी गंद पर जोर से थप्पड़ मारा… मुझे अजीब सा मजा आया। ये एक निबंध दर्द था … जो मुझे मजा दे रहा था। वो ज़ोर-जोर से मेरी गंद पर अपने हाथ से चापे लगाने लगा मेरी गंद लाल हो गई थी लेकिन मुझे बहुत मजा आ रहा था।

मैं चिल्ला रहा था- और ज़ोर से… और ज़ोर से…

करीब १५ मिनट तक वो इसी वह कुटिया बना कर छोडता रहा और फिर एक ज़ोर का धक्का मारके मेरी गंद माई वह झड़ गया। मुझे लगा की जैसे मेरी गंद माई किसी ने गरम लावा दाल दिया हो।

वो ठक कर मेरी गंद के ऊपर ही बालक गया। मैं भी 30 मिनट की ज़बरदस्त चुदाई से थाक गया था।

फिर उसे अपना लुंड निकला और मेरी बाजू माई देर से गया… मैंने अपनी गंद देखी तो वह पर एक बड़ा सा छेद बन गया था और उस्माई से थोड़ा खून भी निकल रहा था… पता नहीं क्यों देख कर मैं शर्मा गया।

हम करीब 20 मिनट तक ऐसे ही मिले रहे और उसका लुंड फिर से तन गया।

वो बोला- आया एक राउंड और हो जाए।

मैंने आंख मारी… वो समझ गया का इस्तेमाल किया।

वो वैसाई ही बिस्टर पर लेट गया… मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसका लुंड पका कर अपनी गंद माई दाल लिया।

इस बार वो बड़ी आराम सा और चला गया और मैं उसके ऊपर अपनी गंद पटक कर चुदने लगा।

आब उसे मेरी नाइटी निकल दे और ब्रा के अंदर हाथ दाल कर मेरी चूचिया दबने लगा।

वो आला से ढकके मारने लगा और मैं ऊपर से अपनी गंद पाटने लगा।

हम दो पसीना-पसीना हो गए थे… करीब 20 मिनट तक उसे मुझे छोडा और मेरे मुह माई ही झड़ गया। मैने उसेसारा पानी पी लिया…. आब मैंने अपनी पेंटी पेयन ली और नाइटी भी पहचान ली और उसके साथ सो गया।

सुभा जब हम जागे तब मैं ठिक से चल भी नहीं सकता था… इसलिय मैंने ऑफिस से छुट्‌टी ले ली और तुषार से बोला- तुम आज यहीं रुक जाओगे… हम खूब मजा करेंगे।

पैसेवाले बॉस की जवान बेटी की बुर चुदाई की कहानी

दोस्तो, मेरा नाम आर्यन है. मैं दिल्ली में रहता हूँ. अभी मेरी उम्र 34 साल है. मेरी हाइट 5 फुट ...
Read More
गर्लफ्रेंड की बहन की चूत में उतारा लंड

गर्लफ्रेंड की बहन की चूत में उतारा लंड का खंजर!

दोस्तो, मैं अंश राजस्थान से हूँ. यहां  ये मेरी पहली देसी कॉलेज सेक्स कहानी है. यह एक सच्ची सेक्स कहानी ...
Read More
पापा ने अपनी साली मेरी मौसी को चोदा

पापा ने अपनी साली मेरी मौसी को चोदा – हिंदी कहानी

दोस्तो, मेरा नाम रोहित है और  मैं आपको मेरी असली जीजा साली की चुदाई कहानी सुनाता हूं जो कुछ साल ...
Read More
विधवा पड़ोसन भाभी को चोद के खुश किया

लोकडाउन में विधवा पड़ोसन भाभी को चोद के खुश किया

दोस्तो, मेरा नाम हितेश है और मैं गुजरात में रहता हूँ. मेरी उम्र 35 साल है और जॉब के कारण ...
Read More
देसी अम्मी को चोदा पराये आदमी ने

देसी अम्मी को चोदा पराये आदमी ने – चीटिंग सेक्स कहानी

मेरे घर में अम्मी अब्बू के अलावा मैं और मेरे दो छोटे भाई बहन भी हैं. अब्बू की एक छोटी ...
Read More
पड़ोसन भाभी रूबी को चोदा कोरोना लोकडाउन में

पड़ोसन भाभी रूबी को चोदा कोरोना लोकडाउन में

दोस्तो, इस हॉट पड़ोसन की चुदाई स्टोरी में मैंने करोना काल में चुदाई की मस्ती का रस भरने की कोशिश ...
Read More

Leave a Comment