Mummy Aur Padosi ki Chudai Kahani – एक सेक्सी कथा – AntarvasnaStory.co.in

आपने अब तक पढ़ा, शादी से लौटते ही मां की खुशी गायब हो गई और सगाई के एक महीने बाद ही मां की शादी हो गई। 19 साल की उम्र में मां की शादी हो गई। नानाजी ने माता के विवाह में रेडियो, टेलीविजन, साइकिल, गाय, बकरी, बर्तन, फर्नीचर सहित 30 भार सोना और 1 किलो चांदी दहेज के रूप में दिया।

पूह माँ सेक्स कहानी यह आत्मकथा का भाग 4 है, यदि आपने पिछले भाग नहीं पढ़े हैं, तो उन्हें पढ़ें, कहानी बहुत ही आश्चर्यजनक रूप से सामने आती है और सभी को बहुत पसंद आती है। पूरी कहानी पढ़ें और शेयर करें

मेरे पिता का परिवार बहुत गरीब था, हमारा परिवार बहुत बड़ा परिवार है, 6 भाई और 4 बहनें हैं, पिता तीसरे नंबर पर थे, दादा के 6 भाई और तीन बहनें थीं और उन सभी के ऐसे ही बच्चे हैं, पिता से शिक्षित 8 से 10 और 6 फीट के जवान थे।

सुहागरात के समय माँ ने सेक्स के दौरान रोने का नाटक करके पिता को पता नहीं चलने दिया.पिता का लंड भी 6 इंच का था, माँ उसी से संतुष्ट थी. पर आज भी खान की कमी खली।चार महीने बाद पहला बहार आया था तो माँ अपने पीहर जाने की तैयारी कर रही थी।

और उसी समय माँ का पैर भारी हो गया, माँ बहुत खुश थी, माँ बनने वाली थी, तभी माँ पीहर चली गयी, सावन शुरू होने के एक दिन पहले, और चाचा खान माँ की राह देख रहे थे, माँ के जाते ही सब साथ में माँ से बहुत खुश और माँ का पेट भी अब निकल चुका था।

रात होते ही खान हमेशा की तरह अपनी मां का इंतजार करने लगा, लेकिन मां देर रात तक नहीं निकली तो खान मां को देखने के लिए पेशाब करने के बहाने निकल गया।गर्मियों में सभी बाहर ही सो जाते थे। तो माँ के चाहने पर भी न आ सकी और खान चुपचाप सोने चला गया।अगली सुबह नानीजी खेत में चली गयी और माँ के अन्य भाई-बहन स्कूल चले गये।

आज उनके जाने के बाद पहली बार खान साहब दिन में दो बार बोले। माँ बकवास मॉम करी ने सोचा था कि वो दोबारा ऐसा नहीं करेंगी लेकिन लंड की वासना उन्हें ऐसा करने से नहीं रोक सकी और उन्होंने एक बार फिर खान से अपनी चूत मारने को कहा.

सावन के पूरे महीने में मेरी माँ ने मुझे जमकर चोदा, और सावन खत्म होने के बाद, मेरी माँ अपने ससुराल लौट आई, नवंबर में, मेरी माँ ने मेरे सबसे बड़े भाई को जन्म दिया, और यह भाई एक महीने के बाद मर गया, उसके बाद मेरी सबसे बड़ी बहन का जन्म ऐसे ही ससुराल में हुआ। तीन साल बीत गए और मेरे पापा ने अपने कस्बे में साबुन की फैक्ट्री लगा ली।

जिसके लिए मेरे दादाजी ने तीस हजार रुपए दिए थे और गहने बेचकर और उधार देकर पैसे जमा किए थे, लेकिन दो साल बाद उस फैक्ट्री में घाटा हो गया और इस वजह से मेरे पिता ने सेक्स करना बंद कर दिया था. लेकिन माँ की चूत को रोज लंड चाहिए होता था इतना बड़ा परिवार होने के कारण माँ कुछ नहीं कर पाती थी. के अलावा मस्तराम का इतिहास पढ़ाई करना और संतोष करना, जो मां नहीं करना चाहती थी। अत: उसने नानाजी से और बीस हजार रुपये लिए और अपने पिता के साथ दूसरे नगर चली गई।

वहां पापा ने बाजार में कपड़े की दुकान खरीदी और बाजार के बाहर किराए पर मकान ले लिया, मां ने यहां आकर राहत की सांस ली और अपनी चूत की खुजली दूर करने के लिए अपने आसपास के घरों को देखा, हमारे एक पड़ोसी रूपराम जाट नाम के पडोसी थे मनिहारी में अभी उसकी दुकान थी, रूपराम अभी कुँवारा था और हृष्ट-पुष्ट शरीर था।

रूपराम का परिवार 10 किलोमीटर दूर खेत पर रहता था, लेकिन साधन के अभाव में रूपराम महीने में घर चला जाता था। शाम, पिताजी के जाने के बाद अगले दिन दी जाएगी। इतने में रूपराम घर में माल दान करने आ गया। Ruram से संपर्क करें बढ़ाने के लिए चाय पीने को कहा।

तो रूपराम भी तैयार हो गया और बातें करने लगा दोनों चाय पी कर जाने लगे।

मामा ने कहा- पैसे ले लो

रूपराम जी ने फिर कहा- भाभी इतने पैसे का क्या करेंगी

तो माँ ने कहा- मुझे भी वही लेना है। आप कितना मुफ्त देने जा रहे हैं ??

तब रूपराम ने कहा- भाभी, माल सहित प्राण ले लो

“वह कैसे हँसे”

तो मां ने कहा- रुको मैं लिस्ट लाती हूं

तो माँ ने सामान की लिस्ट पकड़ ली, शाम को रूपराम सामान ले आया।

लेकिन आज की तरह वो अगले दिन घर आ गया, पापा के जाने के बाद माँ ने रूपराम के हाथ में बैग देखा,

तो बोले- क्या लाए हो इतनी चीजें,

तो कहा- देखा

मां ने बैग देखा तो उसमें ब्रा के 6-6 पीस पेटी थे।

माँ ने कहा- मुझे तो बस दो जोड़ी चाहिए

तो रूपराम ने कहा – तुमने रंग नहीं लिखा तो मैं तीन रंगों में आया, पहन कर देखो, जो चाहो रख लो, मैं बाहर बैठा हूँ!

मम्मी अन्दर आई और ब्रा पहनने लगी और पहनते ही रूपराम को पुकारा और कहा – रूपराम ये क्या नाप का है… नहीं आ रहा!!!

रूपराम ने कहा – अंदर आकर देखो क्या ? !

माँ ने कहा – चलो, माँ ने तब तक ब्रा नहीं उतारी थी।

तो रूपराम से कहा – देखो बंद नहीं हो रहा है, तुम बस बंद कर दो…

रूपराम ने ब्रा खींची और बंद कर दी और कहा- इसकी साइज 40 है, तुमने 38 मांगी थी, तो कैसी होगी

यह सुनकर मां ने कहा- तुम्हें कैसे पता कि तुम 40 के हो?

तो रूपराम ने कहा – यह तो मेरी कामकाजी भाभी है, इतना टाइट पहनोगी तो छाती दुखने लगेगी।

तो माँ ने कहा -कल 2 ब्लैक साइज 40 ब्रा लाना और दो डिब्बे रखना

रूपराम ने पूछा-भाभी, डिब्बा तो भर गया है ना?

मां ने कहा- बिल्कुल आ गई

तो रूपराम ने कहा- मुझे लगता है वो बहुत छोटी है

मां ने कहा- इलास्टिक ढीला करने के बाद अपने आप निकलने लगती है तो मैंने छोटी वाली मंगवा ली

तो रूपराम ने कहा – मैं तुम्हारे लिए सबसे अच्छा लाऊंगा, चिंता मत करो

तो अगले दिन

रूपराम दो 40 अंक वाली काली ब्रा और दो 95 अंक वाली काली बेल्ट लाया। नहा-धोकर, चाय बनाकर रूपराम के लिए ब्रा और पेटी बेडरूम में रख कर माँ रूपराम का इंतज़ार कर रही थी।

रूपराम ने कहा – देख तू छोटा है या लंबा है तो मैं हाजिर हूं

“माँ के पास भी मौका था”

माँ ने कहा- बैठो, अभी पहनकर बताती हूँ। माँ घर में नाइटी पहनती थी, उसने नाइटी उतारी, ब्रा पहनी और रूपराम नाम की नाइटी पहनी। रूपराम भी प्रतीक्षा कर रहा था लेकिन प्रवेश करते ही निराश हो गया।

“माँ समझ गई।”

माँ ने कहा – रूपराम ठीक कह रहा है, बड़ा सहज और अन्दर ही अन्दर हँसता हुआ।

रूपराम ने कहा- अब क्या पता तुम इसे पहनो या नहीं

तो मां ने कहा- मुझे शर्म आती है

तो रूपराम ने कहा – भाभी कल भी देख लिया !!

तो माँ बोली – ठीक है,

मॉम ने बेबीडॉल खोलकर देखा तो मॉम ब्रा और पेटी में थीं, रूपराम लिंग उभार पजामा मैं अपनी मां को देखने लगा माँ की अन्तर्वासना वासना अब जाग रहा था।

माँ ने रूपराम से कहा- अभी ठीक है या कल की तरह बंद करोगे तो मानोगे

“रूपराम भी समझ गया था कि वो चोदना चाहती है”

तो रूपराम ने कहा- भाभी, तभी चलेगा

और यह कहकर वह अपनी माता के पास चला गया, माता उसकी ओर पीठ फेरकर उठ खड़ी हुई।

और कहा- जल्दी बंद करो, देखो दरवाजा खुला है, कोई आएगा

तो रूपराम ने कहा-भाभी, तुम रुको, मैं एक मिनट में दरवाजा बंद करके आता हूं।

रूपराम जल्दी से दरवाजा बंद करता है और कमरे में प्रवेश करता है, माँ अभी भी उसके पास वापस आ गई है। अर्धनग्न खड़ा था, रूपराम ने अपनी ब्रा के बटन खोले और उसे बाहर निकाल लिया।

माँ बोली – क्या कर रहा है ??

तो कहा- भाभी, ठीक है

और अपनी माँ का मुँह अपनी ओर कर लिया और अपनी कमर पर हाथ रख कर अपनी माँ को अपने सीने से लगा लिया। नग्न शरीर लेकिन वह हाथ हिलाने लगा। माँ गर्म साँस छोड़ने लगी – आहें भरने लगी,

रूपराम ने माँ के होठों को कसकर दबाया और माँ की चोर आह निकली, रूपराम ने माँ के होठों पर अपने होंठ रख दिए और चूमने लगा। माँ भी अपने होठों से जबरदस्ती रूपराम के होठों को चूसने लगीं, दोनों दस मिनट तक खड़े-खड़े चूमती रहीं।

फिर रूपराम ने माँ को बिस्तर पर पटक कर उनका पेटी निकाला और अपना कुर्ता पजामा खोल कर ऊपर लेटा दिया माँ माँ के होठों को चूसने लगी, माँ के स्तनों को सहलाने लगी, माँ ने भी रूपराम के लंड को महसूस करने के लिए उसकी पैंटी में हाथ डाला। 6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा रहा है।

मोटा लंड देख माँ की चूत से पानी निकलने लगा और माँ ने रूपराम को कस कर पकड़ लिया. रूपराम सिंगल जरूर थे लेकिन एक नंबर भाड़ में जाओ रहा है।

उसने बिना देर किए अपनी पैंटी उतार दी डिक पर थूक माँ की चूत पर लगा कर जोर से मारा, रूपराम का आधा लंड चूत में चला गया और दुसरे वार में पूरा लंड चूत में चला गया. रूपराम फिर से अपने कुंवारे लंड के साथ माँ की गांड शुरू हो गया, माँ और पड़ोसी की चुदाई शुरू हो गई।

माँ भी आज एक कुंवारे के लंड से चुद कर खुश हो रही थी. दोनों काफी देर तक जोर-जोर से चोदते रहे, मां ने दस मिनट में पानी छोड़ दिया, तो रूपराम ने 15 मिनट सेक्स के बाद मां की चूत को गर्म वीर्य से भर दिया था.

🧡 इसे भी अवश्य पढ़ें – XXX स्टोरी हॉट कलेक्शन🔥

इस तरह मां को दो महीने में पहला शिकार मिल गया, अब मां को यकीन हो गया, इधर पिता का काम भी अच्छे से शुरू हो गया और उन्होंने कपड़े की सप्लाई के लिए जीप पकड़ ली थी और कुछ ही महीने बाद रूपराम की शादी हो गई। इसलिए उसने इस बीच आना बंद कर दिया माँ और पिताजी कमबख्त की वजह से मां गर्भवती हो गई मेरा जन्म नवंबर में हुआ था मैं पहुंचा!!

मेरे पैदा होने के बाद से अब तक मां की शादी को 6 साल हो चुके थे माँ का ऑपरेशन है ऐसा किया था जिसके बाद मां बिल्कुल आजाद थी और अब पिता ने भी सीकर में अपना आशियाना ले लिया है. बड़ी बहन 3 साल की हो गई थी, पिता की नौकरी अच्छी चलने लगी तो पिता घर से बाहर रहने लगे।

कपड़े की दुकान पर काम करने वाला लड़का और जीप वाला अब माँ की तरफ देख रहे थे माँ की चूत को भी लंड चाहिए था. गर्म कहानी मैं आपको बता दूंगा कि अब किसने लॉटरी जीती। वहाँ तक टिप्पणी और अपनी राय दें।

अनुसरण करने के लिए कहानी…

कहानी भेजने वाले का नाम – रोहित कुमार ([email protected])

🧡इसे भी अवश्य पढ़ें – माँ की दोस्त कमबख्त

🧡इसे भी अवश्य पढ़ें – मैंने अपनी माँ को चोदा और उसे माँ बनाया!!

🧡इसे भी अवश्य पढ़ें – मेरी माँ मेरी रखैल थी!!

आपको कहानी कैसी लगी?

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment