Porn Chachi Sex Kahani – भाई ने मुझे चाची की चुदाई करते देख लिया

पोर्न में आंटी की सेक्स स्टोरी, जब मैंने मौसी की बहन की चुदाई की तो मेरे छोटे भाई ने देख लिया. आंटी और मैंने मिलकर उसे इस सेक्स गेम में शामिल किया।

नमस्कार दोस्तों, मैं फिर से आपका पसंदीदा जीशान हूं।

मेरी आखिरी कहानी थी: एक विदेशी छात्र के साथ पहला सेक्स

उससे पहले का इतिहास
चिकनी चाची और उसकी दो बहनें चुदाई
आप लोगों को सीरीज बहुत पसंद आई और सबसे ने अंजुमन और आलिया की चुदाई के बारे में एक कहानी लिखने को कहा।

मैं सभी से माफी मांगना चाहता हूं। मुझे उनकी चुदाई की कहानी लिखने में काफी वक्त लगा।

काम और पार्टियों की वजह से समय नहीं मिल पाता था।
अब मेरे पास कुछ दिनों की छुट्टी है, इसलिए मैंने सोचा कि मैं वह सेक्स स्टोरी लिखूं जो आप लोगों ने मांगी थी।

यह अश्लील आंटी सेक्स कहानी केवल आप सभी पाठकों के लिए है जिन्होंने पूरी श्रृंखला पढ़ी है, वे इस कहानी को ठीक से समझ पाएंगे।
यदि आप नए पाठक हैं, तो कृपया पूरी श्रृंखला पढ़ें।

मैं इंजीनियर बनने के लिए बैंगलोर गया था।
इससे पहले कि मैं बैंगलोर गया, जैसा मैंने सोचा था वैसा कुछ नहीं हुआ।

मैंने हर महीने अपनी मौसी और चाचा से मिलने की योजना बनाई थी।
लेकिन पढ़ाई के बोझ के कारण मैं पिछले दो महीनों से सेमेस्टर की वजह से घर नहीं जा सका।

संयोग से, मैंने महीने में एक बार घर जाने का फैसला किया था और पहले कुछ महीनों तक ऐसा ही चलता रहा।

पहले सेमेस्टर के बाद मैं छुट्टियों में घर चला गया। पहले मैं अपनी मौसी के घर गया।

आंटी मुझे देखकर एकदम चौंक गईं और उन्होंने मेरा गाल पकड़ लिया और कहने लगीं- हाय जीशान, तुम कितने बदल गए हो? तुम्हारा रंग बदल गया है।
मैं- तुम्हारे जितना रंग नहीं लगा आंटी.

चाचा भी घर पर थे। चाचा ने हालचाल पूछा और पढ़ाई के बारे में पूछा।
मैंने उन्हें सारी बात बताई और हां कहने लगा।

मैंने अंकल के जाने का इंतजार किया।
कुछ देर बाद हम तीनों साथ में खाना खाने लगे।

उसके बाद चाचा जाने लगे।
मैं बाहर खड़ा रहा और अपने चाचा को तब तक देखता रहा जब तक कि उन्होंने सड़क पार नहीं कर ली।

आंटी तुरंत अंदर चली गईं।

अंकल के जाने के बाद मैंने दरवाजा बंद कर लिया और अंदर आकर आंटी को ढूंढने लगा.
आंटी बेडरूम में थी, पूरी तरह नंगी और चुदाई के लिए तैयार।

आंटी- बहुत दिन हो गए जीशान… जल्दी से मुझे ठंडा करो। अब बच्चों के स्कूल से घर आने का समय हो गया है।
मैं – आई लव यू आंटी। तुम्हे पता है मुझे क्या चाहिए।

मैं जल्दी से कपड़े उतारने लगा और बिस्तर पर चला गया।
मैंने आंटी को एक प्यार भरा किस दिया।

मौसी- मेरे बादशाह, दो महीने से नहीं आए। मैंने तुम्हें बहुत याद किया है। मेरी चूत को तुम्हारा लंड बहुत याद आ रहा था. अब आ गया है, देखो कैसे मेरी चूत से पानी छूटता है।
मैं- अब मैं यहाँ हूँ, है ना? मैंने आपको बहुत मिस किया है आंटी।

आंटी वैसे भी सेक्सी होती हैं। उसके निप्पल और भी अच्छे आकार में थे।
मैं जोर-जोर से किस करने लगा और अपनी मां को खूब अच्छे से मसलने लगा.

मैं धीरे धीरे आंटी की चूत में ऊँगली करने लगा.
आंटी की चूत गीली हो गई थी.
मेरा इरादा बिना देर किए नल डालने का था।

आंटी- जीशान मुंह में दे पहले बहुत दिन हो गए।
मैंने बिना देर किए लंड अपने मुँह में दे लिया.

आंटी ने बड़े प्यार से चूसा।
उसने लंड को अंदर तक ले लिया।
मुझे मज़ा आने लगा।

आंटी को सेक्स में काफी मजा आने लगा था.
मैं जन्नत जा रहा था।

दस मिनट तक लंड चूसने के बाद मैं लंड को अपनी चूत में डालने लगा.
आंटी- आराम से। आपके पास अभी भी एक घंटा है।

मैंने आराम से डाला। इस बार मैंने धीरे-धीरे धक्का देना शुरू किया और फिर अचानक जोर से जोर लगाने लगा।

एक जोरदार धक्का लगने से आंटी अचानक जोर-जोर से चिल्लाने लगीं-आआआआआह…बंगलौर में कोई और मिल गया है जो इतना जोशीला है।

मैं- उम्म हां हनी… मैं समझ गया।
आंटी- कौन है?

मैं- उम्म्म्म्म विदेशी वेश्या…बहन बहुत सेक्सी है।
आंटी- आह…आखिर आपको वर्जिन मिला है। इसकी सील तोड़ दी?
मैं- वो वर्जिन नहीं थी…उम्म उसकी सील पहले ही किसी ने तोड़ दी थी।

मैंने आंटी की गर्दन जोर से पकड़ ली और दबाने लगा.

मैं- क्या मैं आलिया की सील तोडूंगा या नहीं?
आंटी- उफ्फ यार… मेरे हाथ में नहीं है… आप सलमा आंटी से पूछ लीजिए.

मैं- सील तोडऩे की मेरी तमन्ना वही रही।
मौसी- क्यों बेटा? तुमने मेरी गांड को पहले मार डाला, क्या तुम नहीं?

आंटी जान की चूत की सील तोड़ने का मजा ही कुछ और है.
मौसी – आज कभी दीदी से जाकर मिल लेना। उनकी शादी भी तय हो गई है।

यह सुनते ही मैं जोर से धक्का मारने लगा।
मुझे गुस्सा आ रहा था, यही मौका था सील तोड़ने का, लेकिन अब उसकी शादी भी तय हो गई है.

ये गुस्सा मैंने अपनी मौसी पर निकाला, मैंने उन्हें जोर से धक्का दिया.
आंटी- आह… अब मुझे मत मारो… मैं कुछ करती हूं।

जोरदार धक्का लगने के बाद आंटी गिर पड़ीं।
I turned aunty into a bitch and started asking her to kick her ass.

आंटी ने सहयोग नहीं किया।
फिर भी मैंने उसे कुतिया बनाने के लिए खींचा और अपना लंड उसकी गांड में जोर से डाल दिया।

आंटी- अरे मम्मी मर गई… लात मार कर ही तेरी भूख मिटेगी… ले!
मैं – मेरी आंटी की गांड सबसे प्यारी है… उम्म।

मैं भी गिरने वाला था।
सिर्फ 5 मिनट के गधे के बाद मैं भी गिर गया और आलिया के बारे में सोचने लगा।

मुझे अंजू की भी याद आती थी।
उसने आंटी की गांड में लंड डाला, पाँच मिनट तक ऐसे ही लेटा रहा और अंजुमन और आलिया के सेक्स के बारे में सोचने लगा।

कुछ देर बाद हम दोनों ने कपड़े पहन लिए।
मैं जाने लगा।

मौसी सलमा दीदी के घर जाती हैं। आलिया घर में है। कुछ सेटिंग करें।
मैं – हाँ मैं वहाँ जा रहा हूँ। आंटी को मत बताना। मैं आश्चर्य करना चाहता हूँ।

फिर मैं वहां से चला गया और सलमा आंटी के घर के पास चलने लगा।
घर के पास कोई नहीं था।

मैं बिना आवाज किए अंदर चला गया।

सलमा आंटी किचन में थीं।
मैंने धीरे से अंदर प्रवेश किया और उसे पीछे से मजबूती से पकड़ लिया।

सलमा आंटी चौंक गईं और मुड़कर मुझे देखने लगीं।
सलमा- हाय जीशान, कब आए? दो महीने से नहीं आया कमीना

इसी बीच मैंने और तेजी से किस करना शुरू कर दिया और ऊपर से नाइटगाउन उतार दिया।
अब तो आंटी सिर्फ ब्रा और पैंटी में ही रह गई थीं।
मैंने उनकी माताओं को दबाया और उन्हें जोर से चूमा।

तभी अचानक कोई अंदर आया।
मेरी गांड फटने लगी।
आंटी का मूड खराब होने लगा।

लेकिन क्या किया जा सकता था?
किसी और ने हमें देखा था।

हम दोनों जल्दी से अलग हो गए।

जैसे ही मैं लौटा, मैंने अपने भाई को देखा।
उसका नाम जीलन है।

जीलन- भैया, कब आए… और यहां क्या कर रहे हो? और उसने क्या किया?
जब मैंने उसे देखा तो मेरी गांड और भी उछल गई।

मेरी अपने भाई के साथ बहुत अच्छी नहीं बनती थी। वह बदमाश हमेशा मेरी शिकायत किया करता था। अब मैं पूरी तरह फंस चुका था।

सलमा- के.. कुछ नहीं बेटा।
वह घबरा कर बोली।

जिलान- पापा को बता दूंगी, सबको बता दूंगी।
वह बाहर आने लगा।

मैंने तुरंत दरवाजा बंद कर लिया और उसे समझाने लगा।
मैं- भैया किसी से कहना मत, तुझे जो चाहिए वो मैं दूंगा। किसी को मत बताना।

सलमा- हां बेटा प्लीज किसी को मत बताना। मैं तुम्हें पैसे दूंगा कृपया।
लेकिन वह नहीं माना।

मैं- तुम यहाँ क्यों आए हो?
जीलन- पापा ने कहा कि आंटी से पैसे मांगो तो मैं आ गई… और तुम फंस गईं।

वह ऊपर सोफे पर बैठ गया, मैं बैठ गया और उसे समझाने लगा।
वो न तो मेरी और न ही आंटी की सुनने को तैयार था.

पहले मैं आपको जीलान के बारे में बता दूं।
जीलन मेरा छोटा भाई है। वह मुझसे केवल एक वर्ष छोटा था, लेकिन मुझसे बड़ा दिखता था।

6 फीट लंबा एक विशाल…Sportz में राष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी था।
उसके पास लड़कियों की कमी नहीं थी, उसने खुद कई लड़कियों को रिजेक्ट कर दिया था।

अब उसे समझाने के लिए एक ही शख्स था वो थी मेरी बुआ।

मैंने तुरंत मौसी को फोन लगाया और आंटी भी परवीन आंटी को लेने लगीं.

सलमा आंटी जीलन को पसंद आने वाली सभी चीजें लाने लगीं।
कुकीज़ शीतल पेय सब उसके लिए।

उसने बाहर जाने की जिद की, लेकिन हमने दरवाजा बंद कर लिया था।

सलमा आंटी ने उसके साथ छेड़खानी करने की कोशिश की।
वह नाइटगाउन में थी। आंटी जान-बूझकर उसके सामने झुकने लगी ताकि वह उसे अपने स्तन दिखा सके।
लेकिन उसने देखकर भी अनसुना कर दिया।

जीलन पढ़ाई में कमजोर थी और मैं पढ़ाई में अव्वल।
उसे हर समय डांट पड़ती थी।
अब उसके पास बदला लेने का एक ही मौका था।
यह ऐसा था जैसे मुझे बदनाम करने का उनका सपना सच हो गया हो।

इसलिए मुझे जल्द ही कुछ करना था।
मैंने अपनी आंटी को सेक्सी ड्रेस पहनकर आने को कहा.

मैं-भाई, हम दोनों भाई हैं। हमें एक दूसरे का समर्थन करना चाहिए। तुम चाहो तो यह सब भी पा लो।
जीलन- मुझे इनमें से बहुत कुछ मिलता है। मुझे यह सब नहीं चाहिए। अब मैं उस असुविधा का बदला लेना चाहता हूँ जो तुमने मुझे इतने वर्षों तक पहुँचाई है।

मुझे खेद है भाई। तुम सबकी बदनामी करोगे, सिर्फ मेरी नहीं, ऐसा मत करो!
तभी दरवाजे की घंटी बजी।

मैंने आंटी को देखने का इशारा किया।
आंटी ने दरवाजा खोला।

चाची और आंटी सेक्सी साड़ी पहन कर आई थीं।

जब मैंने उसे देखा तो मेरा लंड खड़ा होने लगा, लेकिन पहले उसे समझाना जरूरी था.
जीलन- आंटी, देखिए यहां क्या हो रहा है। भाई बुआ के साथ बदसलूकी करता है।

आंटी- हां बेटा, तुम्हारे भाई ने बहुत बुरी तरह से बैंगलोर का सफर तय किया है। मैं अपने पिता को बताता हूं।
जिलान- अब तुम्हें कोई नहीं बचा पाएगा।

आंटी ने आंख मारी और मैं समझ गया।
आंटी और परवीन जीलन के बगल में बैठ गईं।

आंटी ने जीलन को गले से लगा लिया और उससे बातें करने लगीं- तुम कितनी लंबी और खूबसूरत लग रही हो, जीलन!

आंटी की इस हरकत से वह बौखला गए और आवेश में आकर कहने लगे- आह थैंक्स आंटी।
परवीन आंटी अपनी जांघ पर हाथ फेरने लगीं.

परवीन- भाई से भी खूबसूरत हो तुम, हीरो जैसे हो।
अब उसे अच्छा लगने लगा था क्योंकि आंटी ने उसे मुझसे बेहतर कहा था।

चाची ने मुझे और आंटी को कमरे में जाने का इशारा किया।
परवीन आंटी उसके गाल पर किस करने लगीं.

इस बात से जीलन और भी हैरान हो गई- आंटी आप क्या कर रही हैं?
परवीन- हीरो को किस नहीं किया जा सकता इसलिए मैं तुम्हें किस कर रही हूं।

इसी बीच आंटी ने उसे कस कर पकड़ लिया और होठों पर किस कर लिया।
आंटी- ये जीलन मेरा बेटा है, मैं इसे पहले किस करना चाहती हूं.

जीलन तो परेशान हो गई, उसके पसीने छूट गए- आंटी…

इसी बीच परवीन की मौसी ने अपनी पैंट के बटन खोलने शुरू कर दिए।
आंटी ने ऊपर से किस किया।

वह कितना विरोध करेगा, वह भी एक आदमी है। सहयोग भी करने लगे।

कमरे में मुझे न पाकर वह आंटी के साथ संबंध बनाने लगा।

नीचे आंटी ने पैंट उतारी और उनके पैर चूमने लगी.
मैंने और आंटी ने इस सब का वीडियो बना लिया।

इस बीच सभी गर्म हो रहे थे।
इधर सलमा आंटी भी गर्म हो गईं और वो मेरे पैंट में हाथ डालकर मेरे लंड को हिलाने लगीं.

वहां कामुक फुफकार शुरू हो गई।
परवीन आंटी अपने अंडरवियर उतारने लगीं।
आंटी ने ऊपर चूमा।

जीलन- आंटी क्या कर रही हो? मुझे छोड़ दो
इसी बीच मैंने कमरे से मोबाइल ले लिया।

मैं- अभी ज्यादा ड्रामा मत करो, मैंने ये सब रिकॉर्ड किया है. किसी से कुछ कहा तो पहले सबको दिखाना चाहता हूं।
जीलन- अब मुझे पता चला कि तुम चारों एक हो…मुझे पकड़ लिया।

परवीन- इसमें फंसने की क्या बात है, तुम तो बस मजे ले रहे हो!
आंटी ने उसका लंड अपने मुँह में ले लिया और मजे से चूसने लगी.

जीलन जन्नत में जाने लगी- ओह… मौसी… आह उम्म!

आंटी जोर-जोर से लंड चूसने लगीं.
इसी बीच आंटी और सलमा आंटी अपने कपड़े उतारने लगीं।
आंटी ब्रा और पेंटी में आ गई थीं।
सलमा आंटी ने अपना नाइटगाउन निकाला।
अब वे दोनों केवल ब्रा और पैंटी में ही रह गए थे।

जीलन एकदम से चौंक गई।-आह आंटी इतना बड़ा दूध…वाह।

आंटी जाकर उनके पास बैठ गईं और उनका हाथ पकड़ कर अपनी मां के पास रख दिया- ये दूध नहीं, टीट कहलाती हैं. क्या आप अच्छे हैं, क्या आप दूध पीना चाहते हैं?
जिलान- हां दे दो।

जीलन आंटी की मम्मियों को जोर से मसलने लगी, ब्रा उतारी और उनकी मम्मियों को चूसने लगी.
मैं यहां सलमा आंटी के साथ मस्ती करने लगा। मैंने उसे लिटा दिया और उसकी चूत को सहलाने लगा, माँओं को चूसने लगा।

मैं-चुतिये… तुम बहुत लकी हो। इन तीनों को इम्प्रेस करने में मुझे 3 महीने लग गए… और आपने बिना कुछ किए सब पा लिया।
सलमा- अब ये बात कहीं बाहर नहीं जा रही है. आपस में ही रहना चाहिए।

जीलन- इतना मजे लेने के बाद केस कैसे चलेगा आंटी।
मैं- इधर देखो, इन स्तनों को देखो, ये तो आंटी से भी बड़े हैं.

इसी दौरान जीलन गिर पड़े।
वो लंड को अपने मुँह से निकालने लगा.

परवीन- मुँह में डाल ले बेटा।
जीलन- तुम लोग तो खूब एन्जॉय कर रहे हो, सॉरी भाई, मुझे भी पूरा मजा लेना है।

मैं – तुम बस मेरे साथ रहो भाई मजा आएगा।
सलमा, परवीन, आंटी सबने कहा हम सब साथ हैं।

अगले भाग में आप सेक्स स्टोरी को और भी ज्यादा एन्जॉय करेंगे। मुझे ई – मेल कर दें

ईमेल और इंस्टाग्राम के माध्यम से पोर्न आंटी सेक्स स्टोरी के लिए अपनी टिप्पणी और सुझाव साझा करें।
[email protected]
इंस्टाग्राम: @bong_bangalore

पोर्नो आंटी सेक्स स्टोरी का अगला भाग: आंटी की दोनों भतीजियों की है सेक्स स्टोरी – 2

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment