Nude Family Fuck Story – घर है या सेक्स का अड्डा

नग्न पारिवारिक इतिहास में पढ़ें कि जब लड़का छोटा था तो उसकी माँ और चाचियों ने उसे जीवन में पहली बार सेक्स का सुख दिया था।

दोस्तो,
मेरा नाम रोनी दास है. मैं सिर्फ 20 साल का हूं.
कहानी का पहला भाग
देवरानी जेठानी चुडी जेठ देवर देख
आपने पढ़ा कि कैसे मैं अपनी चाची को अदालत कक्ष में ले गया।

अब आगे की नंगी पारिवारिक चुदाई कहानी:

मैंने ज्योति आंटी से कहा- आंटी अभी एक ट्रायल होने दो!

चाची नशे में बोलीं- ये कोई पूछने की बात है? खासकर इस मौके के लिए मैंने अंदर कुछ भी नहीं पहना है.’
मैंने कहा- तो फिर मेरा लंड चूसो और इसे बड़ा करो.

आंटी मेरे लंड को चूसने और हिलाने लगीं.
दो मिनट बाद मेरा हथियार उठ गया और मैं आंटी को डॉगी स्टाइल में लेकर तैयार हो गया.

मैंने उसकी साड़ी उठाई और उसकी चूत में लंड पेल दिया.
अचानक उत्तेजना के कारण उसके मुँह से आह निकल गई।

मेरा लंड उनकी चूत में 6 इंच तक ही जा पाया लेकिन आंटी को बहुत मजा आया.

मैंने उसकी चूत से लंड निकाल कर उसकी गांड में डाल दिया और जोर जोर से चोदने लगा.
चाची के मुँह से ‘आह आह ऊ… उम्म आह… जोर से…’ निकला।

कुछ देर बाद मैंने उसकी गांड से लंड निकाल कर उसकी चूत में डाल दिया और चोदने लगा.

करीब 5 मिनट के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया और उसे किस करने के बाद हम दोनों बाहर आ गये.

शालिनी चाची और माँ कपड़े खरीदने में व्यस्त थीं लेकिन यामिनी चाची हमारा इंतज़ार कर रही थीं।

फिर आंटी बोलीं- निक्कर और ब्रा ट्राई करने में इतनी देर लगा दी क्या?
ये सुनकर मैं थोड़ा मुस्कुराया और बाहर आ गया.

5 मिनट बाद मेरी मौसी और माँ शॉपिंग करके आ गईं और हम सब घर चले गए।

शॉपिंग ख़त्म होने के बाद हम सब घर आ गए.

घर आने के बाद माँ रसोई में चली गईं और तीनों चाचियाँ मेरे बगल वाले सोफे पर बैठ गईं और बातें करने लगीं।
लेकिन मैं ऐसे बैठा रहा जैसे मैंने उसकी बातों पर ध्यान ही न दिया हो.

मैं बैठ कर फ़ोन चलाने लगा और उसकी नंगी परिवार के बारे में बातें सुनने लगा।

ज्योति आंटी बोलीं- रात को रोने से पहले कौन चोदता है?
यामिनी आंटी बोलीं- आखिर में तो मैं तुम्हें चोदूंगी.
शालिनी आंटी बोलीं- ठीक है, पहले मैं रोनी को चोदना चाहती हूँ!

सभी सहमत हो गए और माँ के लिए व्यवस्था की गई।

ज्योति आंटी ने 3 आदमी बुलाये और उन दोनों से कहा- अब देखते हैं पल्लवी रांड अपने बेटे के लंड से कैसे चुदती है!
मैंने ये सब सुना लेकिन कहा कुछ नहीं.

करीब दस मिनट बाद वो तीनों आदमी हमारे घर आये.
उनमें से एक ने पूछा- जो ये करने वाला है, वो कहां है?

यामिनी आंटी बोलीं- वो किचन में है.
वो उन तीनों को लेकर किचन में चली गई और वहां से मुझे मां की चीख सुनाई दी.

मैं वहां गया तो देखा कि तीन आदमी मां को बेडरूम में ले जा रहे थे.

फिर मैंने मौसी से पूछा कि वो माँ के साथ बेडरूम में क्यों जाते है?
मामी बोलीं- धत्त!

मैंने अनजान बनते हुए कहा- लेकिन वो तो 3 लोग हैं ना? माँ अकेली कैसे चोदेगी?
मामी बोलीं- उसके लिए तीन भी कम हैं. मेरे साथ आओ… मैं तुम्हें दिखाता हूँ.

मैं अपनी चाची के साथ उस कमरे की खिड़की के पास गया और मैंने देखा कि एक आदमी माँ की साड़ी निकाल रहा था और उसने जल्दी से माँ को ब्रा और पैंटी में छोड़ दिया। बाकी 2 मर्दों ने माँ की ब्रा और पैंटी को एक साथ खींचा और फाड़ कर फेंक दिया.

तभी एक मर्द माँ के ऊपर चढ़ गया और लंड माँ के मुँह में डाल कर चुसवाने लगा.

मां की सांसें भी थम गईं.
कुछ देर बाद वह व्यक्ति चला गया और एक अन्य व्यक्ति आया.
वो भी उसके मुँह में लंड डाल कर उसका मुँह चोदने लगा.

अब माँ का विरोध भी ख़त्म हो गया था.

कुछ देर बाद उन तीनों ने मां से डॉग स्टाइल में आने को कहा.
माँ कुतिया बन गयी.

एक आदमी माँ के नीचे लेट गया और माँ उसके ऊपर लेट गयी.
उसने अपना लंड माँ की चूत में डाल दिया और वो भी एक झटके में.

जैसे ही मस्तान का लंड माँ की बुर में घुसा तो माँ के मुँह से एकदम से आह निकल गयी.
अभी मम्मी संभल ही पातीं, तभी एक और आदमी आ गया.

उसने अपना लंड माँ की गांड के छेद में रगड़ना शुरू कर दिया और जब तक माँ कुछ कहती या उसे रोकने की कोशिश करती, उसने एक ही बार में अपना पूरा लंड माँ की गांड में पेल दिया।

माँ के दोनों छेदों में लंड ने अपना कारनामा दिखाना शुरू कर दिया और तभी तीसरे आदमी ने माँ के मुँह को भी चोदना शुरू कर दिया.

अब माँ एक सड़कछाप रंडी की तरह हो गयी थी. उसके शरीर के हर छेद में लंड दौड़ने लगा.

इसी बीच यामिनी चाची अपनी चूत को सहलाने लगीं और उंगलियों से सहलाने लगीं.
उधर किचन में करीब 30 मिनट के बाद उन तीनों ने अपने लंड से माँ की चूत, गांड और मुँह में वीर्य छोड़ दिया.

उस समय तक मॉम शायद कई बार झड़ चुकी थीं.

इसके बाद उन तीनों ने मां को छोड़ दिया.
फिर मैंने देखा कि माँ की चूत, गांड और स्तनों पर वीर्य ही वीर्य लगा हुआ था.

तब तक आदमी का लंड फिर से गर्म होने लगा और वो माँ का नंगा बदन देख कर उत्तेजित हो गया.
अचानक उसने अपना खड़ा लंड माँ की चूत में डाल दिया.

अपने ऊपर अचानक हुए हमले से मां सदमे में आ गईं और गालियां देने लगीं.

इसलिए उस आदमी ने माँ को गोद में उठा लिया और सोफे पर ले गया.
उधर उसने पोजीशन लेकर माँ को धकापेल चोदना शुरू कर दिया, यहाँ तक कि माँ को चूम भी लिया।

माँ के मुँह से निकला- आह उह उह आ वो… जोर से चोदो माँचोद और जोर से चोदो… आह भोसड़ा बना दे मेरी चूत को… और जोर से पेल आह.

यह सुनकर वह आदमी भी और जोश में आ गया और माँ के स्तनों को जोर-जोर से दबाते हुए चोदने लगा।

फिर उसने मां को अपने लंड से उतार दिया और डॉगी स्टाइल में उनकी गांड चाटने लगा.

उसने माँ के स्तनों को मशरूम के गोले की तरह दबाया।

करीब 10 मिनट के बाद वो थक गया और उसने अपनी माँ को अपने ऊपर आने को कहा.

माँ भी गरम हो गयी थी.
वो ऊपर आ गई और लंड को अपनी चूत में डाल कर चूमने लगी और ऊंची उछलने लगी.

वह आदमी भी बुरा नहीं था, उसने भी माँ की गांड को जोर से मसला।
कभी -कभी उसने उसकी गांड को छेड़ दिया और कभी -कभी उसने उसके स्तनों की मालिश की।

करीब 10 मिनट के बाद माँ उसके ऊपर गिर गयी और वो भी अपना माल माँ की चूत में निकाल कर थक गया.
वे दोनों सो गये.

मां और उस आदमी को ऐसी हालत में देख कर यामिनी आंटी बोलीं- बस रोओ, अब और बर्दाश्त नहीं होता, आओ और मुझे बेडरूम में ले जाकर चोदो.
मैंने कहा- रुको मुझे एक आइडिया है कि तुम तीनों से कैसे प्रैंक करूं?

मैंने यह सुना तो यामिनी आंटी बोलीं- कैसे?
मैंने कहा- गेम खेलकर.

यामिनी आंटी बोलीं- गेम… कौन सा गेम?
मैंने कहा- तुम मेरे कमरे में आ जाओ.. मैं दोनों रंडियों को लेकर उसी कमरे में आ जाता हूँ।

चाची चली गयीं.

तो करीब 5 मिनट के बाद मैं अपने कमरे में गया और देखा कि तीनों रंडियाँ नंगी बैठी थीं।

यामिनी आंटी बोलीं- अब जल्दी से शुरू हो जाओ बेटा… कौन सा गेम खेलने जा रहे हो?
मैंने अपनी पैंटी बनियान खोल दी और बिस्तर पर पूरी नंगी हो गयी.

मैंने उससे कहा- मेरे हाथ में 3 पर्चियां हैं. आप तीनों इसका एक घूंट लें.

सभी ने एक नोट उठाया।
फिर मैंने पूछा- कौन सी पर्ची किसके पास है.. बताओ?

शालिनी आंटी बोलीं- मेरे पास बैंगन है!
यामिनी आंटी बोलीं- मेरे पास लौकी है.
ज्योति आंटी बोलीं- मेरे पास गाजर है.

मैंने उन्हें वो सब लाकर दिया और कहा- सब लोग इसे अपनी गांड में डालो।
फिर सभी ने मेरी बात सुनी और अपने-अपने औजार अपनी गांड में डाल लिए।

फिर मैंने उनसे कहा- अब मेरा लंड चूसो!
वो तीनों भूखी शेरनी की तरह आईं और मेरा लंड चूसने लगीं.

ऐसा करीब 5 मिनट तक चलता रहा.

फिर मैंने कहा- शालिनी सोफे के करीब आ गयी.
मैं जाकर सोफ़े पर बैठ गया और वो अपनी चूत मेरे लंड पर रख कर चोदने लगी.

तभी मैंने ज्योति को आंटी कहकर इशारा किया. वो मेरे मुँह के ऊपर बैठ गयी और अपनी चूत चुसवाने लगी.

यामिनी आंटी भी आ गईं और शालिनी आंटी की गांड चाटने लगीं.

करीब 5 मिनट के बाद शालिनी आंटी झड़ गईं और मेरे लंड के ऊपर से हट गईं.
वह आराम करने के लिए मेरे बिस्तर पर आई और लेट गई।

अब मैंने ज्योति आंटी से कहा- चलो फिर बिस्तर पर आओ.
वे आ गए।

मैंने उसे वहीं लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ कर उसे चोदने लगा.
तभी यामिनी आंटी ने बताया- तुम अपनी चूत चुसवाने आ रहे हो.

वो ज्योति आंटी के मुँह पर आकर बैठ गयी और उनकी चूत चाटने लगी.

करीब 5 मिनट बाद मैंने ज्योति आंटी से कहा- चलो अब अपनी गांड दिखाओ.

वो तुरंत डॉगी स्टाइल में आ गयी.
और मैंने अपना लम्बा और मोटा लंड उसकी गांड में डाल दिया.
वो मादक सिसकारियां लेने लगी- ओह उईमा आह.

फिर करीब 10 मिनट के बाद वो थक गयी और सो गयी.

अब यामिनी आंटी की बारी थी.
मैंने यामिनी आंटी से कहा- चलो मेरे साथ.. हम दोनों सेक्स रूम में चलते हैं।

वे भी ख़ुशी-ख़ुशी मेरे साथ चले।
वहां जाकर मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके हाथ बिस्तर से निकली जंजीर से बांध दिये.

फिर मैं उसके ऊपर आ गया और उसे चूमने लगा, एक हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा।
इसी बीच उसने अपनी चूत का पानी छोड़ दिया.

मैंने उनसे कहा- अपने पैर ऊपर उठाओ.
उन्होंने इसे उठाया.

मैंने उसके पैरों को अपने कंधों पर रखा और उसकी चूत में लंड को रगड़ने लगा.

उन्होंने मुझसे कहा- रोनी अब और मत तड़पाओ.. प्लीज़ चोद दो अपनी चाची की प्यारी फुद्दी को.. आओ आओ मुझे चोदो।

मैं उसकी चूत में लंड डालने की बजाय उसकी गीली चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा.
वो भी जोर से सिसकने लगी. उसकी आंखें बंद थीं, वो पूरा मजा ले रही थी.

उसके हाथ बंधे हुए थे वरना वो मेरा सर अपनी चूत में जरूर डाल देती.

मैंने अपनी जीभ निकाली और अपने लंड को रगड़ने लगा; फिर एक ही झटके में अपना लंड उसकी चूत में पेल कर उसे जोर जोर से चोदने लगा.

अरे मैंने उसके स्तनों को पकड़ लिया और उन्हें स्पंज की तरह निचोड़ने लगा।

फिर मैंने उसकी चूत से लंड निकाल कर उसकी गांड में डाल दिया और चोदने लगा.
लगभग के बाद. 5 मिनट बाद मैंने फिर से उसकी चूत में लंड डाल दिया और चोदने लगा.

इस बार उसने जोर से सिसकारी भरी, जिससे पूरा कमरा गूंज उठा.

कुछ मिनट बाद वो बोलीं- मेरा होने वाला है … मैं जा रही हूं.
मैंने कहा- हां मैं भी चाची.

फिर हम दोनों झड़ गये. मैं अपना लंड आंटी की चूत में डाल कर सो गया.

यही था इस सेक्स कहानी का मजा…
आपको यह नग्न पारिवारिक कहानी कितनी पसंद है?
कृपया मुझे ईमेल करें।
[email protected]

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment