Pati Patni Sex Kahani – जीजा गर्म, साली भी गर्म

पति पत्नी सेक्स कहानी दो चचेरी बहनों में से एक की उसके पति से शादी के बारे में है। जब पति-पत्नी दुबई जा रहे थे तो अपनी अविवाहित बहन को भी साथ ले गए।

दोस्तों आपने मेरी पिछली कहानी पढ़ी
अनियंत्रित इच्छा का परिणाम
पसंद आया, यह आपके द्वारा प्राप्त ईमेल में परिलक्षित होता है।

जैसा कि मैंने पहले भी कहा था कि मेरी कहानियाँ महज़ कल्पना नहीं हैं, बल्कि मेरे किसी न किसी पाठक की जीवन यात्रा का एक पड़ाव हैं।
इसीलिए इन कहानियों के पात्र आपको अपने पड़ोस में रहने के लिए प्रेरित करेंगे।

आज की स्पाउस सेक्स स्टोरी माधुरी के बारे में है.
माधुरी और रेखा दो चचेरी बहनें हैं। एक ही घर में पढ़ीं और बड़ी हुईं और बहनों से ज्यादा दोस्त की तरह थीं।

रेखा पढ़ने-लिखने में बहुत तेज़ हैं जबकि माधुरी अल्हड़, बिंदास, ख़ूबसूरत और चंचल हैं।

रेखा जिस चीज को ठान लेती है उसे हासिल करने के लिए प्रतिबद्ध रहती है और माधुरी जिस चीज को ठान लेती है, उसे वह ऐसा मानदंड बना देती है कि वह उसकी ओर खिंची चली आती है।

दोनों बहनें एक-दूसरे से बहुत प्यार करती थीं, एक-दूसरे पर जान छिड़कती थीं।

माधुरी पढ़ाई में भी फर्स्ट आएं इसके लिए रेखा काफी मेहनत कर रही हैं!
लेकिन माधुरी तो हवा का तेज़ झोंका थी… हवा का ऐसा झोंका जो सबको उड़ा ले जाए!
भले ही वह एक लाइन हो.

कुल मिलाकर रेखा की संगत में माधुरी अच्छे नंबरों से पास हुईं, लेकिन माधुरी की संगत ने रेखा को कुछ ज्यादा ही निर्लज्ज बना दिया।
लेकिन रेखा सिर्फ माधुरी से ही खुलती थीं।

दोनों मस्ती करते हैं.
बेड हो या शॉवर, माधुरी वहां शरारतें शुरू कर देती थीं लेकिन रेखा भी उनका खूब साथ देती थीं।

उनकी शरारतें इस हद तक बढ़ गई थीं कि एक बार अपने दोस्तों के साथ गोवा ट्रिप के दौरान उन्होंने थाई मसाज का लुत्फ उठाया था।
सिर्फ सेक्स के अलावा जवानी का सारा मज़ा वे दोनों लूट चुके थे।

दोनों का शरीर सुडौल और गोरा रंग था।

जब अलविदा कहने का समय आया, तो माधुरी की पहली शादी एक हीरा व्यापारी मनीष से हुई थी।
मनीष महीने में एक हफ्ते के लिए दुबई जाता था.

मनीष, माधुरी की बढ़ती जवानी और अल्हड़पन का कायल था।
शादी के बाद माधुरी और रेखा के बीच दूरियां बढ़ गईं क्योंकि माधुरी के पास सेक्स के अलावा कोई काम नहीं था।

पहले कुछ महीनों में जब भी मनीष दुबई जाते थे तो माधुरी भी उनके साथ जाती थीं।
लेकिन अब वो भी थक चुकी थी क्योंकि दिन में मनीष उसे समय नहीं दे पाता था और फिर उसने सेक्स का सारा रोमांच कर लिया था.

इसी बीच रेखा की शादी एक सरकारी अधिकारी अनुज से तय हो गई।
अनुज एक सरकारी कंपनी में अधिकारी थे. बढ़िया वेतन और कोई पारिवारिक दायित्व नहीं।
वह नोएडा में अकेले रहते थे, उनके परिवार के लोग लखनऊ में ही थे।

इस बार जब मनीष का दुबई जाने का प्रोग्राम बना तो माधुरी रेखा को भी अपने साथ ले गईं।

रेखा ने इस बात को बहुत खारिज किया कि वह मुझे दाल-चावल में मूसलचंद बनाकर क्यों ले जाती है।
लेकिन माधुरी जिद पर अड़ गई और बोली- मैं एक हफ्ते के लिए मनीष के साथ नहीं, तुम्हारे साथ करना चाहती हूं.

खैर, दुबई के होटल में माधुरी की जिद के बावजूद रेखा ने अलग कमरा ले लिया।
इस बार मनीष के पास काम कम था.. तो पहले तीन दिन तो तीनों घूमे-फिरे और मौज-मस्ती की।

रेखा और मनीष के बीच भी लिहाज़ का कोई पर्दा नहीं था, मनीष उसे पूरी घरवाली की तरह चूमता और गले लगाता था और आधी घरवाली कहता था।
इस पर माधुरी खूब हंसती हैं और मनीष को और भड़काती हैं.

रेखा अकेले में शिकायत करती थी-तुम्हारा पति मेरी माँ पर ज़ुल्म कर रहा है, काश उसका बस चले तो।
सुनने के बाद माधुरी कहतीं- एक बार सवाल मिलता है तो अनुभव भी मिलता है. बाद में कोई दिक्कत नहीं होगी. पहले महीने में मनीष ने मेरी माँ पर ज़ुल्म करके उसे शरमा दिया।

रात को माधुरी कभी मनीष के साथ सोती तो कभी काम निपटाने के बाद रेखा के करीब आती और उससे लिपट जाती।

रेखा कहती है- अभी तो करवा कर आ रही है, संतुष्ट नहीं हो क्या?
माधुरी ने उसे छेड़ा- आज रात तीनों मिलकर करेंगे.
रेखा ने उसे डांटा।

लेकिन अब रेखा की चूत भी उसकी चालाकी को महसूस करके पानी छोड़ रही है.

आख़िरकार माधुरी ने रेखा को मना ही लिया कि आज रात रेखा उसके साथ सोयेगी और सोने का नाटक करके उसकी लाइव चुदाई देखेगी।
रेखा बोली- अगर मनीष मेरे ऊपर चढ़ गया तो?
इस पर माधुरी बोली- नहीं, तुम्हारी पहली चुदाई अनुज ही करेगा, उसके बाद हम फिर साथ में चुदाई करेंगे.

अब भले ही मनीष ने रेखा के साथ सेक्स नहीं किया हो, लेकिन अब उन तीनों को उसे चूमने और कहीं भी छूने से कोई परहेज़ नहीं था.

रेखा ने हंसते हुए माधुरी से कहा कि माधुरी की नजर अनुज पर नहीं है, मैं अनुज को तुम्हें नहीं दूंगी!
माधुरी भी हंस पड़ी और बोली- चलो शर्त लगा लो, देखो तुम अनुज को मेरे पास लाओगे या नहीं.
हंसने-हंसाने की बात थी, बात आ गई और हो गई।

रात को माधुरी ने मनीष से कहा- रेखा भी आज यहीं सोयेगी। बेचारी अकेली बोर होती है. बस अपने आप पर नियंत्रण रखें. आज सेक्स नहीं करना है, जो करना है मजे करो.
मनीष बड़बड़ाया लेकिन तय हुआ कि सीमा नहीं लांघी जाएगी लेकिन किसी को किसी बात का बुरा नहीं लगेगा।

रात को बाहर खाना खाने के बाद तीनों करीब 11 बजे होटल पहुंचे.
जब रेखा अपने कमरे में दाखिल हुई तो माधुरी ने कपड़े बदल कर कपड़े पहने और रेखा को बुलाया।
वह उसे अपने साथ रहने के लिए लाने पर जोर देने लगी।

रेखा ने इस बात से बहुत मना किया कि मनीष का मूड खराब होगा लेकिन माधुरी नहीं मानी, बोलीं- एक दिन नहीं करेंगे तो क्या होगा. जब सो जाओगी तब कर लेंगे. फिर वे कल वापस चले जायेंगे.
जब रेखा ने नाइटगाउन पहनना चाहा तो माधुरी ने उन्हें जबरदस्ती एक ड्रेस पहनाई और छीन ली!

उन्हें इस ड्रेस में देखकर मनीष ने सीटी बजाई और आगे बढ़कर रेखा को गले लगा लिया.
मनीष बोला- यार तुम अनुज के लिए कोई दूसरी लड़की क्यों नहीं ढूंढ लेते और मुझसे ही शादी कर लेते हो.

रेखा बोली- हाँ यार, मन तो मेरा भी तुम्हारे पास है, पर क्या करूँ बेचारी माधुरी का ख्याल आता है। या तो अनुज को भेज दो?
तीनों हंस पड़े.

मनीष ने हार्ड बियर की तीन कैन खोलीं।
अगर इनमें अल्कोहल की मात्रा बहुत ज्यादा हो तो आप नशे में धुत हो जाते हैं।

तीनों बिस्तर पर बैठ कर मजाक करने लगे.

जैसे ही मनीष बार-बार रेखा की जाँघ पर हाथ फेरता, रेखा भी हँसकर उसे डाँट देती- अब तो तुम्हारे पास भरी-पूरी गृहस्थी है, तो आधी गृहस्थी पर अपनी नियत क्यों ख़राब कर रहे हो?
तो मनीष बोला- आज मैं उसे आधा और तुम्हें पूरा बना दूँगा।

रेखा ने अपनी लम्बी जीभ निकाल कर उसे चिढ़ाया.

गपशप में रात का एक बज गया।
बियर की गंध ख़त्म हो गई थी.

रेखा बोली- मैं सो रही हूँ!
इतना कह कर वो बिस्तर के दूसरी तरफ घूम कर लेट गयी.

माधुरी ने रोशनी कम कर दी और मनीष की बांहों में समा गयी.
मनीष उसके होठों से मिल गया.
दोनों एक दूसरे से चिपक गये.

माधुरी को रेखा की चिंता हो रही थी इसलिए उसने मनीष से कहा- अब बस करो, अब सो जाओ. वरना रेखा को भी नींद नहीं आएगी.

रेखा सोई नहीं थी, बोली- नहीं, पहले तुम इसका ख्याल रखो, इसलिए मैंने मना कर दिया कि तुम लोगों को परेशानी होगी।

माधुरी हंसते हुए रेखा से चिपक गई- नाराज मत हो, मैं आज तुम्हारे साथ सोऊंगी. मनीष अपने हाथों से काम करना चाहते हैं.

माधुरी ने अपने होंठ रेखा के होंठों से चिपका दिये.
रेखा कसमसाई तो माधुरी ने उसे डांटा- आज हम वैसे ही सोएंगे जैसे अपने कमरे में सोते थे, मनीष सिर्फ देखता रहेगा।

तो रेखा ने उसे धक्का दिया- चल हरामी, तू तो पैदाइशी बेशर्म है.

अब माधुरी लेट गयी और रेखा की पीठ से चिपक गयी.
माधुरी ने अपनी गोरी चिकनी टाँगें रेखा की टाँगों पर रख दीं और ऊपर-नीचे होने लगीं।

रेखा कसमसाने लगी तो माधुरी ने अपने हाथों से रेखा के स्तन पकड़ लिए.

अब कमरे में अँधेरा था.

रेखा ने भी हथियार डाल दिये.
माधुरी उसे चूमती-चाटती रही और कभी अपने हाथों से रेखा की चुचियाँ सहलाती रही, कभी उसकी ड्रेस उठाकर उसकी चूत रगड़ती रही।

मनीष गर्म हो गया और उसकी हरकतें महसूस कर उसने अपना हाथ अपने बरमूडा के अंदर डाल दिया और लंड को सहलाने लगा।

थोड़ी देर बाद रेखा ने माधुरी से फुसफुसाकर कहा, “बहुत हो गया, अब मुझे सोने दो।”
रेखा को नशा चढ़ने लगा था, वो सोने की कोशिश करने लगी.

थोड़ी देर बाद जब रेखा की आंख खुली तो उसे अपने और माधुरी के बीच मनीष का हाथ महसूस हुआ.

अपने दिमाग पर दबाव डालते हुए उसे एहसास हुआ कि मनीष माधुरी के स्तनों को मसल रहा है और शायद माधुरी के हाथ में उसका लंड है।
मनीष ने माधुरी के कान को चूमा तो माधुरी ने अपना सिर घुमा कर उसे चूम लिया और फुसफुसा कर बोली- आज बदमाशी नहीं, आराम से सो जाओ।

लेकिन मनीष नहीं माने और माधुरी से चिपके रहे.

फच फच की आवाज सुनकर रेखा ने ध्यान से अपने कान लगाए और तिरछी नजरों से देखा तो पता चला कि माधुरी ने अपना एक पैर उठाकर मनीष के पैर पर रख दिया है और मनीष ने अपनी उंगली माधुरी की चूत में डाल दी है.
मालिश होने से योनी अपने आप आवाज करने लगी.

माधुरी ने भी मनीष का साथ देते हुए उन्हें किस किया.

मनीष फुसफुसा कर बोला- जानू, एक बार रेखा के स्तन छू लो.
रेखा सिहर उठी.

माधुरी ने कहा- नहीं, उससे दूर रहो. अगले महीने उसकी शादी है. तुम्हें यकीन नहीं है, मम्मी इसे मसल मसल कर गर्म करो और फिर इसके ऊपर चढ़ जाओ.

ये सब सुन कर रेखा की चूत ने भी पानी छोड़ दिया.
उसका मन कर रहा था कि वह मनीष का हाथ पकड़ कर अपनी चूत में डाल ले ताकि तुम भी अपनी हसरतें पूरी कर सको, ओह राजा.

लेकिन रेखा ने खुद चेक किया कि क्या वह अनुज की अमानत सिर्फ अनुज को ही देगी.

माधुरी लेट गईं और रेखा को गले लगा लिया.

थोड़ी देर बाद मनीष का हाथ उसके मम्मों को मसलने लगा.
माधुरी ने कहा- मानो या न मानो.
मनीष ने फुसफुसाते हुए कहा, “बस एक बार रेखा की चुचियाँ छू दो और मैं सो जाऊँगा, कसम से!”

माधुरी ने आह भरी और धीरे से अपना हाथ रेखा की छाती पर रख दिया.
रेखा चुप रही.

अब माधुरी ने धीरे से रेखा की ड्रेस का ऊपरी बटन खोला और रेखा के स्तन पकड़ लिये।
रेखा कसमसा कर बोली- क्या कर रहे हो?
माधुरी बोली- मैं पहली बार कुछ कर रही हूँ, गहरी नींद सो जाओ!

थोड़ी देर बाद माधुरी ने हट कर अपना हाथ हटा लिया और अब रेखा के मम्मों पर एक मर्द का हाथ था.
रेखा सदमे में थी.
वह समझ गई कि यह मनीष का हाथ है.

वह कुछ सोच पाती, इतने में मनीष ने सीधे उसके चूचों के आसपास उसकी गोलाइयों को सहलाना शुरू कर दिया.

रेखा के निपल्स सख्त हो गये थे.
उसे समझ नहीं आ रहा था कि वह करे तो क्या करे.

मनीष ने उसके दोनों स्तनों को बारी-बारी से सहलाया।

माधुरी बीच से हट गई थी और मनीष उससे चिपक गया था.

जैसे ही रेखा का हाथ पीछे हुआ तो उसका हाथ मनीष के फनफनाते लंड से टकरा गया.
उसे करंट सा लगा. पहली बार किसी मर्दाना लंड को छूते हुए रेखा ने घबराहट और शर्म के बावजूद मनीष का लंड अपने हाथों में पकड़ लिया.

अब मनीष ने उसके कान के पीछे चूमा, उसका चेहरा घुमाया और उसके होंठों को चूमा।
शायद मनीष भी उसकी चूत में उंगली करना चाहता था क्योंकि जब उसने रेखा की ड्रेस उठाने की कोशिश की तो माधुरी उठ गई और मनीष से बोली- अब तुम्हारा काम हो गया, या तो चुपचाप सो जाओ या हम दूसरे कमरे में चले जायेंगे।

मनीष गुड नाईट कहते हुए लेट गया.

अब तीनों सोने की कोशिश करने लगे.

प्रिय पाठको, आपको पति की सेक्स कहानी का मजा जरूर लेना चाहिए. मुझे टिप्पणियों में बताएं।
[email protected]

पति की सेक्स कहानी का अगला भाग:

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment