Sexy Bhabhi Lick Fuck Story – मनाली के रिसॉर्ट में प्यार भरी चुदाई

सेक्सी भाभी चाटना चुदाई कहानी में मैंने मनाली के एक रिसॉर्ट में एक खूबसूरत औरत को पूरी तरह नंगी कर दिया और उसके पूरे शरीर को चाट कर उसे गर्म कर दिया. मस्ती करो

दोस्तो, मैं विंश शांडिल्य एक बार फिर आपकी सेक्स ड्राइव को बढ़ाने के लिए अपनी सेक्स कहानी का अगला भाग लेकर हाजिर हूं।
मनाली में मासूम खूबसूरत भाभी को चोदा
अब तक आपने पढ़ा कि मैंने अपनी प्रेमिका कृतिका से वाइन पीने के लिए पूछा और जैसे ही वह मान गई, मैं अपने बैग से वाइन की बोतल ले आया।

अब आगे की सेक्सी भाभी चाटी चुदाई कहानी:

मैंने शराब की बोतल खोली और उसके बगल में बैठ कर पीने लगा.

वो अभी भी लेटी हुई मेरी तरफ प्यार भरी नजरों से देख रही थी.
मैंने उसकी बात काटते हुए कहा- क्या बात है आज बहुत प्यार मिल रहा है?

वह मुस्कुराई लेकिन कुछ नहीं बोली.
फिर उठकर बैठ गया.

अब रोमांचक रोमांस का समय था।
सबसे पहले मैंने अपने मुँह में वाइन भरी और उसके होंठों को चूमा और उसे सारी वाइन पिला दी।

फिर उसने बोतल उठाई और धीरे-धीरे मुँह में डालने लगा।
उसका मुँह खुला हुआ था.

थोड़ी सी वाइन उसके मुँह में चली गई और आधी से ज़्यादा वाइन उसके मुँह से निकल कर उसके चुचों से होती हुई उसके पेट को छूती हुई, फिर उसकी नाभि पर और उसकी चूत पर गिर गई।

क्या नज़ारा था… मानो उसके मुँह से मुझे मदहोश करने के लिए झरना गिर गया हो।

मैं अपना मुँह उसकी चूत के पास ले गया और उसकी चूत को सोमरस के साथ पीने लगा।
सच में बहुत ही अच्छा और अलग स्वाद था उस शराब का.. जो कृतिका की चूत से होती हुई मेरे मुँह में आ गई।

उस समय मैं ऐसी कल्पना में खोया हुआ था मानो मैं स्वर्ग में हूँ और कोई अत्यंत सुंदर अप्सरा अपनी चूत रूपी बर्तन से मुझे मदिरा पिला रही हो।
फिर मैंने वाइन की बोतल एक तरफ रख दी और उसके शरीर से सारी वाइन चाट कर साफ कर दी.

उसके बाद मैं उसकी चुचियों से खेलने लगा.
अब वो भी फिर से मदहोश होने लगी थी और प्यार से मेरे बालों में अपनी उंगलियाँ फिराने लगी थी।

अभी मुझे उसके शरीर से खेलते हुए कुछ ही देर हुई थी कि उसने मुझे नीचे धकेल दिया और खुद मेरे ऊपर चढ़ गई और मेरे होंठों और छाती को पागलों की तरह चूमने लगी।

चूमते ही उसने हाथ बढ़ा कर मेरा लंड पकड़ लिया और मेरी जांघों तक पहुंच गयी.
वो मेरे लंड को, जो उसकी मुट्ठी में आधा सोया हुआ था, हिलाने लगी.
सच कहूँ तो मुझे बहुत मजा आया.

तो उसके बाद वो मुझे पागलों की तरह चूमने लगी और चूमते-चूमते उसने मेरे शरीर पर कई लव बाईट भी दे दिये।
उसने मुझे बिस्तर पर पीछे धकेल दिया, मेरा लंड पकड़ लिया और उसे पूरा मुँह में लेकर चूसने लगी।

अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैंने उसे बिस्तर पर खींच लिया और कहा- सारी रात ऐसा क्यों कर रही हो?
वो थोड़ा शरमा गयी और मुझे चूमने लगी.

मैंने उसे एक तरफ लिटाया और उसके पूरे शरीर को चूमते-चाटते उसकी चूत तक पहुंच गया।

उसकी चूत के दाने को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा.
उसने भी अपनी गांड उठा कर अपनी चूत चुसवाई.

मैंने चूत के दाने को मुँह में लेकर चूसा और अपनी एक उंगली से उसके छेद को सहलाया.
सहलाते सहलाते मैंने कई बार उसकी चूत में उंगली डालने की कोशिश की, लेकिन वो जाने नहीं देती थी.
शायद उसे दर्द हो रहा था.

जब मैंने उससे पूछा तो उसने कहा कि कल मैंने दवा ली थी, लेकिन तुमने मुझे जानवरों की तरह बहुत रौंदा. इसका एहसास आज होगा. मुझे नहीं पता कि आज मेरे साथ क्या होगा.
मैंने हैरानी जताई- आप दो बच्चों की मां हैं. तो कितना दर्द?

उन्होंने कहा कि ये दोनों बच्चे सर्जरी से पैदा हुए हैं और उनके पति का लिंग मेरे लिंग से आधा ही आकार का है. किसी तरह बच्चे अभी-अभी हुए थे। लेकिन उसने काफी समय से सेक्स नहीं किया है.
ये सब जानकर मैं हैरान रह गया. लेकिन फिर भी मैं उसे चोदने के लिए काफी उत्साहित था.

अब उसकी सहनशीलता की कोई सीमा नहीं थी, जिसका एहसास उसकी सिसकियों से पता चल रहा था.

वो पागल हो रही थी और उसने अपने दोनों हाथों से मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत में दबा लिया, मानो मुझे अपनी चूत में धकेलना चाहती हो।

जब उससे रुका नहीं गया तो उसने कहा- प्लीज़ बाबू, मुझे अब और मत तड़पाओ… मैं और नहीं रुक सकती… अब अपना लंड मेरे अंदर डाल दो जान… चोदो मुझे शोना!

जैसे ही वो चिल्लाई, मैंने उसके दाने को और ज़ोर से मसल दिया।

मुझे लगा कि लोहा गर्म है और देर नहीं करनी चाहिए.
मैं उठ कर उसकी जाँघों के बीच आ गया और उसके दोनों पैरों को फैला कर बीच में बैठ गया, अपना लंड उसकी चूत के ऊपर रख दिया।
मेरे लंड पकड़ते ही उसके शरीर में मानो बिजली दौड़ गयी.

मैंने धीरे से अपने लंड से उसकी चूत के दाने को रगड़ा और उसकी चूत के मुँह पर रख कर हल्का सा धक्का दे दिया.
मेरा लंड आधा घुस गया और उसकी चूत को फाड़ दिया.

वह दर्द से चिल्ला उठी.
उसने बिना कोई दवा खाए सेक्स किया तो उसका असली दर्द सामने आ गया.

लेकिन अब रहम करने का कोई रास्ता नहीं था, आख़िर उसे दर्द तो होना ही था… लेकिन बेवजह कोशिश करने का कोई मतलब नहीं था।

तभी मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रख दिया और उसके ऊपर लेट कर उसके होंठों को अपने होंठों से लॉक कर लिया.
मैं उसके होंठों पर चुम्बन का मजा लेने लगा.

जब उसका पूरा ध्यान किस पर था तो मैंने ही उसकी चूत में एक जोरदार धक्का मारा.
मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया था.

वो दर्द से छटपटाने लगी और खुद को मुझसे छुड़ाने की नाकाम कोशिश करने लगी.

लेकिन मुझे पता था कि यह होने वाला है इसलिए मैंने पहले से ही उस पर अपनी पकड़ मजबूत बना रखी थी ताकि वह जाने न दे।
उसकी हालत अब बिन पानी की मछली जैसी हो गयी थी.

हम दोनों ने फिर से एक अच्छा और लम्बा चुंबन किया।

मुझे लगा कि अब उसका दर्द कम हो गया है और वह अपनी गांड को थोड़ा-थोड़ा हिला रही है इसलिए मैंने उसे फिर से किस करते हुए उसे पकड़ लिया और उसकी चूत में एक जोर का धक्का मारा।
मेरा पूरा लंड उसकी चूत को फाड़ता हुआ फिर से जड़ तक अन्दर घुस गया.

इसके साथ ही वह बहुत जोर से चिल्लाई- ऊऊईईई म्म्म्म… माँ मर गई प्लीज़… बाहर निकलो ओ ओइस्स… जान अब नहीं रह रहा है… मैं मर रही हूँ प्लीज़ बाबू आह!

लेकिन मैंने उसकी बात को अनसुना करते हुए एक और धक्का मारा और अपना लंड उसकी चूत में जड़ तक पेल दिया और शांत हो गया.
अब मैं अपने आप पर कंट्रोल करते हुए उसे चूमने लगा और उसकी चुचियों को सहलाने लगा.

कुछ मिनट तक उसकी चुचियों से बड़े प्यार से खेलता रहा.
इसके बाद ऐसा लगा कि अब वह सामान्य हो रही हैं।

उसने अपनी बांहों से हार मेरे गले में डाल दिया.
अब मुझे भी जल्दी नहीं करनी थी.

मैंने पूछा- अब तो तबीयत ठीक है?
लेकिन वो कुछ नहीं बोली और बस इशारे से जवाब दिया कि हाँ अब ठीक है.

मैंने उसे चूमा-चाटा, तो उसकी कमर में हरकत हुई.
मैं समझ गया कि मेरा लंड अब चुदाई के लिए तैयार है.

अब मैंने देर न करते हुए धीरे-धीरे अपने लंड को स्पीड दी.
पहले तो मैंने उसे बहुत धीरे-धीरे चोदा, लेकिन थोड़ी देर बाद उसने मुझसे कहा- अब सब ठीक है, जैसे चाहो मुझे चोदो!
मैंने पूछा- दर्द क्यों नहीं हो रहा?

“जो होना था हो गया, अब तो बस तुम्हें रात भर चोदना है।”
मुझे उसका ये जवाब मिला और मैंने धीरे धीरे अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू कर दी.

अब उसे भी मजा आने लगा, वो भी पूरी ताकत से गांड हिला कर मेरा साथ देने लगी.
जैसे-जैसे मेरी स्पीड बढ़ती गई, वो और भी जोश में आ गई.

सोने पर सुहागा यह हुआ कि उनकी बातें भी उग्र हो गईं।
अब से पहले मैंने उन्हें कभी इतनी खुलकर बात करते नहीं सुना था. लेकिन वो कहते हैं न कि जब सेक्स का जादू सिर चढ़कर बोलता है तो अच्छी चीजें बदल जाती हैं.

उसका भी यही हाल था.
हर धक्के के साथ वो चिल्लाने लगती- हाँ… आह्ह और ज़ोर से हाँ, विन्श आज मुझे पूरी तरह से अपना बना लो, मेरी प्यास बुझा दो और ज़ोर से प्लीज़।

ऐसे ही चिल्लाते हुए वो अकड़ने लगी और झड़ गयी.
लेकिन मेरा जोश और बढ़ गया इसलिए मेरे धक्के भी बर्दाश्त नहीं हो रहे थे.

फिर भी मैं धक्के लगाता रहा और करीब 5 मिनट के बाद ऐसा लगा कि अब मेरा भी पानी निकलने वाला है तो मैं पूरे जोश में आ गया और बहुत तेजी से धक्के लगाने लगा.

अब तक उसकी हालत बहुत खराब हो चुकी थी, वह एक और बार के लिए तैयार थी और बहुत बुरी हालत में थी।
उसने मेरे हर धक्के का उतनी ही तेजी से उत्तर दिया।

अब तूफ़ान अपने चरम पर पहुँच गया था, मैंने उससे पूछा- कहाँ जा रहा है?
उसने कहा- अब मैं तुम्हारी हूँ, जहाँ चाहो.. निकाल लो।

इतना कहते ही मैं और वो एक साथ झड़ने लगे और मैंने उसकी चूत को अपने लंड की मलाई से भर दिया.
मैं झड़ते ही उसके ऊपर गिर गया.

हम दोनों एक दूसरे की बांहों में थे, एक दूसरे को प्यार से पकड़ रहे थे.
कुछ देर बीतने के बाद मैंने कहा- मुझे भूख लगी है.

वह उठी और अपने साथ कुछ खाना और शराब की बोतल लेकर चली गयी।
दोनों ने खाना खाया और शराब भी पी।

फिर एक साथ लेट गईं और फिर से एक साथ चोटी बना लीं।

उस रात हमने 4 बार सेक्स किया और एक-दूसरे के गले में बाहें डालकर सो गये।
अगले दिन जब हमारी आंख खुली तो सुबह के 11 बजे थे.

कोई टेंशन नहीं थी क्योंकि मुझे ऑफिस नहीं जाना था.
हम दोनों उठे, मुँह धोया और नाश्ता करके एक दूसरे के पास बैठ गये और बातें करने लगे।

हम दोनों इतने करीब थे कि हमारी सांसें एक-दूसरे से टकरा रही थीं और इस वजह से मुझे फिर से खुमारी चढ़ने लगी थी.

मैंने तुरंत उसके बाल खींचे और उसके होठों को आपस में चिपका लिया और उसे जोर से चूम लिया।

वो अभी मेरी ऐसी हरकत के लिए तैयार नहीं थी लेकिन फिर सामान्य होकर बोली- सर के इरादे ठीक नहीं लग रहे हैं.
मैंने कहा- मैं तुम्हें फिर से मसलना चाहता हूँ.
उसने कहा- हां मसलो ना.. वो बंद हो गया है.

जैसे ही उसने इतना कहा, मैं उस पर टूट पड़ा और उसने अब तक जो ब्रा और पैंटी पहनी हुई थी, उसे भी उतार कर उसके शरीर से अलग कर दिया और उसके ऊपर ओढ़ा दिया।

उसकी चुचियों को मसलने लगा और उसकी चूत पर मुँह लगा कर उसे चूसने और काटने लगा.
मेरी हर हरकत पर उसकी आह निकल जाती थी.

अब वो भी गर्म हो गई थी और मैंने भी देर न करते हुए अपना लंड एक ही झटके में उसकी चूत में जड़ तक डाल दिया.
शायद अब तक उसे भी इसकी आदत हो गयी थी इसलिए उसे ज्यादा दर्द नहीं हुआ और वो भी मजे से अपनी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी.

अब मैंने भी अपनी स्पीड बहुत तेज कर दी और उसे पागलों की तरह चोदने लगा.
तो थोड़ी देर बाद हम दोनों ने अपना अपना पानी एक दूसरे के ऊपर उगल दिया.

हम दोनों की साँसें थम चुकी थीं।

जब तूफ़ान थम गया तो उसने कहा-तुमने तो मेरा ऐसा उपहास किया मानो मेरे प्राण ही छीन लोगे।
मैंने कहा- मुझे क्या करना है, मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा है … क्योंकि तुम हो ही ऐसी माल.

हम दोनों हंसने लगे.
तो उसके बाद हम फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चले गये.

वहां भी एक बार फिर तूफान आया और हम तरोताजा होकर बाहर आये.

वे बाहर सोफ़े पर बैठ गये और बातें करने लगे।
उस दिन मैंने उसे तीन बार चोदा.

उन 5 दिनों में मैंने उसे कई बार कई तरह से चोदा, उसकी गांड भी मारी और उसने भी मेरा पूरा साथ दिया।
फिर हम वापस आ गये.

उसके बाद भी हम कई बार मिले और मैंने उसके घर जाकर कई बार उसे चोदा। मैं कई रातों तक उसके घर पर भी रुका और पूरी रात मेरा लंड उसकी चूत में हंगामा मचाता रहा.
सच में उसके साथ बहुत मजा आया.

आज हम साथ नहीं हैं, लेकिन उनका हर स्पर्श आज भी महसूस होता है.

दोस्तो, मेरे लेखन को यहीं विराम दें, मेरा आप सभी पाठकों से अनुरोध है कि चाहे आपको मेरी सेक्स कहानी पसंद आए या नहीं, मुझे लिखना न भूलें।

साथ ही सेक्स भाभियों और आंटियों से अनुरोध है कि अगर उन्हें मेरी इस सेक्सी भाभी चाट चुदाई कहानी में कहीं भी अपनी कोई छाप दिखे तो कृपया मुझे अपने विचार ईमेल करें. यदि आप मुझसे बात करना चाहते हैं और अपना अनुभव साझा करना चाहते हैं, तो मुझे लिखना न भूलें।
मैं आपके मेल का इंतज़ार कर रहा हूँ.
आपका अपना वंश शांडिल्य
[email protected]

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment