Open Sex Family Kahani – देवरानी जेठानी चुदी जेठ देवर से

ओपन-सेक्स पारिवारिक कहानी में, चार भाइयों की चार पत्नियाँ हैं। ये आठों लोग एक दूसरे के साथ खुलेआम सेक्स करते हैं. कोई भी किसी को भी चोद लेता है. पढ़ने का आनंद लें!

दोस्तो, मेरा नाम रोनी दास है। मेरी उम्र 20 साल है, मैं मजबूत दिखता हूं क्योंकि मैं हमेशा वर्कआउट करता हूं।

वो मेरे जीवन के सबसे अच्छे पल थे जिन्हें मैं आज आपके साथ साझा करना चाहता हूं।

सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि यह ओपन सेक्स की एक पारिवारिक कहानी है, जो कमोबेश सच्ची घटनाओं पर आधारित है.

आइए मैं आपको सभी से परिचित कराता हूं।

मेरे पिता- दिलीप.
मेरी माँ – पल्लवी.

बड़े मामा- सुदेश.
बड़ी मौसी- यामिनी.

मंझले चाचा- रमेश.
मंझली चाची- शालिनी.

अंकल नंबर तीन- हिमेश.
मौसी नंबर तीन – ज्योति।

हमारे घर में मैं अकेला वारिस हूं क्योंकि मेरे तीनों चाचाओं के कोई संतान नहीं है.

हमारा घर बहुत बड़ा है. मेरे पिता दिलीप बहुत बड़े बिजनेसमैन हैं. बिजनेस अच्छा होने से हमारे घर में पैसों की कमी नहीं होती.

हमारे घर में सभी लोग बहुत खुले स्वभाव के हैं. मतलब हमारे घर में कोई भी किसी को भी बिना किसी रोकटोक के चोद सकता है.
दरअसल, घर के सभी सदस्य अपनी रातों को रंगीन बनाने के लिए अपनी पसंद के सेक्स पार्टनर को घर में लाते हैं या अपने साथ ले जाते हैं। इससे किसी को कोई परेशानी नहीं हुई.

बिजनेस को बड़ा बनाने के लिए घर की औरतें अक्सर गैर मर्दों से उनके बिस्तर पर ही चुदाई कराती थीं.
इन सबके कारण पापा, मम्मी और चाचा-चाची के बीच पूरा खुलापन आ गया था।

सब लोग एक साथ ड्रिंक और सिगरेट पीते थे.
जब घर के सेंट्रल हॉल में ब्लू फिल्में चलती थीं तो कोई आंटी किसी अंकल के साथ सेक्स करने लगती थी या मेरे पापा किसी आंटी के साथ सेक्स गेम खेलने लगते थे.

ये सारे खेल खुलेआम होते थे. किसी को कुछ भी बुरा नहीं लगा.
हमारे घर में एक सेक्स रूम भी है जहां हर तरह के सेक्स खिलौने रखे जाते हैं.

इस माहौल के कारण, हमारे घर में लगभग हमेशा फोरसम सेक्स होता है।
कभी पार्टनर बदल कर तो कभी किसी बाज़ारू रंडी को बुला कर.

जब मैं बच्चा था तब से मैंने यह सब अपनी आँखों से देखा है।
जब मैं आपको यह सेक्स कहानी सुनाने जा रहा हूं, उस समय मैं जवान था और मेरा 19वां जन्मदिन आ रहा था.
वहीं, मेरे तीसरे चाचा यानी. हिमेश, हमारे घर में ज्योति से शादी हुई।

हम सब उस शादी से खुश थे. शादी ख़त्म होने के बाद हम सब अपने घर आ गए और सभी बड़े लोग चाचा चाची की हनीमून की तैयारी करने लगे.

हिमेश अंकल का बिस्तर पूरा सजा हुआ था.

तो रात को करीब 8 बजे मेरे घर के सभी लोग हिमेश अंकल के कमरे में आये और सभी ने एक-एक करके गोलियाँ खा लीं।

मैंने माँ से पूछा- माँ, तुम सब क्या खा रही हो, मुझे भी दे दो!
मां ने कहा- बेटा, जब तुम बड़े हो जाओगे तो मैं तुम्हें अपने हाथों से यही खिलाऊंगी और तब तुम हम सब से आनंद लेना. अभी आपकी कानूनी उम्र नहीं हुई है, इसलिए सोफे पर बैठकर यह शो देखें।
मैंने भी कुछ नहीं कहा और सीधा सोफे पर जाकर बैठ गया.

तभी ज्योति ने आंटी से पूछा- भाभी (मेरी मां) क्या हो रहा है, सब हमारे कमरे में क्यों आये?
माँ ने कहा- हमारे घर की परंपरा है कि सुहाग रात में परिवार के सभी सदस्य एक साथ सुहागरात का आनंद लेंगे और साथी भी बदल लेंगे।

यह सुनकर ज्योति चाची बोलीं- ये तो बहुत खुशी की बात है. आज मैं चार चार लन्ड से चुदने जा रही हूँ।

रमेश चाचा ने पल्लवी को आवाज दी- भाभी, अब आप भी यहां आ जाओ. मैं तुम्हारे सारे कपड़े उतारना चाहता हूँ, देखो हम सब नंगे हैं अब केवल तुम और ज्योति बचे हैं।
मॉम बोलीं- आ रही हूं यार, कहीं नहीं जा रही.

फिर चाचा ने माँ को नंगा कर दिया और एक हाथ उनके स्तनों पर और एक हाथ उनकी चूत पर रखकर सहलाने लगे।

उनको देख कर मेरे पापा दिलीप भी ज्योति आंटी को नंगा करके उनकी चूत और गांड चाटने लगे.

साथ ही हिमेश अंकल यामिनी आंटी को चूमने लगे और उनकी गांड मसलने लगे.
उन्हें देखकर सुदेश अंकल शालिनी आंटी की चूत में अपनी उंगलियां डालने लगे और उनके होंठों को चूसने लगे.

कुछ देर बाद सभी लोग 69 की पोजीशन में आ गये और लंड और चूत चूसने लगे.

सक्शन लगभग 10 मिनट तक जारी रहा।
इसी बीच मेरी मां पल्लवी गिर गईं.

ज्योति आंटी, यामिनी आंटी एक बार और शालिनी आंटी दो बार झड़ चुकी थीं।

फिर भी वे थक नहीं रहे थे क्योंकि उन सभी पर गोलियों का असर शुरू हो गया था और सभी आनंद लेने में व्यस्त थे.

तभी मेरी मां पल्लवी बोलीं- रमेश, मैं अब और बर्दाश्त नहीं कर सकती. मुझे तुम्हारा लंड चाहिए जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डालो और चोदो अपनी भाभी की प्यारी चूत को।

यह सुन कर चाचा ने माँ को लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ गये और अपना लंड माँ की चूत के ऊपर रगड़ने लगे।

मां कामुक आवाजें निकालते हुए बोलीं- आह उई मां आह … पूरा पेलो ना आह अब और तड़पाओ राजा … पेल दो चूत में.

उधर अंकल भी कम नहीं थे, उन्होंने लंड का टोपा माँ की चूत में डाला और तुरंत बाहर निकाल लिया ताकि माँ को और ज्यादा तकलीफ हो।

थोड़ी ही देर में मम्मी को गुस्सा आ गया और अंकल को गालियाँ देने लगीं- हरामी… लंड अन्दर डाल… नहीं तो तेरी माँ चोद दूँगी… डाल भैन के लौड़े… डाल दे अपना लौड़ा मेरे भोसड़ा में हरामी।

गाली सुनकर अंकल को गुस्सा आ गया और उन्होंने एक जोरदार धक्के के साथ अपना लंड मम्मी की चूत में पेल दिया.

इस अचानक झटके से अंकल का लंड सीधा जाकर मम्मी की बच्चेदानी से जा टकराया.

माँ दर्द से खड़ी हो गई- आह भोसड़ी के जान लेना क्या मेरी… आह धीरे धीरे पेल मादरचोद!
उधर हिमेश चाचा ने यामिनी चाची को चोदा.

दिलीप अंकल ने ज्योति आंटी को और सुदेश अंकल ने शालिनी आंटी को खाना खिलाया.
कुछ देर बाद उसने अपनी पोजीशन बदल ली.

अब अंकल ने मेरी मां की टांग को हवा में उठाकर चोदा.
दिलीप चाचा ज्योति चाची को डॉगी स्टाइल में चोद रहे थे.

उधर यामिनी आंटी ने हिमेश अंकल के ऊपर और शालिनी आंटी ने सुदेश अंकल के ऊपर चढ़कर सेक्स का मजा लिया.

दोनों के दूध मस्ती से हिल रहे थे क्योंकि दोनों अंकल आंटी की चूत को मसल कर भोसड़ा बनाने में लगे हुए थे।

ये सिलसिला करीब 15 मिनट तक चलता रहा.
उसके बाद मेरे पापा दिलीप बोले- अब सब लोग अपने पार्टनर के साथ सेक्स करते हैं.

सारे अंकल अपना माल चोदने लगे।
करीब 5 मिनट के बाद मैं थोड़ा करीब गया और पापा से कहा- पापा, मैं बहुत दिनों से देख रहा हूँ कि आप सिर्फ चूत ही चाटते हैं, अब इसकी गांड भी मारो!

Then the father said – Yes, son, I will now kick your mother’s ass.

इसके साथ ही पापा ने स्वर में कहा- छेद बदलो.
यह सुनकर, हर कोई अपने गधे को मारने के लिए सहमत हो गया और सभी ने अपने साथी को डॉगी स्टाइल में ले लिया और अपने गधे में लंड को रगड़ना शुरू कर दिया।

सभी ने लगभग एक ही समय में गधे को लात मारना शुरू कर दिया।

मॉम और मौसी की गांड पहले से ही खुली हुई थी, इसलिए सभी औरतें मजा लेकर कामुक सिसकारियां लेने लगीं.

‘आह आह चोदो मुझे… उह या उह उह उई माँ मार डाल रे… आह आह और जोर से पेलो… और जोर से पेलो।’

मेरे चाचा और पिता दोनों ने अपनी गति बढ़ाई और गधे को पीटना शुरू कर दिया।

करीब 10 मिनट बाद पापा ने अपना सारा माल मम्मी की गांड में गिरा दिया.

उधर एक चाचा ने चाची की गांड से लंड निकाल कर उनकी चूत में रस भर दिया और दूसरे चाचाओं ने क्रमश: अपना रस मम्मों के ऊपर और मुँह के अंदर डाल दिया और सो गये.

इस ओपन सेक्स फैमिली स्टोरी में अब मैं आपको बताऊंगा कि मेरी 19 साल की पार्टी में क्या हुआ था.

उस दिन सुबह जब मैं उठा तो देखा कि घर की सभी आंटियां और मेरी मां मेरे सामने खड़ी थीं.

मैं उन दोनों को अचानक सुबह-सुबह एक साथ देखकर हैरान रह गया।

तभी माँ मेरे पास आईं और मेरे होंठों पर किस करके बोलीं- आज तुम्हारा जन्मदिन है और तुम 19 साल के हो गए हो.. इसलिए हम सब सुबह-सुबह तुम्हारे करीब खड़े रहते हैं।

फिर सभी ने मुझे जन्मदिन की बधाई दी.
आंटियाँ मेरे पास आईं और मेरे होठों को चूम लिया।

ज्योति आंटी मेरे लंड को सहला कर बोलीं- आज अपना हथियार संभाल कर रखना राजा. क्योंकि आज आपके बेटे की परीक्षा है और आपको यह परीक्षा पास करनी ही होगी. तो रात के बड़े आश्चर्य के लिए तैयार रहें।

यह सुनकर मैं बहुत खुश हुआ और मेरा लंड पैंट के अंदर से ही तंबू बनाने लगा.

ये देख कर यामिनी आंटी बोलीं- चलो, ये तो अभी से बहुत एक्साइटेड लग रहा है. आज न जाने कितनी चूतों का भोसड़ा बनेगा.
ये सुनकर सभी हंसने लगे.

फिर मैंने माँ को बुलाया और उनसे कहा- माँ, मेरा लंड मत चूसो… देखो कितना बड़ा हो गया है! कृपया शुरुआत में कुछ करें.

माँ ने सबके सामने मेरी पैंट उतार दी.
वो मेरे सख्त लंड को हाथ से हिलाने लगी और चूसने लगी.

फिर माँ ने उसी समय अपना ब्लाउज खोल दिया और अपने स्तन मेरे लंड के दोनों तरफ रखकर मज़ा करने लगीं.
वो मेरे लंड को अपने स्तनों में दबा कर अपने स्तनों को ऊपर-नीचे करने लगी।

यह देख तीनों मौसियों की हालत खराब होने लगी.
जब उसने नया लंड देखा तो उसकी चूत से पानी निकलने लगा.

मेरा लंड लगभग लम्बा और बहुत मोटा हो गया था.
मेरे लंड का आकार हमारे घर के सभी लंडों से बड़ा था क्योंकि मैं लंड को बड़ा और मोटा करने के लिए दवा भी ले रहा था और व्यायाम भी कर रहा था।
इसलिए मेरा लंड बाकी सभी के लंड से ज्यादा मोटा और बड़ा था.

करीब 20 मिनट तक मॉम मुझे ब्लो जॉब देती रहीं.
फिर मैंने कहा- माँ, मुझे अपनी चूत दिखाओ.. मैं उसमें झड़ना चाहता हूँ।

यह सुन कर माँ मेरे कंधों के सहारे लटक कर मुझसे चिपक गईं और लंड के निशाने पर फनफना कर बैठ गईं.

मैंने धक्का देते हुए माँ की चूत पर निशाना लगाया और धक्के मारने लगा।

कुछ जोरदार धक्कों के बाद मैंने अपना माल उसकी चूत में गिरा दिया और उसे चूमते हुए बिस्तर पर लेटा दिया।
करीब 5 मिनट बाद माँ बोलीं- अब आ बेटा, अब मुझे जी भर कर चोद.. मुझे और तड़पाना बंद कर!

मैंने कहा- माँ बस रात तक रुक जाओ. रात को मैं तुम्हें अपने जीवन का सबसे बड़ा सुख दूँगा।
लेकिन माँ ने कहा- नहीं बेटा प्लीज़, बस एक बार मुझे चोद दो।

लेकिन मैं नहीं माना और उसकी गांड पर जोर से थप्पड़ मार कर बाथरूम में चला गया.

मेरा बर्ताव देख कर यामिनी और शालिनी आंटी बोलीं- आह… काश ये थप्पड़ मेरी गांड और मम्मों पर लगे!
तब तक माँ ने अपनी साड़ी ठीक की और बोलीं- ये मेरा बेटा है इसलिए पहली चाल मेरी होगी और इसका लंड पहले मेरी गांड और चूत में घुसेगा.
ये कह कर वो चली गयी.

मां का ये अंदाज देख तीनों आंटियां बोलीं- देखो इस रखैल को.. रंडी ने क्या कहा और चली गई. अब हमें कुछ करना होगा.

ज्योति आंटी बोलीं- मेरे पास इसके लिए एक आइडिया है!
सबने पूछा- क्या प्लान है?

ज्योति आंटी बोलीं- आज चारों भाई घर नहीं आ रहे हैं. तो एक काम करो. चलो इस कुतिया के लिए 3 आदमी किराये पर लेते हैं जो इस मालकिन की गांड, चूत और हर छेद में अपना लंड डालेंगे। तब उसे मालूम होगा कि हमसे लड़ने का नतीजा क्या होगा।

ये सारी बातें मैंने बाथरूम के अंदर सुनी थीं, लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा.

तो शाम को मैंने अपनी माँ और तीनों मौसियों से पूछा कि पापा और चाचा सब कहाँ हैं?
शालिनी आंटी बोलीं- बेटा आज सुबह ही वो सब अमेरिका के लिए निकल गये. वह एक व्यापारिक यात्रा पर जा रहा था। वह 30 दिन बाद आएंगे.

मैंने कहा- ठीक है, फिर तुम सब मेरे साथ शॉपिंग पर चलो.
सब खुश हो गये और एक साथ बोले- हाँ हाँ चलो।

हम सब कार में बैठे और मॉल चले गये।

उधर, हम सब पहले पुरुषों के कोने में गए और वहां से चारों महिलाओं ने मेरे लिए अपनी पसंद की जींस, शर्ट, शॉर्ट्स-बनियान आदि खरीदे।

फिर मैंने कहा- चलो लेडीज कॉर्नर में चलते हैं.. मुझे भी तुम सबके लिए कुछ खरीदना है।

हम सब वहाँ एक साथ गए और मैंने ज्योति चाची के लिए दो जोड़ी ब्रा और पैंटी सेट और एक बिकनी भी खरीदी।
मैंने उनसे कहा- आंटी चलो कोर्ट रूम में चलते हैं.. वहां जाकर देखते हैं कि वो कैसी दिखती हैं।
वो बोली- हां चलो, तुम भी आ रहे हो.

मैंने कहा- ठीक है, तुम जाओ, मैं भी आऊंगा.

हम दोनों कोर्ट रूम पहुंचे और उसे अंदर से बंद कर लिया.

दोस्तो, इस सेक्स कहानी का अगला भाग मेरी मौसी और मेरे साथ सेक्स का भाग है जिसमें आप सभी को खूब मजा आने वाला है।

आपको यह ओपन सेक्स फैमिली स्टोरी जरूर पसंद आएगी, कृपया मुझे ईमेल करें.
आपको अगला भाग जरूर पढ़ना चाहिए कि कैसे मैंने अपनी चाचियों को चोदा और कैसे मेरी माँ दूसरे मर्दों के साथ पकड़ी गई।
[email protected]

ओपन सेक्स फैमिली स्टोरी का अगला भाग:

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment