Xxx Sister-in-law Sex Kahani – यह आग कभी नहीं बुझती

Xxx सिस्टर इन ला सेक्स स्टोरी में मैंने अपने ननदोई जी के मोटे लंड से चुदाई की. दरअसल उनको पता चल गया था कि मैं अपने जीजा से सेक्स करके आई हूं. तो उसने इसका फायदा उठाया और मुझे इसका मजा मिला.’

सुनिए ये कहानी.


कहानी का तीसरा भाग
वो ‘सजा’ जो बन गई मजेदार
अब तक आपने पढ़ा कि 40 साल की कामुक महिला नीलम अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए कृतसंकल्प है। इसी सिलसिले में वह अपने पति की सहमति से गैर मर्द जीतू के साथ जाती है और पहली बार किसी गैर मर्द के लंड से सेक्स का मजा लेती है. जीतू भी खुश हो जाता है और नीलम को एक कीमती उपहार देता है। इस नई अनुभूति से संतुष्ट और खुश होकर, वह वापस रिसॉर्ट पहुंचती है जहां उसकी मुलाकात अपने जीजा से होती है। जीजाजी उसे राज़ बनाये रखने के लिए चोदना चाहते हैं। नीलम ने जीजाजी के इस प्रस्ताव को खुशी-खुशी स्वीकार कर लिया।

नीलम के मन में क्या ख्याल आते हैं जब उसका जीजा उसे दो बार चोदने के बाद उसके बगल में लेट जाता है और राहत की सांस लेता है।

इस धमाकेदार Xxx सिस्टर इन ला सेक्स कहानी में पढ़ें कि उसके साथ आगे क्या होता है:

आज शादी ख़त्म हो गई, दूल्हा-दुल्हन कल शाम को हनीमून मनाने वाले हैं, लेकिन मैंने खुद आज अपने जीजाजी के साथ ‘गैर मर्द रात’ मनाई थी।
मैं ख़ुशी में डूब रही थी कि 2 दिन में यह दूसरा नया लंड मेरी चूत में घुस रहा था।

जब हम दोनों की सांसें सामान्य हो गईं तो जीजाजी उठे, उन्होंने अपना पायजामा और कुर्ता पहना, धीरे से दरवाजा खोला और अपने कमरे में पहुँच गये।

उसके जाने के थोड़ी देर बाद मैं भी उठ गया.
मैंने अपने साथ लाये रुमाल से अपनी चूत साफ़ की, ड्रेस पहनी और धीरे से बिना आवाज़ किये दरवाज़ा खोला और इस कमरे से निकल कर मैं अपने कमरे में पहुँची और चुपचाप दीदी के पास जाकर लेट गयी।

इन 2 दिनों में दो लंडों के आनंद से तृप्त होकर, मस्ती में डूबकर मैं सो गई और अपने साथ हुई पूरी घटना को अपने मन में दोहराने लगी।

मुझे क्या पता था कि सामने वाले कमरे की खिड़की से दो आँखें मुझे घूर रही थीं।

अगले दिन हम अपने-अपने शहर के लिए निकल पड़े।
जीजाजी अपने शहर जयपुर चले गये और हम चित्तौड़ आ गये।

अभी मेरी ननद और देवरानी महिपाल हमारे साथ थे.

घर पहुँच कर पूरे घर की सफ़ाई की, चाय बनाई।
उसके बाद मैंने खाना बनाना शुरू किया.

इधर मेरे पति सुनील कुछ जरूरी सामान खरीदने बाजार गये थे.
मेरी भाभी वहां नहा चुकी थीं.

इसी बीच मैंने देखा कि जब मैंने खुद को अकेला देखा तो मेरा ननदोई महिपाल आंखों में शरारत लेकर मेरी तरफ आया.

मैंने उसकी आंखों में छिपी बुराई को समझने की कोशिश की.

इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाती.. उससे पहले वह मेरे पास आया और आश्चर्य से मुझसे बोला- नीलू सच बताओ तुम और तुम्हारे जीजाजी कल हमारे सामने वाले कमरे में ढाई घंटे तक क्या कर रहे थे?

मैं कांप उठा, मेरा चेहरा सफेद पड़ गया.
अभी मैं एक खूबसूरत मुसीबत से छुटकारा भी नहीं पा सका था कि इनाम के तौर पर एक और नई मुसीबत मुझ पर आ पड़ी।
मेरा कामुक मन तेजी से कम होने लगा.

इतना कि अब मुझे यह भी पता चल गया था कि यह मुसीबत मुझे फिर से किसी गैर मर्द के अधीन ले जायेगी।
जैसे जीजाजी ने जीतू के साथ सेक्स करने के राज़ की कीमत मेरी चूत से वसूल की, वैसे ही ननदोई जी अब जीजाजी के साथ सेक्स करने के राज़ की कीमत मेरी चूत से वसूल करेंगे।

मुझे समझ नहीं आ रहा था कि ननदोई जी से क्या कहूँ?
मैं चाहती थी कि ननदोई जी को पता न चले कि मैं नया लंड लेने के लिए उतावली हूँ.

इसलिए मैंने नादान बनते हुए सीधे महिपाल से पूछ लिया- तुम मुझसे क्या चाहते हो? मुझे साफ साफ बताओ?
महिपाल जी बोले- देख नीलू, तेरा बदन इतना नशीला है कि अगर मेरी जगह किसी मर्द को मौका मिलता तो वो तेरे साथ सेक्स का मजा लेना चाहता. अब जब तुमने अपने जीजा को अपने ऊपर चढ़ने दिया है तो हम भी कुछ हद तक सही हैं। तुम्हारा जीजा तुम्हारी बहन का पति है, मैं सुनील की बहन का पति हूँ। नीलू, ननद ही नहीं, भाभी* आधी घरवाली भी होती है।

ऊपर से तो मैं घबराया हुआ लग रहा था, लेकिन अंदर मेरे नये लंड की प्यासी चूत फिर से पानी उगलने लगी.
मैंने फिर उदास आवाज में कहा- ननदोई जी, अब मैं क्या कर सकती हूं? आप भी अपनी इच्छा पूरी करें. अब गलती हुई है तो सजा भी मिलनी चाहिए। जब तुम्हें मौका मिले तो या तो मुझे बताओ या मैं तुम्हें बता दूँगा।

महिपाल की लंबाई मेरे पति जितनी ही थी लेकिन उसका वजन कहीं ज्यादा था, कम से कम 90 किलो।

अब मैं कल्पना करने लगा कि क्या मैं इतना वजन उठा पाऊंगा?
और उनके लंड उनके शरीर जितने मोटे होंगे या नहीं?

और जैसा कि मैंने पहले बताया, मुझे किसी आदमी की गोद में छुपे रहने में मजा आता है।
लेकिन जब मैंने महिपाल को देखा तो मुझे लगा कि जब वह मुझ पर अपना वजन डालेगा तो मुझे कुचल ही देगा.

लेकिन जो भी हो, अब तो मुझे उसके भारी शरीर के नीचे रहना ही था।
पहले महिपाल मेरे राज़ की कीमत मांगता था, जो अब मेरी दमित इच्छा बन गयी है।

हमारी बात ख़त्म हो गई.

इसलिए भाभी रानी भी नहा कर आ गयी थी और सुनील भी बाजार से सामान ले आया था.

उसके बाद नन्द रानी ने मुझसे कहा- मुझे चित्तौड़ का किला देखे हुए कई वर्ष हो गये, मेरी इसे देखने की बड़ी इच्छा है! चलो आज वहीं चलते हैं.
मैंने कहा- यार भाभी, मैं बहुत थक गया हूँ, घरेलू काम भी फैल गया है, आराम करना चाहता हूँ।

उधर महिपाल ने भी जब इतनी जल्दी मुझे चोदने का मौका देखा तो बोला- यार सुनील, मैं कुछ दिन पहले काम के सिलसिले में चित्तौड़ आया था तो अपने दोस्तों के साथ किले पर गया था. तुम ऐसा काम करो कि तुम दोनों भाई-बहन बन जाओ. मैं भी आराम करना चाहता हूं.

घर से किले तक पैदल चलकर आने में कम से कम ढाई घंटे का समय लगा होगा।

उन दोनों के जाते ही मैंने मुस्कुराते हुए महिपाल से कहा- दीदी और सुनील किला देखने गए हैं, तब तक तुम किला भी जीत लो।
‘अंधा क्या मांगे, दो आंखें’

मेरी बात सुनकर ननदोई जी खुश हो गये.
वह बाथरूम गया और आसानी से कमरे में लौट आया।

उसने बिना समय बर्बाद किये तुरंत अपने सारे कपड़े उतार दिए और मुझे भी पूरा नंगा कर दिया.
मैंने देखा कि उसका लंड लटका हुआ था और गीला था.
साफ़ था कि वो अपना लंड धोकर आये थे और अपना लंड चुसवा कर चुदाई शुरू करना चाहते थे।

मुझे भी कोई आपत्ति नहीं थी, क्योंकि मुझे ताज़ी धुली मुलायम लड़कियों को चूसना बहुत पसंद है।
क्योंकि जब मेरे पति नहा कर आते हैं तो मैं रोज उनका ताज़ा लंड चूसती हूँ.

मैंने घुटनों के बल बैठ कर महिपाल का लंड अपने मुँह में ले लिया और उसके लंड को सहलाते हुए अपनी जीभ का कमाल दिखाने लगी.

ननदोई जी के मुँह से आनन्द भरी सिसकारियाँ निकल पड़ीं।
उसका लंड धीरे धीरे फूलने लगा.

ननदोई महिपाल मेरी उम्र का ही है इसलिए दो-तीन मिनट में ही उसका लंड पूरा तन गया.
क्योंकि उसे ओरल सेक्स के मजे के साथ-साथ नई चूत मिलने का रोमांच भी मिल गया था.

मैंने देखा कि उसका लंड मेरी उम्मीद के मुताबिक पुष्कर के जीतू, मेरे पति सुनील और मेरे जीजा इन तीनों के लंड से ज्यादा मोटा था।

मुझे लगा कि इस बार भगवान की कृपा है कि मुझे तीन दिन में एक के बाद एक तीन नये मुर्गे मिल गये।
और आज मुझे सबसे मोटा लंड मिलने वाला था जो मेरी चूत चाटना चाहता था.

मैंने महसूस किया कि जब किसी गैर मर्द का लंड किसी औरत की चूत में जाता है तो उसकी झिझक खुल जाती है.
उसके बाद उसकी चूत को नये नये लंड की लत लग जाती है.
फिर उसे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उसकी चूत में कितने लंड गये.

मैं अपने कामुक विचारों से तभी बाहर आई जब महिपाल जी ने मुझे चोदने के इरादे से अपना सख्त लंड मेरे मुँह से बाहर निकाला।
मैं उठ कर बिस्तर के किनारे पर बैठ गया.

ननदोई जी ने मुझे उसी स्थिति में लिटा दिया और मेरी दोनों टाँगें घुटनों से मोड़कर बिस्तर पर टिका दीं और मेरी जाँघें फैला दीं।
अब मेरी टपकती हुई चूत उसके लंड को निमंत्रण देने के लिए खुल गयी.

महिपाल जी ने सबसे पहले उसकी चूत को चाट-चाट कर गीला किया और अपने लंड पर लाल सुपारे को थूक से चुपड़ लिया।

मैंने भी सहयोग किया और चोदने के लिए तैयार होकर अपनी उंगलियों से अपनी चूत के बाहरी होंठों को फैलाया।
ननदोई जी ने चूत के बीच में लंड को एक जोर का झटका दिया.

जब पहली बार ऐसा लगा कि मेरी चूत फट गई है, मेरी सांसें पूरी तरह से रुक गई हैं… लेकिन कुदरत ने गंदगी में इतनी लोच दी है कि वह बड़े से बड़े लंड को आसानी से अपने अंदर समा लेती है।

कुछ ही देर में ननदोई जी का मोटा लंड मेरी चूत में मजबूती से जड़ जमा चुका था.

अब वह मेरे ऊपर झुककर धीरे-धीरे मेरे दोनों स्तनों को बारी-बारी से चूसने लगा।

मुझे उनको धीरे धीरे चोदने में बहुत मजा आ रहा था.

लेकिन मुझे महिपाल के भारी शरीर के नीचे दबने का नरक आनंद लेना था।

मैंने भाभी की ननद से कहा- अब मुझे लेटने दो और मेरे ऊपर आकर अपने जीजा की बीवी को चोदो.

महिपाल जी हँसने लगे और बोले- नीलू, तुम मेरे वजन से मर जाओगी।
तो मैंने कहा- अगर मैं तुम्हारे नीचे दब कर और तुम्हारे मोटे मजबूत लंड से चुद कर मर भी जाऊं, तो भी वो कितनी खूबसूरत होगी!

मेरी बात से ननदोई जी जोश से भर गये.
उसके बाद उसने फिर से अपना लंड मेरी चूत में पेल दिया और मुझे पकड़ कर जैसे मैं चाहती थी, वैसे ही मुझे चोदने लगा.

हमारा तीव्र शाप कम से कम 15 मिनट तक चला।

पहले तो मुझे लगा कि आज मैं चरमोत्कर्ष पर नहीं पहुँच पाऊँगी क्योंकि मैंने 2 दिन तक लगातार चुदाई की और रात को भी मैंने अपने जीजाजी के साथ चुदाई की।
लेकिन नए चेहरों और नए मुर्गों में कुछ खास बात है.
महिपाल जी के मांसल लंड ने मेरे शरीर को उत्तेजना से भर दिया क्योंकि मैं फिर से चरम पर पहुंचने लगी थी।

मैंने महिपाल जी से कहा- यार, मेरा हो रहा है, अब इसे बिना रुके जोर जोर से रगड़ो!

महिपाल जी ने सेक्स की स्पीड को पैसेंजर से एक्सप्रेस में बदल दिया.
दो मिनट में ही मैं पागल होने लगी.
घर में कोई नहीं था.. मैं चिल्लाने लगी- मजा आ गया महिपाल.. मजा आ गया यार.. पहले क्यों नहीं चोदा? भाभी इतनी खुशनसीब है कि जब चाहे आपके कड़क लंड से चुदाई का मजा लेती है.

मेरी चरम सीमा मेरी चूत पर दस्तक दे रही थी कि महिपाल के लंड से वीर्य का प्रवाह चूत को बेचैन कर रहा था.

लेकिन… इससे पहले कि लंड बेजान होता, मैंने उसे पकड़ लिया और योनि के मुँह पर दो-चार बार रगड़ा और मुझे चरम सुख, चरम सुख ही मिला।

जो आदमी मेरी बहन और मेरे पति की बहन को चोदते थे, उन्होंने भी बारी-बारी से मुझे चोदा।

अत्यधिक खुशी के क्षणों में मेरी सांसें ऐसे फूलती थीं मानो मैं किसी के नीचे दबा नहीं बल्कि दौड़कर किसी ऊँचे पहाड़ पर चढ़ रहा हूँ।
Xxx सिस्टर इन ला सेक्स के बाद मैं आमतौर पर मस्ती के सागर में डूबकर काफी देर तक अपनी सांसें रोके रखता था।

जब सुनील और मेरी ननद किला देखकर लौटे तो मैं रसोई में काम कर रही थी और ननदोई जी नहाने गये थे।
उन्हें पता ही नहीं चला कि हम दोनों पीछे से कौन सा सेक्स गेम खेल रहे थे.

शाम को भाभी और महिपाल जी भी अपने घर चले गये.
रात को मैं सुनील की बांहों में थी.

पिछले कुछ दिनों से उसे चोदने का मौका नहीं मिला है.
तभी उसने मुझे चोदने की चाहत से अपना हाथ आगे बढ़ाया.

लेकिन मैंने कहा- नहीं यार, आज तो बिल्कुल भी रौनक नहीं है.
वो बोला- अरे यार, कितने दिन हो गये तुझे चोदे हुए! आज मुझे तुम्हें चोदने दो!

मैंने कहा- चाहे तुम्हें चोदे हुए कितने भी दिन हो गये हों! लेकिन इन 3 दिनों में मेरी चूत को तीन गैर मर्दों के नए लंड मिल चुके हैं.

सुनील एकदम चौंक गया और बोला- क्या कह रहे हो? मुझे पुष्कर के जीतू के बारे में पता है, बाकी दो मर्द कौन हैं जिन्होंने तुम्हें चोदा? जल्दी बताओ यार?

मैंने सुनील को उन तीनों आदमियों की कहानी विस्तार से बतायी।

उसका तगड़ा लंड सुनकर और भी अकड़ गया.
उन्होंने उत्साह से कहा – जो कुछ भी होता है, भनचौद, आज मैं आपकी गांड को मारकर अपने तूफान को ठंडा कर दूंगा।

सुनील ने मुझे सिर के बल लिटा दिया और अपने लंड और मेरी गांड पर ढेर सारा तेल लगा कर चिकना कर दिया और दांत भींच कर जोर से अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया.
मेरे मुँह से घुटी-घुटी चीख निकली- जालिम हरामी, थोड़ा आराम से मार मुझे!

उसके बाद सुनील कहने लगा- मैंने सोचा था कि आज तुम्हें चोद कर खुश कर दूंगा. लेकिन यहां मामला कुछ और ही निकला. तू तो बड़ी मूर्ख निकली नीलू!

उसके बाद वासना के आवेग में सुनील ने मेरी गांड को कैसे खोखला कर दिया, मैं बता नहीं सकती.
लेकिन मुझे ख़ुशी थी कि उसने कोई नाराज़गी व्यक्त नहीं की बल्कि मेरी घटना से उसे अतिरिक्त उत्तेजना भी मिली।

10 मिनट की शानदार गांड चुदाई के बाद सुनील ने मेरी गांड में वीर्य छोड़ दिया।
फिर वह अपना पूरा वजन मेरी पीठ पर डालकर स्खलन का आनंद लेता रहा।

तीन दिन में तीन नए नल लेकर मैं कामसुख से पूरी तरह संतुष्ट हो गया।
पहले तो ऐसा लगा जैसे मेरी चूत को दूसरा लंड नहीं चाहिए.
लेकिन सेक्स गेम में ऐसा ज्यादा देर तक नहीं होता.

जैसे ही कुछ दिन बीते, मेरा शरीर फिर से बेचैन होने लगा, मेरे मन में फिर से वासना जागने लगी और मेरी आँखें कुछ नया मज़ा, फिर एक नई अनुभूति, फिर एक नया आदमी ढूंढने लगीं!

सवाल था- ये आग कब बुझेगी?
उत्तर है- शरीर की यह अग्नि कभी नहीं बुझती।

तो मेरे भावुक और कामुक पाठको, आप सभी को यह सच्ची Xxx सिस्टर इन माय फ्रेंड सेक्स स्टोरी कैसी लगी?
कृपया हमें अपने फीडबैक से अवगत कराएं।
मैं निश्चित रूप से उचित विचारों के साथ उत्तर दूंगा।

कई पाठक अनावश्यक रूप से बहुत ज्यादा बातें करते हैं, ऐसी बातों से बचें।

[email protected]

*सलाहेली > सलहज

मौसी को अपनी बीवी बना के चोदा चोदी की

कैसे हो प्यारे दोस्तो? मुझे उम्मीद है कि आप लोग सब मजे कर रहे होगे. आपके इसी मजे को बढ़ाने ...

शादी के बाद भी कुंवारी रही लड़की की चुदाई की कहानी

प्यारे दोस्तो … मेरा नाम आशीष है भीलवाड़ा राजस्थान से हूँ. मैं XXXVasna का पुराना पाठक हूँ. काफी दिनों से ...

गांड मारकर गुड मॉर्निंग कहा- Sexy Bhabhi Ki Chudai

मैं काम के सिलसिले में मुंबई चला आया क्योंकि हमारा शहर बहुत छोटा है और वहां पर मुझे ऐसा कुछ ...

भैया बन गए सैंया- Bhai Behen ki Chudai

मेरे 12वीं के एग्जाम नजदीक आने वाले थे और मैं बहुत घबराई हुई थी क्योंकि मैंने इस वर्ष अच्छे से ...

पापा अपनी छमिया के साथ- Romantic Sex Story

हेलो दोस्तो। मेरा नाम पारुल (उम्र २०) है। मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली कामुक कहानी आप लोगों को पेश कर ...

कामवाली के साथ रंगरेली मनाई- Kaamvali Ki Chudai

कामुक कहानी पढ़ने वाले दोस्तों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम मोहन गुप्ता (उम्र २२) है। मैं नोएडा में रहता हूँ। ...

Leave a Comment