Meri Randi Bahan Chudi – मामा ने मेरी जवान बहन चोद दी

मेरी रंडी बहन मेरे चाचा से चुद गयी! मेरी माँ के मुंहबोले भाई ने मेरी जवान बहन को पिछले 4 साल तक चोदा लेकिन मुझे तब पता चला जब मैंने उनकी लाइव चुदाई देखी.

सभी लंड और चूत वाली लड़कियों को मेरा नमस्कार!
मेरा नाम आलम खान है, मेरे परिवार में मेरी मां राहत, मेरी बड़ी बहन अमीरा, मेरी छोटी बहन महजबीन और मैं आलम हूं!

पिछली कहानी
मेरी बड़ी बहन को ठेकेदार ने चोदा
आपने पढ़ा कि कैसे मेरी बहन अमीरा को बबला ठेकेदार ने चोदा!

अब आगे की कहानी सुनिए कि मेरी रंडी बहन की चुदाई कैसे हुई:

जब मैं और मेरी बहन ठेकेदार से पैसे लेकर बाजार गए तो वहां मेरी मां और भाभी को मेरी बहन मिल गई.

अम्मी- बहुत देर कर दी क्या तुम लोगों ने?
अमीरा: ओह माँ, रेत खत्म हो गई थी इसलिए रेत बाहर डालने में देर हो गई।

फिर मेरी बहन ने अम्मी को 500 रुपये दिये और बोली- इस ठेकेदार ने ख़ुशी से इनाम दिया है.
मां खुश होकर-कितना अच्छा ठेकेदार है, 500 का इनाम दे दिया, चलो इसका मांस खरीद लेते हैं। बहुत दिन हो गए मांस खाए हुए।

मेरी बहन मन में कहती है- हां खाओ मेरी चूत की कमाई का मांस!

फिर हम हाफ़िज़ मामा की दुकान पर गए जो हमारे घर के पास ही है।

हाफ़िज़ की किराने की दुकान है और अम्मी हाफ़िज़ मामा से घर का सामान उधार लेती रहती हैं।

अम्मी ने कहा- हाफ़िज़ भाई, कितना चाहिए? आज भुगतान मिल गया.
हाफ़िज़ ने हिसाब देखकर कहा- राहत बहन आप पर 3000 का बकाया है।

मेरी अम्मी ने उसे पैसे दिए और कहा- हाफ़िज़ भाई, आज घर आ जाओ खाना खाने… हम मीट लाए हैं।
हाफ़िज़ ने हाँ में सिर हिलाया।

फिर मां और बहनें घर पर काम करने लगीं।

खाना तैयार होने के बाद मेरी माँ ने मुझे हाफ़िज़ मामा को बुलाने के लिए भेजा।

जब तक मैं उसकी दुकान पर पहुंचा, वह पहले से ही तैयार था।
उसने मुझे एक चॉकलेट दी और मेरे साथ घर चला गया।

जब हाफ़िज़ मामा आए तो मेरी मां रोटी बनाने लगीं.

मेरी अम्मी ने अमीरा से कहा- जा अंकल के हाथ धुलवा कर उन्हें चटाई पर बिठा दे.

मेरी बहन अंकल के पास हाथ धोने गई तो अंकल ने कहा- कल काम पर मत जाना, कोई बहाना बना देना.
और वो मेरी बहन की कमर पर हाथ फेरने लगे.

मेरी बहन ने उसके लंड को पैंट के ऊपर से ही पकड़ कर खींच लिया.
हाफ़िज़ मामा दर्द से कराहने लगे.

इतने में अम्मी की आवाज़ आई- आओ हाफ़िज़ भाई. खाना तैयार है!

फिर सब लोग खाना खाकर सोने चले गये.

सुबह जब अम्मी अमीरा को लेने जा रही थीं तो मेरी बहन बोलीं- अम्मी, मेरी तबीयत ठीक नहीं है. मैं आज काम पर नहीं जा रहा हूँ.
अम्मी- ठीक है आराम करो. और इस स्थिति को अपने पास रखें. दोपहर का भोजन साथ भेजें.

फिर अम्मी और महजबीन काम पर चली गईं.

उसने मेरी बहन के पास रखे हुए 500 निकाले और मुझसे कहा- आओ 2 मीठे पान और एक पैकेट सिगरेट का ले आओ। और निःसंदेह इसे गुप्त स्थान से बाहर लाओ।
मैं- जीजी आप ये सिगरेट और पान किसके लिए ऑर्डर कर रहे हैं?
मेरी बहन ने कहा- ये हाफ़िज़ मामा के लिए है. तुम जाओ और जब आओ तो हाफ़िज़ मामा को बुला लेना!

मैं- क्यों जीजी, अंकल से क्या काम है?
अमीरा- वह कल का गोश्त थोड़ा रह गया है। तो हम भी नाश्ता करें और आप भी खायें!

मैं- जीजी, मेरे लिए बोतलें बचा कर रखना, अंकल को सारी मत देना!
अमीरा- ठीक है बाबा. अब तुम जाओ।

मैं सामान लेकर हाफ़िज़ मामा की दुकान पर गया और उन्हें बुलाया.

तब तक मेरी बहन ने मीट गर्म कर लिया और हम दोनों को गर्म-गर्म रोटियां देने लगी.

खाना खाने के बाद मैं हाथ धोने लगा और मेरी बहन भी मामा के पास आकर खाना खाने लगी.

अंकल ने चूंचियाँ दबाते हुए कहा- यार अमीरा, मैं इसका क्या करूँ? इसे कहीं भेजो!

मेरी बहन ने मुझे बुलाया और पान और सिगरेट छिपा कर रख दी और बाकी पैसे मुझे दे दिए और बोली- जाओ इन पैसों से मौज करो और मोहल्ले के पास का मेला देखो.

लेकिन पैसे लेकर घर के पीछे छुप गया.
जैसे ही मेरी बहन दरवाज़ा बंद करने गयी, मैं पीछे की खिड़की से कूदकर घर में घुस गया और एक अच्छी जगह देखकर छिप गया।

हाफ़िज़ ने मेरी बहन से कहा- मैं तुम्हारे लिए एक तोहफा लाया हूँ!
मेरी बहन ने उसका लंड पकड़ लिया और बोली- इससे अच्छा गिफ्ट मेरे लिए क्या होगा?

हाफ़िज़ ने मेरी बहन की आँखों पर कपड़ा बाँध दिया, फिर अपनी पुरानी नकली बालियाँ उतार कर चाँदी की बालियाँ पहना दीं। उसने अपनी नकली पायल निकाली और चांदी की पायल पहन ली।
तभी चाचा ने आँखें खोलीं.

मेरी बहन बहुत खुश हुई और उसके होंठों को चूमने लगी- बहुत बढ़िया गिफ्ट मेरी जान… दिल खुश हो गया!

हाफ़िज़- मेरी जान, मेरी रांड… रुको, एक गिफ्ट और है.

उसने मेरी बहन को एक ब्रा पैंटी और एक मस्त लाल कुर्ता सलवार दिया.

उसे देख कर मेरी बहन ख़ुशी से अपनी गांड उठा उठा कर डांस करने लगी.
मेरी बहन बोली- मेरे राजा, रुको. मैं कपड़े पहन कर आती हूं.

हाफ़िज़ मामा गुस्सा हो गए- साली रंडी, तेरी माँ की चूत… जब मैंने झुमके, पायल पहनी तो मुझे कपड़े भी तो पहनने दे!
अमीरा-हुजूर, आपका हुक्म सिर-आँखों पर है! मैं इसे पहन लूंगा, तुम इसे उतार दो!
हाफ़िज़ मामा- ठीक है, जल्दी जाओ, अब मुझसे रहा नहीं जाता!

मैं जहां छिपा था, वहां मेरी बहन खुद ही अपने कपड़े उतारने लगती है. उसके नंगे स्तन देखते ही मेरा छोटा सा लंड भी खड़ा हो जाता है।
फिर उसने अपनी सलवार भी उतार दी और अपना हाथ अपनी चूत पर रख कर बोली- मजा लेने के लिए तैयार हो जाओ!
फिर उसने कपड़े पहने और अपने मामा के पास चली गयी.

उसे देख कर अंकल मुस्कुरा कर बोले- यार, मैं तुम्हें 4 साल से चोद रहा हूँ. तुम अभी भी नई कली की तरह दिखती हो.
अमीरा ने शरमा कर हाफ़िज़ मामा के सीने में अपना चेहरा छुपा लिया।

फिर हफ़ीज़ उसे चूमने लगा, मेरी बहन भी अंकल को चूमने लगी।

अंकल अपनी जीभ अपने मुँह में घुमाने लगे और मेरी बहन के मम्मों को कुर्ते के ऊपर से ही ज़ोर-ज़ोर से मसलने लगे।
मेरी बहन आहें भरने लगी- मेरे राजा, आराम से रगड़ो.. बहुत दर्द हो रहा है.

मेरी बहन ने चाचा की शर्ट उतार दी और चाचा की छाती पर चूमने लगी.

मॉम ने अपनी ब्रा भी उतार दी और उनके दोनों कबूतर आज़ाद हो गये.

अब मामा बारी-बारी से दोनों मम्मों को चूमने-चाटने लगे और बीच-बीच में काट भी लेते थे, तो मेरी बहन चिल्लाने लगती थी और तड़पने लगती थी.

माँ का मुँह अब मामा के मुँह में था और वो सलवार के ऊपर से मेरी बहन की चूत पर हाथ रगड़ रहे थे।

उन्हें बताया गया कि अब मेरी बहन बहुत शरारती हो गई है. उसका हाथ मेरी बहन की चूत के रस से भरा हुआ था.
वह अपना हाथ सूंघने लगा.

फिर मामा ने मेरी बहन को उठाकर बिस्तर पर गिरा दिया और उसकी सलवार उतार दी.
फिर अंकल ने मेरी बहन की चूत को पैंटी के ऊपर से ही सूंघा और चूमने लगे.

मेरी बहन ने भी अंकल की पैंट उतार दी और उनके लंड से खेलने लगी.
हाफ़िज़ मामा ने अब मेरी बहन की पैंटी उतार दी और मेरी बहन को पूरी नंगी कर दिया.

अपनी बहन की चूत और उसके लाल चूतड़ देख कर मैं भी अपनी नूनी हिलाने लगा.

फिर अंकल ने अपना मुँह उसकी चूत में घुसा दिया और उसकी चूत को चाटने लगे.
मेरी बहन चिल्लाने लगी- ओह मेरे राजा… मार डाला उई ईई… आग लगा दो मेरी चूत में. अब जल्दी से इसकी आग बुझाओ!

अंकल अमीरा बहन की चूत में अपनी जीभ ऊपर तक चलाने लगे.
मेरी बहन की चूत से रस निकलने लगा और चाचा मजे से उसका रस पीने लगे.

फिर अंकल ने अपना लंड मेरी बहन के मुँह में डाल दिया.
मेरी बहन रंडी की तरह लंड चूसने लगी!

फिर वो दोनों 69 की पोजीशन में आ गये.

अंकल फिर से मेरी बहन की चूत को चूसने लगे.
मेरी बहन फिर से गर्म हो गई और जोर-जोर से सिसकारियां लेने लगी- इसस्स्स्स्स आहह हहह! मेरे राजा, अब मत तड़पाओ अपनी रंडी को! जल्दी से मेरी चूत में लंड डालो!

अंकल अब मेरी बहन के पैरों के बीच में आ गए और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगे, जब उन्होंने लंड अंदर नहीं डाला तो मेरी बहन गुस्सा हो गई और उन्हें गाली देने लगी- इसस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स sssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssss स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स रंडी… हरामी की औलाद मेरी चूत! हरामी बहनचोद…यहाँ आग लगी है और तू मजे कर रहा है।

माँ जानती है कि मेरी बहन को सेक्स करते समय गाली देने और गाली खाने की आदत है।

हाफ़िज़ मामा- मैं भाभी कैसे बन सकती हूँ? मेरी कोई सगी बहन नहीं है. लेकिन हां मैं तेरी माँ चोद लूं ? वह मुझे अपना भाई मानती है.
मेरी बहन गुस्से में बोली- साले, तू मेरी माँ चोद रहा है, अपनी बहन को चोद… जो करना है कर। लेकिन पहले मेरी चूत की आग तो शांत करो!

हाफ़िज़ ने अपना लंड एक ही झटके में मेरी बहन की चूत में पूरा उतार दिया.
और जब लंड सीधे बहन की बच्चेदानी से टकराया तो मेरी बहन चिल्ला उठी- आह्ह हहह टोकरी… फाड़ दी तुमने मेरी चूत! हाय अम्मी… आज तो तेरी बेटी की चूत के चीथड़े उड़ गये! हाययय मैं मर गयी!

दूसरे झटके में मेरी बहन फिर से झड़ गई और हाफ़िज़ मामा को गालियाँ देने लगी- हरामी, हट मेरे ऊपर से और चोद अपनी माँ बहन! अपनी बेटी को चोदो! साले कब से कह रहे हो चोद चोद.. अब मेरा माल निकल गया। तुम चल कर मुठ मारो

हाफ़िज़ मामा को गुस्सा आ गया, उन्होंने मेरी बहन को बुरी तरह पीटा और गालियाँ दीं और बोले- साली रंडी, चुप रह… ज्यादा बोली तो तेरी चूत में बुखार डाल दूँगा। जिंदगी भर लंड के लिए तरसती रहूंगी.
माँ ने उसका लंड निकाला और चलने लगी.

मेरी बहन ने उसके पैर पकड़ लिए और सिसक-सिसक कर रोने लगी- मुझे माफ कर दो मेरे राजा. मैंने बहुत ज्यादा बात की. मेरी चूत की आग ने मुझे मजबूर कर दिया. आप जैसा कहेंगे मैं वैसा ही करूंगा. तुम मेरी जिंदगी हो, तुम्हारे बिना मैं मर जाऊंगा।

माँ का गुस्सा अब शांत हो गया था.
अब वो मेरी बहन से मजाक में कहने लगे- क्या तुम अपनी माँ मुझसे चुदवाना चाहती हो?
अमीरा रोते हुए बोली- हाँ, तुम मेरी माँ चोदते हो, मेरी बहन चोदते हो, लेकिन मुझे मत छोड़ना, मैं मर जाऊँगी।

तभी चाचा ने उसे गोद में उठा लिया.
अमीरा अभी भी रो रही थी.

माँ ने उसे चुप कराया और फिर से उसकी चूत चाटने लगी.
कुछ देर पहले जो रस निकला था उसे चाट कर साफ कर दिया.

मेरी बहन फिर से तैयार हो गयी और आहें भरने लगी.

अंकल ने मेरी बहन की चूत में लंड डाल दिया और जोर जोर से मेरी बहन को चोदने लगे.

मेरी बहन भी अपनी चूत उठा उठा कर चाचा का लंड लेने लगी- आ जा मेरे राजा जोर से… फाड़ दे मेरी चूत को! और ज़ोर से… आह आह! हाय्य्य्य्य्य और ऊपर मेरी जान!

मॉम भी जोश में आ गईं और ताबड़तोड़ चुदाई करने लगीं.
पूरा घर घप घप घप… चप चप… की आवाज से गूंजने लगा।

मेरी बहन फिर से झड़ने लगी और अंकल का लंड पकड़ कर जोर से पकड़ने लगी- आहह हहह आहहहह… मेरा तो हो गया! तुम अपना लंड गांड में डालो और अपना पानी निकालो.

अब मेरी बहन कुतिया बन गयी और अंकल पीछे से कुत्ते की तरह उसके पास आये और अपना लंड अमीरा की गांड में डालने लगे.

अंकल अमीरा को चोदने लगे.
मेरी बहन भी पीछे से अपनी गांड उछालने लगी.

कुछ देर बाद वो फिर से तैयार हो गई और चाचा से कहने लगी- जानू, मेरी चूत फिर से आपका लंड लेने के लिए बेकरार है.

अंकल ने अपना लंड मेरी बहन की गांड से निकाला और लेट गये और अमीरा को इशारे से लंड पर चढ़ने को कहा.

धीरे धीरे मेरी बहन का लंड अपनी चूत में ले लिया और पूरा अंदर ले लिया. फिर हफीज मामा को चूमते हुए उसके लंड पर कूदने लगी.
मॉम भी नीचे से लंड को अपनी चुत में धकेलती रहीं.

कुछ देर बाद चाचा ने मेरी बहन से कहा- मेरी रंडी, मुझे मजा नहीं आ रहा, तू लेट जा… मैं तेरे ऊपर आ रहा हूँ!
मेरी बहन – जो आज्ञा मेरे स्वामी!

वो लेट गयी और हाफ़िज़ मामा उसके ऊपर आ गये.

मैंने अपनी बहन की कमर के नीचे 2 तकिये रख दिए तो मामा ने बहन की टांगें कंधों पर रखीं और एक जोरदार झटका मारा.
अंकल का पूरा लंड मेरी बहन की चूत में चला गया.

मेरी बहन चिल्लाने लगी, वो दर्द से चिल्ला रही थी.
फिर अंकल मेरी बहन को फुल स्पीड से चोदने लगे.

मेरी बहन एक बार झड़ गयी.
काफी देर बाद अंकल भी झड़ने लगे- बोले रंडी, कहां गिराऊं माल?
मेरी बहन बोली- अन्दर डालो, मुझे बॉल मिल गयी है.

फिर अंकल मेरी बहन को जोर जोर से चोदने लगे.
कुछ देर बाद वो दोनों झड़ गये और अंकल थक कर मेरी बहन के ऊपर लेट गये.
दोनों जोर-जोर से सांस ले रहे थे।

कुछ देर बाद अंकल ने अपना मुरझाया हुआ लंड मेरी बहन के मुँह में डाल दिया.

मेरी बहन ने बड़े प्यार से उसके लंड को चाट कर साफ़ कर दिया.
फिर अंकल ने कपड़े पहने.

मेरी बहन अभी भी नंगी थी.
इस तरह मेरी रंडी बहन की चुदाई हुई!

जैसे ही अंकल जाने लगे तो मेरी बहन उन्हें नंगी ही बाहर छोड़ने चली गयी.

अंकल फूट रंडी… कोई और आ रहा है तेरी चूत बजाने?
अमीरा- नहीं तो… तुम ऐसा क्यों कह रहे हो?
अंकल- तो फिर तुम कपड़े क्यों नहीं पहन लेती?
अमीरा मुस्कुराई- मेरे राजा, अब जब तूने इतना पानी गिरा दिया है तो इसे साफ भी तो करना ही पड़ेगा ना? मैं शॉवर में नहाने जा रहा हूँ।
हाफ़िज़ मामा- दरवाज़ा ठीक से बंद कर लो. वरना अगर कोई तुम्हें नंगा देख लेगा तो चोद कर चला जायेगा.
अमीरा- कोई बात नहीं अगर कोई चोदेगा तो मैं उसे चोदने दूंगी. और क्या!
अंकल-भाभी, ज्यादा बोलोगी तो तुम्हारी चूत में अंगारे भर दूँगा!

मेरी बहन हँसने लगी और अंकल को होठों पर एक चुम्बन देकर भेजा।

फिर उसने दरवाज़ा बंद किया और नहाने लगी.
इसके बाद क्या हुआ अगली कहानी में!
बस खुद को प्रोत्साहित करते रहें।

आपको मेरी रंडी बहन की उसके चाचा से चुदाई की कहानी कैसी लगी?
[email protected]

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment